• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • Exclusive: कश्मीर में 'दखल' नहीं देगा तालिबान, अनस हक्कानी ने पाकिस्तान से रिश्तों पर दी सफाई

Exclusive: कश्मीर में 'दखल' नहीं देगा तालिबान, अनस हक्कानी ने पाकिस्तान से रिश्तों पर दी सफाई

अनस, हक्कानी नेटवर्क के संस्थापक जलालुद्दीन हक्कानी के बेटे हैं. (तस्वीर: Special arrangement)

अनस, हक्कानी नेटवर्क के संस्थापक जलालुद्दीन हक्कानी के बेटे हैं. (तस्वीर: Special arrangement)

Taliban in Afghanistan: हक्कानी नेटवर्क के संस्थापक जलालुद्दीन हक्कानी के बेटे अनस ने CNN-News18 के साथ बातचीत में भारत और पाकिस्तान के साथ संबंध और कश्मीर मुद्दे पर तालिबान का पक्ष रखा. ये रहे चर्चा के कुछ अंश-

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

काबुल. तालिबान (Taliban) के शीर्ष नेताओं में से एक अनस हक्कानी (Anas Haqqani) ने साफ कर दिया है कि वे कश्मीर मुद्दे (Kashmir Issue) में दखल नहीं देंगे. साथ ही उन्होंने कहा है कि तालिबान भारत समेत अन्य देशों के साथ अच्छे संबंध चाहता है. अमेरिका की करीब दो दशकों बाद अपने मुल्क वापसी हो गई है. अब लगभग पूरे अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा है. इस नए इस्लामिक शासन को लेकर चर्चाएं विश्व स्तर पर हैं.

हक्कानी नेटवर्क के संस्थापक जलालुद्दीन हक्कानी के बेटे अनस ने CNN-News18 के साथ बातचीत में भारत और पाकिस्तान के साथ संबंध और कश्मीर मुद्दे पर तालिबान का पक्ष रखा. ये रहे चर्चा के कुछ अंश-

  • आप दुनिया और उसके समर्थन को किस तरह से देखते हैं?

    हमारी नीति के अनुसार, हम दूसरों के मामलों में दखल नहीं देंगे और दूसरों से भी हमारे मामलों में हस्तक्षेप नहीं करने की उम्मीद करते हैं. हम सौहार्दपूर्ण तरीकों से मसले सुलझाना चाहते हैं. हमारे दरवाजे सभी के लिए खुले हैं. हम बाकी दुनिया के साथ अच्छे संबंध चाहते हैं.
  • हक्कानी नेटवर्क के पाकिस्तान ISI और पाक सेना से करीबी संबंध हैं. अब आप अफगानिस्तान सरकार का हिस्सा हैं, तो उनके साथ आपके संबंध कैसे होंगे?

    हमने 20 साल संघर्ष किया है. हमारे खिलाफ गलत प्रोपेगैंडा चलाया जा रहा है और यह गलत है. हक्कानी नेटवर्क कुछ नहीं है. हम सभी के लिए काम कर रहे हैं. दुनियाभर और खासतौर से भारत की मीडिया हमारे खिलाफ गलत प्रचार कर रही है. यह माहौल खराब कर रहे हैं. युद्ध में कभी कोई पाकिस्तानी हथियार का इस्तेमाल नहीं हुआ. ये आरोप झूठे हैं और निराधार हैं.
  • हक्कानी नेटवर्क भारत के साथ किस तरह के संबंध चाहता है?
    हम भारत के साथ अच्छे रिश्ते चाहते हैं. हम नहीं चाहते कि कोई हमारे बारे में गलत सोचे. भारत ने हमारे दुश्मन की 20 सालों तक मदद की है, लेकिन हम सब भुलाकर संबंध आगे ले जाने के लिए तैयार हैं.
  • पाकिस्तान हक्कानी के काफी करीबी हैं और कश्मीर में लगातार दखल दे रहे हैं. क्या आप भी पाकिस्तान का समर्थन करने के लिए कश्मीर में हस्तक्षेप करेंगे?

    कश्मीर हमारे अधिकार क्षेत्र में नहीं है और दखल देना हमारी नीति के खिलाफ है. हम हमारी नीति के खिलाफ कैसे जा सकते हैं? यह साफ है कि हम हस्तक्षेप नहीं करेंगे.
  • तो आप कह रहे हैं कि आप कश्मीर मुद्दे पर दखल नहीं देंगे? और हक्कानी JeM और LeT का कश्मीर मुद्दे पर समर्थन नहीं करेंगे?

    हमने कई बार यह साफ कर दिया है और मैं यह दोबारा कह रहा हूं कि यह केवल प्रोपेगैंडा है.
  • अगर भारत अफगानिस्तान में अटके हुए प्रोजेक्ट्स को पूरा करना चाहता है, तो क्या आप अनुमति देंगे?

    हम आने वाले दिनों में नीतियां पूरी तरह साफ कर देंगे. हम अफगानिस्तान के लोगों के लिए पूरी मदद चाहते हैं. हम चाहते हैं कि केवल भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया आए और हमारा समर्थन करे.
  • अफगानिस्तान में कई अफगान सिख और हिंदू हैं. क्या आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि वे सुरक्षित हैं?

    मैं इस बात का भरोसा दिलाना चाहता हूं कि अफगानिस्तान में सभी सुरक्षित हैं. शुरुआत में कुछ घबराहट और डर था, लेकिन अब चीजें ठहर गई हैं और लोग खुश हैं. अफगान के सिख और हिंदू भी अफगानिस्तान के दूसरे समुदायों की तरह हैं और वे खुशी से रहेंगे.
  • 2020 में अमेरिका ने गुरुद्वारा हमले का आरोप हक्कानी पर लगाया था. इसपर आपका क्या कहना है?

    यह सब हमारे दुश्मनों और मीडिया का प्रोपैगेंडा है. यह गलत और झूठ है. हमने ऐसा कभी नहीं किया.
  • 2016 में आपको मौत की सजा सुनाई गई थी, लेकिन बाद में रिहा कर दिया गया था. आप तालिबान में क्या भूमिका निभाएंगे?

    मुझे तालिबान में अपनी भूमिका के बारे में नहीं पता. समय बताएगा और हमारी भूमिका तय करेगा. मैं एक मुसलमान हूं और चीजें जैसी होती हैं, वैसे स्वीकार कर लेता हूं. हम हमारे बड़ों और नेताओं की बात मानेंगे.
  • अफगानिस्तान में महिलाएं डर के साए में जी रही हैं और कह रही हैं कि आजादी खत्म हो चुकी है. आप महिलाओं को क्या भरोसा दिलाना चाहेंगे?

    आने वाले दिनों में यह (गलत) साबित हो जाएगा. हम महिलाओं और पुरुषों के लिए सभी नीतियों की घोषणा करेंगे और सब कुछ पारदर्शी होगा.
  • क्या आप पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच डुरंड रेखा को स्थाई सीमा के रूप में स्वीकार करेंगे?

    मैं अभी कुछ भी पुष्टि नहीं कर सकता. हमारे बड़े इस पर फैसला लेंगे और घोषणा करेंगे.
  • अफगानिस्तान में सरकार के गठन की क्या स्थिति है. हम काबुल में कब तक सरकार की उम्मीद कर सकते हैं?

    बड़ी समस्या खत्म हो चुकी है. अमेरिका जा चुका है. इंतजार खत्म हो चुका है और जल्द ही हमारे पास सरकार के गठन की अच्छी खबर होगी.
  • काबुल में किस तरह की सरकार की उम्मीद कर सकते हैं?

    समय के साथ इसकी घोषणा की जाएगी. हम इसके बारे में सार्वजनिक रूप से बात नहीं करना चाहते. मुझे इसके बारे में कुछ नहीं पता.
  • तालिबान को मान्यता और भविष्य में संबंधों को लेकर आप दुनिया को क्या संदेश देना चाहते हैं?

    दुनिया जानती है कि हम प्रतिबद्ध हैं और हम प्रोपेगैंडा के खिलाफ हैं. अफगानिस्तान में जो लोग लड़ना चाहते थे, उनका पर्दाफाश हो चुका है. हम दुनिया में सभी के साथ अच्छे संबंध चाहते हैं. हम चाहते हैं कि दुनिया हमारे मामलों में दखल न दे और हम भी उनके मसलों में दखल नहीं देंगे.
  • पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज