Exit Poll Results 2019: मायावती-अखिलेश यादव का गणित फेल, जनता पर चला मोदी-योगी की केमिस्ट्री का जादू!

Exit Poll Results 2019: Lok Sabha Election एग्जिट पोल रिजल्ट लोकसभा चुनाव परिणाम: यूपी में 60 से अधिक सीटों का अनुमान!

News18Hindi
Updated: May 20, 2019, 11:05 AM IST
News18Hindi
Updated: May 20, 2019, 11:05 AM IST
दिल्ली की सत्ता तक जाने वाला रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर गुजरता है. उत्तर प्रदेश देश की राजनीति की दिशा तय करता है. क्योंकि यूपी में लोकसभा की सबसे अधिक 80 सीटें हैं. 2014 में इनमें से 71 सीटें बीजेपी की झोली में गईं, जिससे उसकी प्रचंड बहुमत से सरकार बनी. इसलिए सबका फोकस यूपी के एग्जिट पोल पर है. यहां जिसकी सीटें ज्यादा रहेंगी समझिए उसकी सरकार बन सकती है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांसद बनने के लिए यूपी की जमीन चुनी तो कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सक्रिय राजनीति में एंट्री के बाद इसी यूपी को अपनी कर्मभूमि बनाने का फैसला किया. इसी सियासी जमीन को हथियाने के लिए मायावती ने भी अपनी धुर विरोधी समाजवादी पार्टी से हाथ मिलाकर काशीराम के फॉर्मूले पर चुनाव लड़ा.



ये यूपी का ही वोटर था जिसने 2009 में 20 सीटें जीतने वाली मायावती को 2014 में जीरो सीट पर आउट कर दिया था. इसलिए इस बार सपा-बसपा गठबंधन ने जातियों का गणित लगाया. इस गणित में नजर दलित, मुस्लिम और ओबीसी वोटों पर थी. लेकिन केमिस्ट्री दिखी बीजेपी के साथ. News18-Ipsos के उत्तर प्रदेश लोकसभा एग्ज़िट पोल 2019 में एनडीए सरकार बनाता नजर आ रहा है तो इसमें सबसे बड़ा योगदान यूपी का दिख रहा है. इस सर्वे के मुताबिक यूपी में एनडीए को 60 से 62 सीटें मिलतीं नजर आ रही हैं. सपा-बसपा गठबंधन को 17 से 19 सीटें मिलती दिख रही हैं तो कांग्रेस सिर्फ दो सीटों पर सिमटती दिखाई दे रही है.

(ये भी पढ़ें: बसपा ने कहा-मायावती बना सकती हैं मजबूत और समतामूलक भारत!)

 एग्जिट पोल रिजल्ट 2019, लोकसभा चुनाव परिणाम, Exit Poll 2019, News18-Ipsos exit poll 2019, Lok Sabha Chunav, लोकसभा चुनाव परिणाम, उत्तर प्रदेश, uttar pradesh, bjp, बीजेपी, sp, समाजवादी पार्टी, bsp, बहुजन समाज पार्टी, बसपा, कांग्रेस, congress, uttar pradesh Exit Poll, उत्तर प्रदेश एग्जिट पोल          फोटो: भारत का नक्शा

इस सर्वे के मुताबिक कुल मिलाकर गठबंधन का फॉर्मूला यूपी में फेल नजर आ रहा है. राजनीतिक जानकार इसकी बड़ी वजह कांग्रेस को भी बता रहे हैं. वरिष्ठ पत्रकार टीपी शाही कहते हैं कि यूपी में मोदी और योगी फैक्टर चलता नजर आ रहा है. एग्जिट पोल के परिणाम को देखते हुए ऐसा लग रहा है कि जनता ने गठबंधन को बुरी तरह से नकार दिया है. बीजेपी ने आवास योजना, उज्जवला योजना और टॉयलेट बनवाकर लोगों के बीच अच्छी पकड़ बनाई है. विपक्ष की इतनी घेराबंदी के बाद भी अगर एग्जिट पोल में 60 से अधिक सीटें बीजेपी को मिलती नजर आ रही हैं तो समझ सकते हैं कि जनता ने कितना विश्वास किया है. बीजेपी ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम से भी काफी वोट बटोरा है.

ये भी पढ़ें:
Loading...

क्या इरोम शर्मिला, शिवखेड़ा और प्रकाश झा के लिए नहीं बनी है राजनीति?

बंगाल में किसका बेड़ा पार लगाएगी ईश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति?

कम-ज्यादा वोटिंग का गणित क्या सच में बदल देता है चुनावी परिणाम!
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...