हरदीप सिंह पुरी बोले- यात्रियों की बढ़ रही संख्या, दीपावली तक सामान्य हो जाएंगी उड़ानें

इस वर्ष के अंत तक कोविड पूर्व के स्तर को पा लेंगे: नागरिक विमानन मंत्री
इस वर्ष के अंत तक कोविड पूर्व के स्तर को पा लेंगे: नागरिक विमानन मंत्री

Domestic Passenger Traffic: हरदीप सिंह पुरी ने कहा, '25 मई को हमने नागरिक विमानन सेवाएं शुरू की थीं तो उस वक्त यात्रियों की संख्या 30,000 थी. आज मुझे जो आंकडें मिले हैं उनके अनुसार कल यात्रियों की संख्या 1.76 लाख थी. हम दिवाली और इस वर्ष के अंत के बीच की अवधि में कोविड पूर्व के स्तर तक लगभग पहुंच जाएंगे.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2020, 11:09 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. नागरिक विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Civil Aviation Minister Hardeep Singh Puri) ने शनिवार को कहा कि घरेलू हवाई यात्रियों की संख्या इस वर्ष के अंत तक कोविड-19 (COVID-19) के पहले के स्तर तक पहुंच सकती है. पुरी ने कहा कि महामारी के कारण दो माह तक बंद रहने के बाद जब 25 मई से घरेलू उड़ान सेवा शुरू की गई तो यात्रियों की संख्या 30,000 थी जो अब बढ़कर प्रतिदिन 1.76 लाख यात्रियों पर पहुंच गई है.

हरदीप सिंह पुरी ने कहा, '25 मई को हमने नागरिक विमानन सेवाएं शुरू की थीं तो उस वक्त यात्रियों की संख्या 30,000 थी. आज मुझे जो आंकडें मिले हैं उनके अनुसार कल यात्रियों की संख्या 1.76 लाख थी. हम दिवाली और इस वर्ष के अंत के बीच की अवधि में कोविड पूर्व के स्तर तक लगभग पहुंच जाएंगे.' उन्होंने कहा कि एयरलाइंस, भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण और अन्य पक्षकारों की एक बैठक बुलाई जाएगी और इस बात पर चर्चा की जाएगी कि चंडीगढ़ शहर से कितनी और उड़ानें शुरू की जा सकती हैं. उन्होंने कहा,'हम अपने मौजूदा तंत्र के भीतर ही चंडीगढ़ से संपर्क बढ़ाने पर विचार करेंगे.'

भारत को अगले 5 सालों में होगी 9488 पायलटों की जरूरत: हरदीप सिंह पुरी
अभी कुछ दिन पहले ही नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि अगले पांच वर्षों में भारत में अनुमानित 9,488 पायलटों की आवश्यकता होगी. पुरी ने कहा था, 'वर्तमान में संचालित विमानों के साथ देश में कार्यरत पायलटों की कुल संख्या 9,073 है.' उन्होंने कहा कि विमानन नियामक DGCA द्वारा एक वर्ष में 700-800 वाणिज्यिक पायलट लाइसेंस जारी किए जाते हैं. पुरी ने कहा कि इनमें से 30 प्रतिशत सीपीएल उन लोगों को दिए जाते हैं, जिन्होंने किसी विदेशी संगठन में प्रशिक्षण लिया है.
ये भी पढ़ें: अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें: इन देशों ने भारतीय उड़ानों पर आपत्ति क्यों जताई?



ये भी पढ़ें: T-90s के सामने टिक नहीं पाएंगे चाइनीज टैंक, -40 डिग्री में करेंगे देश की रक्षा

विमानन क्षेत्र को कोरोना वायरस महामारी ने काफी प्रभावित किया है. इसलिए, सभी घरेलू वाहक पिछले कुछ महीनों में वेतन में कटौती, छंटनी या छुट्टी जैसे विभिन्न लागत-कटौती उपायों को लागू कर चुके हैं. वहीं केंद्र सरकार ने तीन एयरपोर्ट पर सुविधाएं बढ़ाने और विकास कार्यों के लिए 108 करोड़ रुपये मंजूर कर दिए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज