Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    Haj 2021: कोरोना के चलते बढ़ा हज पर जाने का खर्च, अब एक यात्री को देने पड़ सकते हैं 5.27 लाख रुपये

    फाइल फोटो: एयर इंडिया
    फाइल फोटो: एयर इंडिया

    गौरतलब है कि कोरोना वायरस (Corona) संक्रमण के चलते ही वर्ष 2020 में भारत (India) से कोई हज के लिए नहीं जा पाया था.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 16, 2020, 11:01 AM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Corona) के चलते हज 2021 (Haj 2021) में कई बड़े बदलाव किए गए हैं. यात्रा से लेकर रिहाइश तक में कई अहम बदलाव किए गए हैं. खास बात यह है कि इन बदलावों का असर हज यात्रा के खर्च पर भी पड़ा है, जिसके चलते आने वाली हज यात्रा बहुत महंगी (Expensive) हो सकती है. अभी हज कमेटी ऑफ इंडिया (Haj committee india) की और से सिर्फ एक अनुमानित रकम बताई जी रहा है, लेकिन आगे चलकर इसमें और इजाफा होने की भी उम्मीद है. 2021 में एक यात्री पर कम से कम 1.27 लाख रुपये का फर्क आ सकता है.

    हज 2019 के मुकाबले 2021 के खर्च में एक यात्री पर यह आएगा फर्क

    हज कमेटी ऑफ इंडिया की वेबसाइट के मुताबिक 2021 में होने वाली हज यात्रा पर अनुमानित खर्च कम से कम 3.70 लाख रुपये आना तय है. वहीं दूसरे खर्च शामिल करने और कुछ चीज़ों पर महंगाई बढ़ने के बाद यह रकम 5.27 लाख रुपये तक पहुंच सकती है. जबकि 2019 की यात्रा के दौरान यही खर्च कम से कम 2.48 लाख रुपये और अधिकतम 3.22 लाख रुपये था. हालांकि 2020 में हज यात्रा पर भारत से कोई नहीं जा सका था. इसके बावजूद हज कमेटी की ओर से खर्च का ब्योरा जारी किया गया था, जिसके मुताबिक न्यूनतम खर्च 2.50 लाख रुपये और अधिकतम 3.50 लाख रुपये निर्धारित किया गया था.



    ये भी पढ़ें- सर्दियों में अब तक की सबसे महंगी मूंगफली खाने को रहें तैयार, जानिए क्या है रेट
     


    हज 2021 के लिए यह हो रहे हैं बड़े बदलाव

    कोरोना के चलते भीड़ में अगर कुछ सबसे ज़्यादा जरूरी है तो वो है सोशल डिस्टेंसिंग. जानकारों का कहना है कि सोशल डिस्टेंसिंग के चलते ही हज यात्रा 2021 में कई बड़े बदलाव किए गए हैं. इसी बदलाव के चलते सबसे ज़्यादा खर्च ट्रांसपोर्टेशन के चलते बढ़ने वाला है. मेट्रो, बस का सफर हज के दौराना करना होता है. बस में 45 लोग एक साथ बैठते थे, लेकिन अब सिर्फ 15 यात्री ही बैठेंगे. वहीं दूसरी जगह है रिहाईश. पहले के मुकाबले होटल के कमरे में अब कम लोग एक साथ ठहराए जाएंगे.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज