Home /News /nation /

exporting terrorism to india has been pakistan policy for 3 decades ceasefire is just a hoax

'कश्मीर एजेंडा कायम रखने के लिए आतंकवाद को हवा दे रहा पाकिस्तान', सेना बोली- सीजफायर सिर्फ एक ढोंग

जम्मू कश्मीर में आतंक को खत्म करने के लिए सेना ने अपना अभियान तेज कर दिया है. (फाइल फोटो)

जम्मू कश्मीर में आतंक को खत्म करने के लिए सेना ने अपना अभियान तेज कर दिया है. (फाइल फोटो)

Pakistan, Jammu Kashmir, PoK, Ceasefire: श्रीनगर स्थित सेना के पीआरओ कर्नल एमरोन मुसावी ने बयान जारी करते हुए कहा कि पाकिस्तान के नापाक मंसूबों को पुनर्जीवित करने और जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान सेना द्वारा किया गया युद्ध विराम समझौता केवल एक छलावा है. उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में आतंकियों को निर्यात करना ही पाकिस्तान की पिछले तीन दशकों में नीति रही है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में धारा 370 हटने के बाद से काफी बदलाव हुआ है. युवाओं की सोच बदली है और सेना ने आतंकवाद (Terrorism) के खिलाफ अपने अभियान को कई गुना तेज किया है. सेना और पुलिस की बढ़ती सख्ती के बाद आतंकी भारत में अपने नापाक मंसूबों को अंजाम नहीं दे पा रहे हैं. विशेष दर्जा खत्म होने के बाद से अब तक सैकड़ों आंतकियों को मौत के घाट उतार दिया है. इस बीच गुरुवार को भारतीय सेना ने पाकिस्तान (Pakistan) को संघर्ष विराम (Ceasefire) समझौते की आड़ में नया छल करने के लिए फटकार लगाई है.

कुपवाड़ा में 3 आतंकी किए गए ढेर
भारतीय सेना ने पाकिस्तान को कश्मीर में अपने खत्म होते एजेंडे को पुनर्जीवित करने लिए अपने नापाक मंसूबों को फिर से आगे बढ़ाने के लिए फटकार लगाई है. सेना की तरफ से यह बयान कुपवाड़ा जिले के केरन सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ की एक कोशिश को नाकाम करने के बाद आया जिसमें सेना ने ऑपरेश के बाद तीन पाकिस्तानी आतंकवादियों को मार गिराया था.

भारत में आतंकी निर्यात करना ही पाकिस्तान की नीति
श्रीनगर स्थित सेना के पीआरओ कर्नल एमरोन मुसावी ने बयान जारी करते हुए कहा कि पाकिस्तान के नापाक मंसूबों को पुनर्जीवित करने के लिए आतंकवाद को बढ़ावा देने की कोशिश में लगा हुआ है और जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान सेना द्वारा किया गया युद्ध विराम समझौता केवल एक छलावा है. उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में आतंकियों को निर्यात करना ही पाकिस्तान की पिछले तीन दशकों में नीति रही है.

प्रवक्ता ने कहा, ‘‘भारतीय सेना के प्रभावी अभियानों और घाटी में आने वाले पर्यटकों की बड़ी संख्या से पैदा शांति के परिणामस्वरूप पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू कश्मीर (पीओजेके) में आतंकवादी आकाओं की बढ़ती हताशा स्पष्ट है’’

उन्होंने कहा, ‘‘तीन पाकिस्तानी आतंकवादियों का मारा जाना और बड़ी मात्रा में हथियारों की बरामदगी स्थानीय लोगों की शांति और समृद्धि और आसन्न अमरनाथ यात्रा को बाधित करने के इरादे का स्पष्ट संकेत है.’’

घुसपैठ की कोशिश की नाकाम
आपको बता दे कि जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में सुरक्षा बलों ने बृहस्पतिवार को घुसपैठ की एक कोशिश नाकाम कर दी और इस दौरान उनकी कार्रवाई में लश्कर-ए-तैयबा के तीन आतंकवादी मारे गए जबकि सेना के साथ काम करने वाले एक पोर्टर की भी मौत हो गई.

एक रक्षा प्रवक्ता ने कहा, ‘‘सेना ने 26 मई, 2022 को केरन सेक्टर के अग्रिम इलाकों में घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया, जिसमें तीन आतंकवादी मारे गए और बड़ी मात्रा में हथियार एवं गोला बारूद बरामद किया गया.’’

उन्होंने कहा कि पुलिस सहित कई एजेंसियों की संयुक्त खुफिया जानकारी के आधार पर अभियान शुरू किया गया था. उन्होंने कहा, ‘‘कई खोजी दलों का गठन किया गया था, जिन्होंने तलाशी अभियान चलाया. नियंत्रण रेखा (एलओसी) के करीब अग्रिम इलाके में 26 मई को सुबह 4.45 बजे आतंकवादियों के साथ आमना सामना हुआ जिससे भारी गोलीबारी हुई.’’ प्रवक्ता ने कहा कि मुठभेड़ में एक नागरिक की भी जान चली गई.

(इनपुट भाषा के साथ)

Tags: Indian army, Jammu kashmir, Pakistan, Terrorism

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर