प्रधानमंत्री मोदी का पत्र लेकर कुवैत जाएंगे विदेश मंत्री जयशंकर

भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर (फाइल फोटो)

भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर (फाइल फोटो)

विदेश मंत्री एस जयशंकर (External Affairs Minister S Jaishankar) बुधवार को तीन दिवसीय यात्रा पर कुवैत (Kuwait) जा रहे हैं, जहां वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) द्वारा कुवैती अमीर शेख नवाफ अल-अहमद अल-सबा के लिए लिखा पत्र भी ले जाएंगे. यह यात्रा द्विपक्षीय संबंधों को और आगे बढ़ाने के तरीके तलाशने के लिए केंद्रित होगी.

  • Share this:

नई दिल्ली.  विदेश मंत्री एस जयशंकर (External Affairs Minister S Jaishankar) द्विपक्षीय संबंधों को और आगे बढ़ाने के तरीके तलाशने के लिए बुधवार को तीन दिवसीय यात्रा पर कुवैत (Kuwait) जा रहे हैं, जहां वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi)  द्वारा कुवैती अमीर शेख नवाफ अल-अहमद अल-सबा के लिए लिखा पत्र भी ले जाएंगे.

विदेश मंत्री के तौर पर जयशंकर की यह पहली कुवैत यात्रा होगी. विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘‘विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर, कुवैत के विदेश मंत्री (Kuwait Foreign Minister) और कैबिनेट मामलों के राज्य मंत्री, शेख अहमद नासिर अल-मोहम्मद अल-सबा  के निमंत्रण पर 9-11 जून को कुवैत का दौरा करेंगे.’’ विदेश मंत्रालय ने कहा, ’यात्रा के दौरान वह उच्च स्तरीय बैठकें करेंगे और कुवैत में भारतीय समुदाय को भी संबोधित करेंगे.’

ये भी पढ़ें  भारत यात्रा पर कुवैत के विदेश मंत्री शेख अहमद, कई अहम मुद्दों पर होगी चर्चा

पीएम मोदी का लिखा पत्र भी साथ होगा
जयशंकर प्रधानमंत्री की ओर से कुवैत के अमीर को लिखा एक व्यक्तिगत पत्र भी ले जाएंगे. यह यात्रा दोनों देशों द्वारा ऊर्जा, व्यापार, निवेश, जनशक्ति और श्रम तथा सूचना प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्रों में संबंधों को मजबूत करने की एक रूपरेखा तैयार करने के लिए एक संयुक्त मंत्री स्तरीय आयोग स्थापित करने का निर्णय लेने के लगभग तीन महीने बाद हो रही है.

ये भी पढ़ें  Coronavirus In India: 282 सिलेंडर, 60 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स के साथ कुवैत से आई मदद

भारत का दौरा कर चुके हैं कुवैत के विदेश मंत्री



कुवैती विदेश मंत्री (Kuwait Foreign Minister) शेख अहमद नासिर अल-मोहम्मद अल-सबा ने मार्च में भारत का दौरा किया था, जिसके दौरान दोनों पक्षों ने संयुक्त आयोग के गठन का फैसला किया. वर्ष 2021-22 में भारत और कुवैत के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना की 60वीं वर्षगांठ है. कुवैत में करीब दस लाख भारतीय रहते हैं जो दोनों देशों के संबंधों को एक महत्वपूर्ण आधार प्रदान करते हैं. भारतीय समुदाय, कुवैत में सबसे बड़ा प्रवासी समुदाय है.


सबसे बड़े व्यापारिक भागीदारों में से एक

भारत, कुवैत के सबसे बड़े व्यापारिक भागीदारों में से एक है और यह खाड़ी देश भारत को तेल का प्रमुख आपूर्तिकर्ता है. ऐतिहासिक रूप से भारत और कुवैत के बीच महत्वपूर्ण व्यापार संबंध रहे हैं और भारत लगातार कुवैत के शीर्ष व्यापार भागीदारों में शामिल रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज