फेसबुक ने किया यूजर्स का डेटा लीक और बोला झूठ, अब भरना होगा पांच अरब डॉलर का जुर्माना

डाटा चोरी के एक माामले में फेसबुक भरेगा 5 अरब डॉलर का जुर्माना (फाइल फोटो)

अमेरिकी कंपनियों के लिए कानून बनाने वाली संस्था FTC की ओर से पांच अरब डॉलर का जुर्माना सोशल नेटवर्किंग साइट पर लगाया गया है.

  • Share this:
    अमेरिकी कंपनियों के लिए कानून बनाने वाली संस्था की ओर से बुधवार को फेसबुक के साथ हुए समझौते की शर्तों का खुलासा किया है. इसमें कथित पांच अरब डॉलर का जुर्माना सोशल नेटवर्किंग साइट पर लगाया गया है. फेडरल ट्रेड कमीशन (एफटीसी) की लंबी जांच के बाद यह फैसला हुआ है. यह समझौता फेसबुक को डेटा संरक्षण में खामियों के मामले में मुकदमे से बचाएगा.

    हालांकि यह अभी भी साफ नहीं है कि भविष्य में ऐसा न हो यह सुनिश्चित करने के लिए फेसबुक पर किस तरह के प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं और इसके लिए किन चीजों की जरूरत होगी. फेसबुक पर 2.7 अरब यूजर हैं. द वाल स्ट्रीट जर्नल के अनुसार फेसबुक के सीईओ एवं संस्थापक मार्क जुकरबर्ग को समझौते के क्रियान्वयन के लिए व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार ठहराया जाएगा.

    फेसबुक ने दिया कोई भी झूठा बयान तो बढ़ेगी सजा
    युवा अरबपति को तीन-तीन महीने के अंतराल पर यह प्रमाणित करने के लिए एफटीसी के पास जाना होगा कि उनकी कंपनी समझौते का पालन कर रही है. वाल स्ट्रीट जर्नल ने कहा कि स्थिति की जानकारी रखने वाले एक अज्ञात सूत्र ने अखबार से कहा कि कोई भी झूठा बयान उन्हें सजा की ओर बढ़ा देगा. यह भी कहा गया है कि नियमों का पालन कराने की जिम्मेदारी कंपनी के निदेशक मंडल की भी होगी.

    वाशिंगटन पोस्ट ने कहा कि इसके अतिरिक्त एफटीसी समझौते के साथ शिकायत में यह भी बताएगा कि फेसबुक ने फोन नंबरों और चेहरा पहचानने वाले टूल के इस्तेमाल को लेकर किस तरह यूजर्स को गुमराह किया. नियामक के पांच सदस्यीय बोर्ड ने दो के मुकाबले तीन मतों से समझौते को स्वीकार कर लिया. फेसबुक के पास 2.7 अरब से अधिक यूजरों का डेटा है. यह डेटा इसकी सर्वाधिक मूल्यवान संपत्ति है जिसका इस्तेमाल सोशल नेटवर्किंग साइट भारी विज्ञापन राजस्व अर्जित करने के लिए करती है.

    ये हैं वे वजहें जिनके चलते फेसबुक भरेगा जुर्माना
    फेसबुक के ऊपर जुर्माना लगाए जाने के पीछे मुख्यत: तीन वजहें हैं. इसमें सबसे महत्वपूर्ण कैंब्रिज एनलिटिका डेटा ब्रीच का मामला है. फेसबुक ने यूजर्स से झूठ बोला कि फेशियल रिकॉग्निशन डिफॉल्ट ऑफ है. यूजर्स के फोन नंबर को सिक्योरिटी के लिए मांगा गया और फिर फेसबुक ने फोन नंबर्स को टार्गेट ऐड के लिए इस्तेमाल किया है.

    क्या है फेडरल ट्रेड कमीशन(FTC)
    यह अमेरिका की एक स्वतंत्र संस्था है. इसे फेडरल ट्रेड कमीशन ऐक्ट के तहत बनाया गया है. यह संस्था किसी कंपनी के ग्राहकों के हितों की रक्षा करनी है. FTC ग्राहकों या कंपनियों की शिकायतों की जांच करने का काम करती है. इन शिकायतों में फ्रॉड और भ्रामक विज्ञापनों आदि की शिकायतें भी शामिल हैं.

    यह भी पढ़ें: Faceapp के बाद अब इस वेबसाइट से पेंटिंग्स में बदलिए फोटो

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.