Home /News /nation /

अब आपका चेहरा ही बनेगा बोर्डिंग पास, देश में 4 एयरपोर्ट्स पर लगने जा रही हैं FTR मशीन

अब आपका चेहरा ही बनेगा बोर्डिंग पास, देश में 4 एयरपोर्ट्स पर लगने जा रही हैं FTR मशीन

एफटीआर को मार्च 2022 तक लगाए जाने की संभावना है.

एफटीआर को मार्च 2022 तक लगाए जाने की संभावना है.

Facial recognition technology at 4 airports: डिजी यात्रा सिस्टम के यात्रियों के चेहरे को एक बार सिस्टम में रजिस्टर्ड किया जाएगा. इसके बाद उन्हें टर्मिनल में प्रवेश करते वक्त अपनी पहचान साबित करने के लिए किसी भी तरह का कोई पहचान पत्र दिखाने की जरूरत नहीं होगी.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. जल्द ही एयरपोर्ट पर आपको किसी भी तरह के बोर्डिंग पास की जरूरत नहीं होगा. आपका चेहरा ही एयरपोर्ट पर बोर्डिंग पास की भूमिका निभाएगा. गुरुवार को लोकसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए नागरिक उड्डयन मंत्रालय के राज्य मंत्री जनरल वी के सिंह ने कहा, जल्द ही देश के 4 एयरपोर्ट (वाराणसी, पुणे, कोलकाता और विजयवाड़ा) में डिजी यात्रा के तहत चेहरे की पहचान तकनीक (एफआरटी) मशीनें लगाई जाएंगी. उन्होंने कहा कि मंत्रालय एफआरटी (आधारित बायोमेट्रिक बोर्डिंग सिस्टम) पर तेजी से काम कर रहा है.

    उन्होंने कहा कि प्रस्तावित डिजी यात्रा सेंट्रल इको-सिस्टम को मार्च 2022 में लाइव करने की योजना है. इन 4 एयरपोर्ट्स पर काम पूरा होने के बाद इस सिस्टम को देश के विभिन्न एयरपोर्ट्स पर लगाए जाएगा.

    यात्री डेटा के साथ किसी तरह की छेड़छाड़ को रोकने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए सुरक्षा उपायों के बारे में पूछे जाने पर जनरल वी के सिंह ने कहा, डिजी यात्रा नीति के अनुसार डिजी यात्रा सेंट्रल इकोसिस्टम के लिए पंजीकरण करना यात्री के लिए विकल्प होगा. डिजी यात्रा सेवाओं का लाभ उठाने के लिए, यात्री संबंधित प्रस्थान हवाई अड्डे के बायोमेट्रिक बोर्डिंग सिस्टम को एक ऐप के माध्यम से यात्रा विवरण (पैक्स विवरण, पीएनआर और चेहरे की बायोमेट्रिक्स) भेजेंगे. उन्होंने कहा कि यदि यात्री एयरपोर्ट पर डिजी सेवा का लाभ नहीं चाहते हैं तो यात्रियों के पास डेटा नहीं भेजने और हवाई अड्डों पर मौजूदा मैनुअल प्रक्रिया का उपयोग करने का विकल्प भी मौजूद होगा.

    क्यों खास है ये सिस्टम?
    रिपोर्ट्स के मुताबिक, डिजी यात्रा सिस्टम के यात्रियों के चेहरे को एक बार सिस्टम में रजिस्टर्ड किया जाएगा. इसके बाद उन्हें टर्मिनल में प्रवेश करते वक्त अपनी पहचान साबित करने के लिए किसी भी तरह का कोई पहचान पत्र दिखाने की जरूरत नहीं होगी. यानि की स्पष्ट है कि एयरपोर्ट टर्मिनल में यात्री के एंट्री करते ही एयरलाइंस को इस बात की जानकारी मिल जाएगी कि वह अंदर पहुंच चुका है. इतना ही नहीं इस सिस्टम के जरिए यात्री का बोर्डिंग पास भी सीधे उसके फोन में चला जाएगा.

    इस सिस्टम में रजिस्टर्ड यात्री की पहले से ही पहचान संबंधित तमाम डिटेल्स सीआईएसएफ, एयरलाइंस और अन्य सुरक्षा एजेंसियों के पास होंगी, तो उस यात्री के कैमरे में चेहरा दिखाते ही फ्लैपगेट ओपन हो जाएंगे.

    Tags: Airport, Airport Security, Parliament, Parliament session

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर