Assembly Banner 2021

अफज़ल गुरु की तस्वीर के साथ रैली में दिखे कन्हैया! इस वायरल पोस्ट का सच क्या है?

कन्हैया कुमार.

कन्हैया कुमार.

फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर सैकड़ों बार शेयर की जा चुकी इस तस्वीर में कन्हैया कुमार लोकसभा चुनाव में एक रैली के दौरान कश्मीरी अलगाववादी अफज़ल गुरु के फोटो के साथ नज़र आ रहे हैं.

  • Share this:
बिहार के बेगूसराय संसदीय क्षेत्र से भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के उम्मीदवार कन्हैया कुमार की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर सैकड़ों बार शेयर की जा चुकी है, जिसमें कन्हैया लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान के दौरान कश्मीरी अलगाववादी नेता अफज़ल गुरु की तस्वीर के साथ नज़र आ रहे हैं. ये दावा ग़लत है और पूरी पड़ताल में पता चलता है कि अफज़ल गुरु की तस्वीर को अलग से कन्हैया के प्रचार अभियान की तस्वीर के साथ जोड़ा गया है.

पढ़ें: फरार हुआ गठबंधन का प्रत्याशी, रेप का है आरोप, लोग परेशान किसे करे वोट

फेसबुक और ट्विटर पर सैकड़ों बार शेयर की जा चुकी इस तस्वीर का सच यह है कि गुरु की तस्वीर के साथ कन्हैया कुमार के प्रचार अभियान का यह फोटो 5 मई 2019 को फेसबुक पर शेयर किया गया था. इस तस्वीर को शेयर करते हुए हिंदी में कैप्शन लिखा गया था:



'कन्हैया कुमार, अफज़ल गुरु की फोटो लगाकर जनता के बीच रोड शो करके वोट मांग रहा है जबकि अफज़ल गुरु घोषित आतंकी है. चुनाव आयोग संज्ञान क्यों नहीं ले रहा? ज़रा सोचिए इसकी मानसिकता क्या है? कौन से हिंदू इसको क्या सोच के सपोर्ट कर रहे हैं? क्या अब हम इतने गए गुज़रे हो गए हैं कि एक आतंक समर्थक को वोट देंगे? सोचिए समझिए फिर सही फैसला लेकर देश हित में वोट कीजिए'.
शेयर की गई तस्वीर का स्क्रीनशॉट ये है :

kanhaiya kumar, loksabha elections 2019, bihar lok sabha elections, fake news, kanhaiya kumar official social media, कन्हैया कुमार, बिहार लोकसभा चुनाव, लोकसभा चुनाव 2019, फेक न्यूज़, कन्हैया कुमार सोशल मीडिया

इस तस्वीर को फेसबुक पर यहां, यहां और यहां शेयर किया गया जबकि ट्विटर पर यहां और यहां और वो भी इसी दावे के साथ.

लेकिन, ये दावा गलत है. कन्हैया कुमार के रोड शो की इस तस्वीर में अलगाववादी अफज़ल गुरु की तस्वीर जोड़ी गई है, उस जगह जहां सीपीआई का प्रतीक चिह्न लगा हुआ था, वहां गुरु की तस्वीर फिट की गई है.

गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च करने से पता चला कि ये ओरिजनल तस्वीर कन्हैया कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर 27 अप्रैल 2019 को पोस्ट की थी. कन्हैया कुमार की ओरिजनल पोस्ट यहां देखें. इस ओरिजनल पोस्ट में आप देख सकते हैं कि कन्हैया के सामने सीपीआई का प्रतीक चिह्न चस्पा है. इसी प्रतीक या लोगो की जगह पर दूसरी तस्वीर लगाकर फर्ज़ी पोस्ट किए गए.

कन्हैया ने इसी चुनाव अभियान यानी मोबाइल टॉर्च रैली की एक तस्वीर अपने इंस्टाग्राम पेज से भी शेयर करते हुए यह कैप्शन लिखा था.

'जनता जब सड़कों पर उमड़ती है तब चमकदार झूठों के तिनके बहकर कहाँ चले जाते हैं पता ही नहीं चलता. आज यह नज़ारा बेगूसराय का था, कल पूरे देश का होगा. देखिए, आज की मोबाइल टॉर्च रैली में जनता का उत्साह किस तरह आसमान छू रहा था.'

kanhaiya kumar, loksabha elections 2019, bihar lok sabha elections, fake news, kanhaiya kumar official social media, कन्हैया कुमार, बिहार लोकसभा चुनाव, लोकसभा चुनाव 2019, फेक न्यूज़, कन्हैया कुमार सोशल मीडिया

कन्हैया ने जो तस्वीर ओरिजनली पोस्ट की थी, वो बिहार के बेगूसराय में चुनाव अभियान के दौरान की थी. इस रैली को एक हिंदी समाचार चैनल ने कवर करते हुए ये वीडियो रिपोर्ट भी 27 अप्रैल 2019 को जारी की थी.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स

ये भी पढ़ें:
मोदी के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ रहे अतीक अहमद ने छोड़ा मैदान
अखिलेश यादव की जनसभा में नहीं आए लोग, खाली रहीं कुर्सियां
प्रियंका गांधी से नाराज कांग्रेस नेताओं ने दिया इस्तीफा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज