लाइव टीवी

टिकट बंटवारा विवाद पर फडणवीस की सफाई, बोले- संसदीय बोर्ड ने लिया था फैसला

भाषा
Updated: December 10, 2019, 7:41 AM IST
टिकट बंटवारा विवाद पर फडणवीस की सफाई, बोले- संसदीय बोर्ड ने लिया था फैसला
फडणवीस ने स्वीकार किया कि विदर्भ से प्रमुख नेता बावनकुले को टिकट नहीं देने से क्षेत्र में पार्टी को नुकसान हुआ. (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव में विनोद तावड़े, चंद्रशेखर बावनकुले और प्रकाश मेहता जैसे पूर्व मंत्रियों को टिकट नहीं देने को लेकर देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) की आलोचना हुई थी.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने सोमवार को टिकट बंटवारे (Ticket Distribution) को लेकर एक बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि कुछ मंत्रिय‍ों एवं पार्टी नेताओं को चुनाव में टिकट नहीं देने का फैसला केंद्रीय संसदीय बोर्ड का था. साथ ही उन्होंने कहा कि अक्टूबर में हुए विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार उतारे जाने के संबंध में प्रदेश भाजपा इकाई ने कोई फैसला नहीं किया. संसदीय बोर्ड, भाजपा का निर्णय लेने वाला शीर्ष निकाय है.

गौरतलब है कि विनोद तावड़े, चंद्रशेखर बावनकुले और प्रकाश मेहता जैसे पूर्व मंत्रियों को टिकट नहीं देने को लेकर फडणवीस की आलोचना हुई थी. कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि इस फैसले के चलते भाजपा को कई सीटों का नुकसान हुआ. भाजपा को 2014 में 122 सीटें मिली थीं, जो आंकड़ा 2019 में 105 पर सिमट गया.

प्रमुख नेताओं को टिकट नहीं देने से नुकसान हुआ
फडणवीस ने स्वीकार किया कि विदर्भ से प्रमुख नेता बावनकुले को टिकट नहीं देने से क्षेत्र में पार्टी को नुकसान हुआ. वहीं, उन्होंने यह भी कहा कि राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने उनके खिलाफ जाति कार्ड खेला और अक्सर इसके बारे में अप्रत्यक्ष तौर पर टिप्पणी की.

फडणवीस ने मराठी दैनिक ‘‘लोकसत्ता’’ से साक्षात्कार में कहा, 'मैं ऐसा व्यक्ति नहीं हूं जो अपनी उपलब्धियों या इसका रिकॉर्ड रखूं कि कितने लोग मुझे स्वीकार करते हैं लेकिन मेरे काम की खास सफलता यह है कि पवार जो कि एक प्रगतिशील नेता हैं, उन्होंने कई मौकों पर मेरी जाति को लेकर अप्रत्यक्ष टिप्पणियां कीं.'

उल्लेखनीय है कि फडणवीस ने सोमवार को ही कर्नाटक विधानसभा उपचुनाव के परिणामों का स्वागत किया है. उन्‍होंने कहा कि यह परिणाम अवसरवादी राजनीति पर मतदाताओं की प्रतिक्रिया को दिखाता है. बता दें कि कर्नाटक में 15 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुआ था जिसमें से सत्तारूढ़ भाजपा ने 12 सीटों पर जीत दर्ज की और कर्नाटक विधानसभा में पर्याप्त बहुमत हासिल कर लिया.
ये भी पढ़ें:  उद्धव का आदेश-औरंगाबाद में बाल ठाकरे स्मारक के लिए पेड़ों को न पहुंचाएं नुकसान

नागरिकता बिल पर शिवसेना बोली, हिंदू-मुसलमान में बंटवारे की कोशिश कर रही BJP

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 4:05 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर