सबरीमाला: पुलिस ने 12 साल की बच्ची को भगवान अयप्पा के दर्शन से रोका

सबरीमाला: पुलिस ने 12 साल की बच्ची को भगवान अयप्पा के दर्शन से रोका
पुलिस ने इसी बच्ची को मंदिर जाने से रोका

इस साल सुप्रीम कोर्ट ने 10 से 50 आयु वर्ग की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश देने संबंधी अपने फैसले पर रोक नहीं लगाई. लेकिन केरल सरकार ने इस बार कहा कि मंदिर आंदोलन का अखाड़ा नहीं है और वह उन महिलाओं को प्रोत्साहित नहीं करेगी जो प्रचार के लिए आएंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2019, 4:41 PM IST
  • Share this:
सबरीमाला. केरल के सबरीमाला (Sabarimala Temple) में इन दिनों भगवान अयप्पा के दर्शन के लिए हज़ारों की संख्या में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ रही है. इसी दौरान मंगलवार को पुलिस ने 12 साल की बच्ची को मंदिर जाने के दौरान रास्ते में ही रोक दिया.

पहले बताया गया था कि बच्ची की उम्र 10 साल है. लेकिन बाद में पुलिस ने आईडी चेक करने के बाद बताया कि उसकी उम्र 10 नहीं 12 साल है. बच्ची के साथ उसके पिता और उसके रिश्तेदार भी थे. ये सब तमिलनाडु के बेलुर से दर्शन के लिए आए थे. दो महीने तक चलने वाली वार्षिक तीर्थयात्रा ‘मंडल-मकरविलक्कू’ का ये पहला सफ्ताह है.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय पीठ ने सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 वर्ष की उम्र की महिलाओं को प्रवेश और अन्य धर्म से जुड़े मामलों को बड़े बेंच को भेज दिया है. पिछले साल 28 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट द्वारा सभी आयु वर्ग की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति देने के लिए दक्षिणपंथी संगठनों और भाजपा कार्यकर्ताओं ने बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किए थे.



मंदिर में भारी भीड़

हालांकि, इस साल सुप्रीम कोर्ट ने 10 से 50 आयु वर्ग की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश देने संबंधी अपने फैसले पर रोक नहीं लगाई. लेकिन केरल सरकार ने इस बार कहा कि मंदिर आंदोलन का अखाड़ा नहीं है और वो उन महिलाओं को प्रोत्साहित नहीं करेगी जो प्रचार के लिए आएंगी.

ये भी पढ़ें:

नुसरत जहां को मिली ICU से छुट्टी, परिवार ने खारिज की ड्रग्स ओवरडोज की अफवाह
टाटा स्टील पर भी सुस्ती की मार! 3,000 से ज्यादा कर्मचारियों की करेगी छंटनी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading