लाइव टीवी

राजनीतिक हिंसा में मारे गए बीजेपी नेताओं के परिजन दिल्ली पहुंचे, पीएम मोदी के शपथ ग्रहण में होंगे शामिल

News18Hindi
Updated: May 30, 2019, 11:28 AM IST

लोकसभा चुनाव के दौरान ही बंगाल में बीजेपी के कई कार्यकर्ताओं की हत्या हो गई थी और कई लोग घायल हो गए थे.

  • Share this:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण में भारतीय जनता पार्टी के उन नेताओं के परिजन शामिल होने के लिए दिल्ली पहुंच गए हैं जो पश्चिम बंगाल की हिंसा में मारे गए थे. मिली जानकारी के अनुसार राजनीतिक हिंसा के दौरान मारे गए सभी नेताओं के परिजनों को कोई दिक्कत न हो इसके लिए बीजेपी ने खास इंतजाम किया. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली स्थित नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर उनके लिए बस की व्यवस्था भी की गई.

बता दें लोकसभा चुनाव के दौरान ही बंगाल में बीजेपी के कई कार्यकर्ताओं की हत्या हो गई थी और कई लोग घायल हो गए थे. चुनाव परिणाम आने के बाद भी बंगाल में हिंसा का दौर जारी है. इस कदम को पश्चिम बंगाल में अपना कद बढ़ाने की कोशिश कर रही बीजेपी का अहम कदम माना जा रहा है.

BJP की ओर राजनीतिक हिंसा में मारे गए नेताओं के परिजनों को निमंत्रण देने के फैसले के बाद पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने शपथ ग्रहण में आने से मना कर दिया था.

यह भी पढ़ें:  मोदी कैबिनेट के लिए इन नामों की है सबसे ज्यादा चर्चा, स्मृति-शाह को मिलेंगे ये मंत्रालय?

ममता ने लिखी चिट्ठी

ममता ने मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में नहीं आने का फैसला बंगाल में हो रही हिंसा में टीएमसी को जिम्मेदार ठहराए जाने के बाद लिया. ममता ने एक चिट्ठी भेज कर लिखा- 'शुभकामनाएं नए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी. संवैधानिक निमंत्रण को स्वीकार कर मेरा शपथ ग्रहण समारोह में आने का प्लान था. लेकिन पिछले एक घंटे से मैं मीडिया रिपोर्ट्स देख रही हूं ,जिसमें भाजपा दावा कर रही है कि उसके 54 लोग पश्चिम बंगाल में हो रही राजनीतिक हिंसा में मारे गए हैं, जो कि बिल्कुल गलत है. बंगाल में कोई भी राजनीतिक हत्याएं नहीं हुई हैं. इन मौतों की वजहें व्यक्तिगत, पारिवारिक और अन्य विवाद हो सकती हैं, लेकिन कुछ भी राजनीति से संबंधित नहीं है. हमारे पास ऐसा कोई रिकॉर्ड नहीं है.

मुझे माफ करें नरेंद्र मोदी जी. इसी वजह से मैं इस समारोह में शामिल नहीं हो रही हूं. ये समारोह लोकतंत्र का जश्न मनाने का मौका है न कि किसी पार्टी को कम आंक कर राजनीति में नंबर बनाने का है. मुझे माफ करें.'बता दें लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की प्रचंड जीत के बाद से ही इस बात की अटकलें लगाई जा रही थीं कि ममता बनर्जी प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगी या नहीं. मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से ये भी खबर सामने आई थी कि ममता 30 मई को होने जा रहे इस कार्यक्रम में शामिल होने जा रही हैं..

यह भी पढ़ें: क्या होते हैं प्रोटेम स्पीकर के काम, जिसके लिए चुने गए 8 बार के सांसद संतोष गंगवार?
 ममता ने चुनाव नतीजों से पहले कई चुनाव रैलियों में सार्वजनिक तौर पर मोदी को पीएम मानने से भी इनकार कर दिया था. इसलिए उनके इस फैसले को उनके रुख में आए बदलाव के तौर पर देखा जा रहा था.


एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 30, 2019, 11:21 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर