लाइव टीवी

अब सिर्फ प्रधानमंत्री को मिलेगी SPG सुरक्षा, सरकार पेश करेगी विधेयक

भाषा
Updated: November 22, 2019, 4:31 PM IST
अब सिर्फ प्रधानमंत्री को मिलेगी SPG सुरक्षा, सरकार पेश करेगी विधेयक
देश में केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को करीब 4000 अधिकारियों और जवानों वाले एसपीजी बल की सुरक्षा मिली हुई है

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Former PM Manmohan Singh) के बाद सोनिया गांधी और राहुल गांधी (Sonia Gandhi and Rahul gandhi) एसपीजी (SPG) सुरक्षा वापस ले ली गई है. इसको लेकर सरकार (Goverment) अगले सप्‍ताह लोकसभा (Loksabha) में एसपीजी कानून में संशोधन वाला विधेयक पेश करेगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने एसपीजी अधिनियम (SPG Amendment Bill) में जिन संशोधनों को मंजूरी दी है, उनके मुताबिक पूर्व प्रधानमंत्रियों के परिजनों को अब विशेष सुरक्षा समूह/एसपीजी (SPG) के कमांडो सुरक्षा प्रदान नहीं करेंगे. यह विधेयक एसपीजी सुरक्षा को केवल प्रधानमंत्री तक सीमित रखने पर केंद्रित होगा. अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी.

सरकार ने कुछ दिन पहले ही कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi), उनके पुत्र राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और पुत्री प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) को दी गई एसपीजी सुरक्षा को वापस ले लिया था. इससे पहले 28 वर्ष तक गांधी परिवार को एसपीजी सुरक्षा मिलती रही.

इस संबंध में एसपीजी कानून में संशोधन वाला विधेयक अगले सप्ताह लोकसभा में पेश किया जा सकता है. संसदीय कार्य राज्यमंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने शुक्रवार को लोकसभा में जानकारी दी कि अगले सप्ताह की कार्यसूची में विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) संशोधन विधेयक सूचीबद्ध है.

इस स्थिति में ज्‍यादा समय तक मिल सकती है सुरक्षा

एसपीजी कानून के मुताबिक प्रतिष्ठित बल के कमांडो प्रधानमंत्री, उनके निकटतम परिजनों, किसी पूर्व प्रधानमंत्री या उनके निकटतम परिवार के सदस्यों की सुरक्षा का जिम्मा उनके पद संभालने की तारीख से एक साल तक और खतरे की आशंका के स्तर के हिसाब से एक साल से ज्यादा समय तक ही संभालेंगे. अधिकारियों ने बताया कि प्रस्तावित संशोधन के अनुसार अब पूर्व प्रधानमंत्रियों के परिवार के सदस्यों को एसपीजी सुरक्षा घेरा प्रदान नहीं किया जाएगा.

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 21 मई, 1991 को हत्या के बाद उनके परिवार के सदस्यों को एसपीजी का सुरक्षा घेरा प्रदान किया गया था. जिसे इस महीने की शुरुआत में विस्तृत सुरक्षा आकलन के बाद वापस लेने का फैसला किया गया. उन्हें 1988 के एसपीजी कानून में सितंबर 1991 में संशोधन के बाद यह वीवीआईपी सुरक्षा घेरा प्रदान किया गया था.

गांधी परिवार को जेड-प्‍लस सुरक्षागांधी परिवार को अब जेड-प्लस सुरक्षा प्रदान की गई है जिनमें सीआरपीएफ के जवान शामिल होते हैं. अब देश में केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को करीब 4000 अधिकारियों और जवानों वाले एसपीजी बल की सुरक्षा मिली हुई है. नियमों के तहत एसपीजी सुरक्षा प्राप्त लोगों के काफिले में सुरक्षाकर्मी, उच्च तकनीक वाले वाहन, जैमर और एंबुलेंस आदि शामिल होते हैं.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को गांधी परिवार के सदस्यों से एसपीजी सुरक्षा हटाने के सरकार के फैसले पर कहा था कि यह राजनीति का हिस्सा है जो होती रहती है. कांग्रेस ने पिछले दिनों संसद में और संसद से बाहर भी इस विषय को उठाया था.

ये भी पढ़ें: 

सोनिया-राहुल की SPG सुरक्षा वापस लेने पर बवाल, BJP सांसद बोले- मौत से डर कैसा?
कांग्रेस बोली- गांधी परिवार पर कोई हमला हुआ तो बीजेपी होगी जिम्मेदार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 22, 2019, 3:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर