पंजाब में एक बार ट्रैक हमारे कंट्रोल में आ जाएं फिर ट्रेनें शुरू कर दी जाएंगी: रेलवे

कृषि कानून के विरोध में पंजाब में बड़े स्तर पर रेलवे ट्रैक पर अवरोध उत्पन्न कीया गया था. (फाइल फोटो)
कृषि कानून के विरोध में पंजाब में बड़े स्तर पर रेलवे ट्रैक पर अवरोध उत्पन्न कीया गया था. (फाइल फोटो)

रेलवे के चेयरमैन (Railway Chairman) ने कहा है कि RPF के डीजी रेलवे ट्रैक की समीक्षा कर रहे हैं. कल तक ट्रैक्स से अवरोधों की सफाई कर दी जाएगी. एक बार ट्रैक हमारे कंट्रोल में आ जाए तो ट्रेनें दोबारा शुरू कर दी जाएंगी. राज्य में तकरीबन एक महीने से किसान आंदोलनों के मद्देनजर ट्रेन सेवाएं निलंबित कर दी गई हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2020, 9:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पंजाब में ट्रेन चलाए जाने की शुरुआत एक बार फिर से हो सकती है. रेलवे के चेयरमैन (Railway Chairman) ने कहा है कि उन्हें ट्रैक की सफाई को लेकर आश्वस्त किया गया है. उन्होंने बताया है कि रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (RPF) के डीजी रेलवे ट्रैक की समीक्षा कर रहे हैं. कल तक ट्रैक्स से अवरोधों की सफाई कर दी जाएगी. एक बार ट्रैक हमारे कंट्रोल में आ जाए तो ट्रेनें दोबारा शुरू कर दी जाएंगी. राज्य में तकरीबन एक महीने से किसान आंदोलनों के मद्देनजर ट्रेन सेवाएं निलंबित कर दी गई हैं.

गौरतलब है कि पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ बुधवार को दिल्ली में धरना दिया और केंद्र सरकार पर उनके राज्य के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया. मुख्यमंत्री ने दावा किया कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब में किसानों के आंदोलन का राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए गंभीर प्रभाव पड़ सकता है और चीन एवं पाकिस्तान इस सीमावर्ती राज्य में शांति भंग करने का प्रयास कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि वह अपने राज्य के किसानों को ‘बचाने’ का प्रयास कर रहे हैं क्योंकि केंद्र उनकी जीविका के खिलवाड़ कर रही है.

कोयले की आपूर्ति बाधित होने से बिजली की हालत गंभीर
इससे पहले खबर आई थी कि पंजाब में राज्य बिजली बोर्ड अब दो से तीन घंटे बिजली में कटौती करेगा. इसका कारण निजी क्षेत्र के तीन तापीय बिजलीघरों में ईंधन नहीं होने से बिजली उत्पादन बंद होना है. दो अन्य विद्युत संयंत्रों में भी कोयला बहुत कम बचा है. केंद्र के तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के प्रदर्शन और कुछ रेल पटरियों को बाधित किए जाने से रेलवे ने राज्य में माल गाड़ियों की आवाजाही निलंबित कर दी है. इससे तापीय बिजलीघरों को होने वाली कोयले की आपूर्ति प्रभावित हुई है.




स्थिति बेहद गंभीर
अधिकारी ने कहा कि मांग और आपूर्ति में अंतर और गंभीर होती स्थिति को देखते हुए पंजाब स्टेट पावर कॉरपोरेशन लि. (पीएसपीसीएल) दो-तीन घंटे की बिजली कटौती कर रहा है.पीएसपीसीएल के चेयरमैन ए वेणु प्रसाद ने कहा, ''बिजली की स्थिति गंभीर है. फिलहाल दो से तीन घंटे की बिजली कटौती की घोषणा की जा रही है लेकिन आगे बिजली कटौती को बढ़ाकर चार से पांच घंटे भी किया जाएगा.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज