अपना शहर चुनें

States

अमित शाह की अपील पर किसान बोले- सशर्त बातचीत का आह्वान ठीक नहीं, कल लेंगे फैसला

अमित शाह की अपील पर किसानों ने जवाब दिया है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)
अमित शाह की अपील पर किसानों ने जवाब दिया है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

Farm Laws: भारतीय किसान यूनियन (Bharatiya Kisan Union) के पंजाब प्रदेश अध्‍यक्ष जगजीत सिंह ने कहा, 'अमित शाह जी ने सशर्त मुलाकात का आह्वान किया है. यह अच्छा नहीं है. उन्‍हें बिना किसी शर्त के खुले दिल से बातचीत की पेशकश करनी चाहिए. हम अपनी प्रतिक्रिया तय करने के लिए रविवार सुबह बैठक करेंगे.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2020, 12:11 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कृषि कानूनों (New Agriculture Law 2020) के खिलाफ किसानों का विरोध-प्रदर्शन विकराल रूप लेता जा रहा है. वैसे तो प्रशासन ने प्रदर्शन कर रहे किसानों को दिल्‍ली में निरंकारी ग्राउंड में प्रवेश की अनुमति दे दी है. लेकिन किसानों का एक गुट इस बात पर अड़ा है कि सरकार का कोई नुमाइंदा उनसे बॉर्डर पर आकर बात करे. वहीं, गृह मंत्री अमित शाह ने कहा क‍ि भारत सरकार प्रदर्शनकारियें से बात करने के लिए तैयार है. इसपर भारतीय किसान यूनियन के पंजाब प्रदेश अध्‍यक्ष जगजीत सिंह ने कहा, 'अमित शाह जी ने सशर्त मुलाकात का आह्वान किया है. यह अच्छा नहीं है. उन्‍हें बिना किसी शर्त के खुले दिल से बातचीत की पेशकश करनी चाहिए. हम अपनी प्रतिक्रिया तय करने के लिए रविवार सुबह बैठक करेंगे.'

दरअसल, किसानों के विरोध-प्रदर्शन पर अमित शाह ने कहा था, 'मैं प्रदर्शनकारी किसानों से अपील करता हूं कि सरकार बातचीत के लिए तैयार है. कृषि मंत्री के किसान संगठनों को 3 दिसंबर को चर्चा के लिए आमंत्रित किया है. हम हर मांग और समस्‍या पर चर्चा करने के लिए तैयार हैं.' उन्‍होंने कहा कि अगर किसान संघ 3 दिसंबर से पहले चर्चा करना चाहते हैं, तो मैं आप सभी को आश्वस्त करना चाहता हूं कि जैसे ही आप अपना विरोध निर्दिष्ट स्थान पर स्थानांतरित करेंगे, हमारी सरकार अगले दिन आपकी चिंताओं को दूर करने के लिए वार्ता आयोजित करेगी.

सरकार ने कहा, किसानों से किसी भी समय बातचीत के लिए तैयार
किसानों के लगातार तीसरे दिन भारी विरोध प्रदर्शन के बीच सरकार ने शनिवार को कहा कि वह उनके साथ कभी भी बातचीत के लिए तैयार है और साथ ही उनसे आंदोलन बंद करने का आग्रह भी किया. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि किसानों की चिंताओं को दूर करने के लिए तीन दिसंबर को 32 प्रदर्शनकारी किसान संगठनों के साथ एक बैठक पहले ही निर्धारित की जा चुकी है, और यदि ये संगठन चाहें तो सरकार उनके नेताओं से पहले भी बातचीत करने के लिए तैयार है. तोमर ने किसानों से विरोध खत्म करने की अपील करते हुए कहा कि किसान यूनियनों के नेताओं को बातचीत के लिए आना चाहिए क्योंकि चर्चा के बाद ही समाधान मिल सकता है.
ये भी पढ़ें: किसान आंदोलन पर गृहमंत्री अमित शाह ने संभाला मोर्चा, बोले- 3 दिसंबर से पहले भी हो सकती है वार्ता



ये भी पढ़ें: 30 नवंबर को वाराणसी का दौरा करेंगे PM नरेंद्र मोदी, काशी को देंगे 6 लेन वाले राष्ट्रीय राजमार्ग की सौगात

तोमर ने पीटीआई-भाषा से कहा, 'किसानों को विरोध खत्म करना चाहिए और चर्चा के लिए आना चाहिए. भारत सरकार चर्चा के लिए पूरी तरह तैयार है. अगर किसान यूनियन अपना प्रस्ताव भेजती हैं, तो हम इस पर विचार करने के लिए तैयार हैं.' उन्होंने कहा, 'किसान हमारे अपने लोग हैं. कृषि मंत्रालय किसानों के कल्याण के लिए काम कर रहा है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज