Assembly Banner 2021

तेलंगाना में कर्ज से परेशान किसान ने परिवार समेत की आत्‍महत्‍या

तेलंगाना में कर्ज के बोझ तले दबे एक परिवार के चार सदस्यों ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली.  सांकेतिक तस्वीर.

तेलंगाना में कर्ज के बोझ तले दबे एक परिवार के चार सदस्यों ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली. सांकेतिक तस्वीर.

पुलिस (Telangana Police) के अनुसार कई सालों से खेती कर रहे किसान (Farmer) ने कुछ लोगों से लाखों रुपए कर्ज ले रखा था, लेकिन वह उसे चुका नहीं पाया था. हाल ही में उसकी फसल खराब हो गई थी और उसने बेटी की शादी के लिए भी कर्ज लिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2021, 12:29 AM IST
  • Share this:
हैदराबाद. तेलंगाना (Telangana) के मंचिर्याल जिले में कर्ज के बोझ तले दबे एक परिवार के चार सदस्यों ने कथित तौर पर आत्महत्या (Suicide) कर ली. पुलिस ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि कासिपेट मंडल में एक मकान में एक व्यक्ति, उनकी पत्नी, बेटी और बेटा का शव बृहस्पतिवार को फंदे से लटके पाया गया.

पुलिस के मुताबिक परिवार के एक रिश्तेदार ने बताया कि व्यक्ति पिछले कई वर्षों से खेती कर रहा था और उसने कृषि भूमि पट्टे पर ली हुई थी, लेकिन हाल ही में उसकी फसल बर्बाद हो गई थी और उसने पिछले साल अपनी बेटी की शादी के लिए कर्ज भी लिया था.

Youtube Video




ये भी पढ़ें  कर्ज से परेशान किसान ने 10 दिन पहले छोड़ दिया था घर, अब जंगल में पेड़ से लटका मिला उसका कंकाल
पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रारंभिक जांच में पता चला है कि व्यक्ति ने कुछ लोगों से कर्ज लिया था और इस तरह वह लाखों रुपये के कर्ज के बोझ तले दबा हुआ था.

ये भी पढ़ें  बांदाः 7 बीघा जमीन लेकर साहूकार ने रुपए नहीं दिए तो किसान ने की खुदकुशी, घर से मिली लाश

अधिकारी ने बताया कि परिवार ने संभवत: इसी कारण यह कठोर कदम उठाया. अधिकारी ने बताया कि कथित तौर पर परिवार के मुखिया द्वारा लिखा हुआ एक सुसाइड नोट भी मौके से मिला है, जिसमें कहा गया है कि वह कर्ज चुका पाने की स्थिति में नहीं है और इस वजह से उसने परिवार सहित आत्महत्या करने का निर्णय लिया है. पुलिस ने इस सिलसिले में एक मामला दर्ज किया है और आगे की जांच की जा रही है.

2017 के बाद से किसानों की आत्महत्या को लेकर प्रकाशित नहीं हुई रिपोर्ट
याद दिला दें कि केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री (Minister of Agriculture and Farmers Welfare) नरेन्द्र सिंह तोमर ने स्वयं संसद में यह जवाब दिया था कि 2017 के बाद से किसानों की आत्महत्या को लेकर रिपोर्ट प्रकाशित नहीं हुई है. उन्होंने बताया कि कृषि क्षेत्र में शामिल कुल 11,379 व्यक्तियों (जिसमें 6,270 किसान एवं खेतीहर मजदूर तथा 5,109 कृषि श्रमिक शामिल हैं) ने आत्महत्या की. उन्होंने बताया कि गृह मंत्रालय के अधीन आने वाला राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) भारत में दुर्घटनावश मृत्यु एवं आत्महत्यायें’ (ADSI) नामक अपने प्रकाशन में ऐसी आत्महत्याओं के संबंध में सूचना का संकलन और प्रसार करता है.  मंत्री ने बताया कि आत्महत्याओं (Suicides) के संबंध में वर्ष 2016 तक की सूचना एनसीआरबी (NCRB) की वेबसाईट पर उपलब्ध है लेकिन वर्ष 2017 के बाद से ये रिपोर्ट प्रकाशित नहीं हुई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज