• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • तीन नए कृषि कानूनों को एक साल पूरा, शिरोमणि अकाली दल आज मनाएगा काला दिवस

तीन नए कृषि कानूनों को एक साल पूरा, शिरोमणि अकाली दल आज मनाएगा काला दिवस

पार्टी की तरफ से आज गुरुद्वारा रकाब गंज साहिब से लेकर संसद भवन तक मार्च निकाला जाएगा.  (फोटो- ANI)

पार्टी की तरफ से आज गुरुद्वारा रकाब गंज साहिब से लेकर संसद भवन तक मार्च निकाला जाएगा. (फोटो- ANI)

New Farm Laws: आम आदमी पार्टी पंजाब में कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों को श्रद्धांजलि देने के लिए राज्य भर में कैंडल मार्च निकालेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. तीन नए कृषि कानूनों (New Farm Laws) को लागू हुए आज पूरा एक साल हो गया है. लिहाजा इस मौके का विरोध करने के लिए शिरोमणि अकाली दल शुक्रवार को काला दिवस मनाएगी. इसे ‘ब्लैक फ्राइडे विरोध दिवस’ का नाम दिया गया है. पार्टी की तरफ से आज गुरुद्वारा रकाब गंज साहिब से लेकर संसद भवन तक मार्च निकाला जाएगा. इसकी अगुवाई पार्टी के चीफ सुखबीर सिंह बादल और हरसिमरत कौर बादल करेंगे.

    शिरोमणि अकाली दल को विरोध मार्च निकालने की अनुमति नहीं मिली है. पार्टी ने इसके बावजूद भी मार्च निकालने का फैसला किया है. बता दें कि गुरुवार को दिल्ली में आयोजित प्रदर्शन में भाग लेने आ रहे पार्टी कार्यकर्ताओं को दिल्ली बार्डर पर सुरक्षाकर्मियों ने रोक दिया. पंजाब नंबर की सभी गाड़ियों को वापस लौटा दिया गया. अकाली दल के कार्यकर्ताओं ने विरोध भी जताया, लेकिन सीआरपीएफ और दिल्ली पुलिस के जवानों ने उनकी बात नहीं मानी.

    आप निकालेगी कैंडल मार्च
    उधर पंजाब की मुख्य विपक्षी पार्टी आप तीन कृषि कानूनों को लागू होने के एक साल पूरे होने पर 17 सितंबर को ‘काला दिवस’ के रूप में मनाएगी. आम आदमी पार्टी कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों को श्रद्धांजलि देने के लिए राज्य भर में कैंडल मार्च भी निकालेगी. एक बयान में, आप विधायक कुलतार सिंह संधवान ने कहा कि ‘काले कृषि कानूनों’ के खिलाफ देश भर के किसानों में नाराज़गी है. उन्होंने कहा कि 17 सितंबर, 2020 को तीन ‘काले’ कृषि विधेयक संसद में पारित किए गए.

    ये भी पढ़ें:- मुंबई में बूस्टर कोविड डोज लगाए जाने की खबरें, राजनेताओं ने हासिल की तीसरी खुराक- रिपोर्ट

    खट्टर की पीएम से मुलाकात
    उधर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने बृहस्पतिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और तीन नये केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसानों के प्रदर्शन सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की. दोनों नेताओं के बीच यह मुलाकात लगभग एक घंटे तक चली. मुलाकात के बाद पत्रकारों से चर्चा में खट्टर ने कहा कि उन्होंने कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेसवे के किनारे बन रहे रेल गलियारे के उद्घाटन के लिए प्रधानमंत्री को आमंत्रित किया. किसानों के प्रदर्शन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस बारे में भी चर्चा हुई और साथ ही पिछले दिनों करनाल में हुए किसानों के आंदोलन पर भी बात हुई.

    क्या है विरोध प्रदर्शन का मुद्दा?
    कृषि संबंधी तीन केंद्रीय कानूनों के खिलाफ पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों का एक समूह दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर पिछले नौ महीनों से प्रदर्शन कर रहा है. प्रदर्शनकारी किसान तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के लिए कानून की मांग कर रहे हैं. हालांकि सरकार का दावा है कि तीनों कृषि कानून उत्पाद को कहीं भी बेचने का विकल्प उपलब्ध कराने वाले हैं और इससे किसानों के जीवन में सुधार आएगा. (एजेंसी इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज