अपना शहर चुनें

States

ट्रैक्टर परेड के लिए किसान संगठनों ने जारी की हिदायतें, परेड में जाने से पहले पढ़ लें

किसान संगठनों ने कहा है कि ट्रैक्टर या गाड़ी खराब होने की स्थिति में उसे बिल्कुल साइड में लगा दें और वॉलंटियर से संपर्क करें या हेल्पलाइन पर कॉल करें. फाइल फोटो
किसान संगठनों ने कहा है कि ट्रैक्टर या गाड़ी खराब होने की स्थिति में उसे बिल्कुल साइड में लगा दें और वॉलंटियर से संपर्क करें या हेल्पलाइन पर कॉल करें. फाइल फोटो

Farmers Protest against New Farm Law: किसान संगठनों ने अपनी हिदायतों में कहा है कि किसी भी अफवाह पर ध्यान ना दें. अगर कोई बात चेक करनी हो तो संयुक्त किसान मोर्चा की फेसबुक पर जाकर सच्चाई की जांच कर लें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2021, 10:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. किसान संगठनों (Farmers Union) ने केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ गणतंत्र दिवस (Republic Day) के दिन ट्रैक्टर परेड से जुड़ी तैयारियों और हिदायतों के बारे में जानकारी दी है. किसानों की ओर से कहा गया है कि "कृषक दिल्ली को जीतने नहीं, बल्कि देश की जनता का दिल जीतने जा रहे हैं. उनका कहना है कि इस परेड के जरिए देश और दुनिया को अपना दुख-दर्द दिखाना है और किसान विरोधी कृषि कानूनों (New Farm Law) की सच्चाई को उजागर करना है."

26 जनवरी के दिन दिल्ली के रिंग रोड पर किसान संगठन ट्रैक्टर-ट्रॉली परेड (Tractor Trolley Parade) निकालने जा रहे हैं. इस रैली में हजारों की संख्या में किसान शामिल होंगे. इन किसानों के लिए परेड से पहले की तैयारी के बारे में निर्देश जारी करते हुए किसान संगठनों ने कुछ बिंदुओं को सूचीबद्ध किया है. साथ ही हेल्पलाइन नंबर 7428384230 भी जारी किया है.





परेड की तैयारियों को लेकर निर्देश
किसान संगठनों ने कहा है कि परेड में ट्रैक्टर और दूसरी गाड़ी चलेंगी, लेकिन ट्रॉली नहीं जाएगी, जिन ट्रालियों में विशेष झांकी बनी होगी. उन्हें छूट दी जा सकती है. पीछे से ट्रॉली की सुरक्षा का इंतजाम करके जाएं. अपने साथ 24 घंटे का राशन पानी पैक करके चलें. जाम में फंसने पर ठंड से बचाव का इंतजाम भी रखें. संयुक्त किसान मोर्चा की अपील है कि हर ट्रैक्टर या गाड़ी पर किसान संगठन के झंडे के साथ-साथ राष्ट्रीय झंडा भी लगाया जाए. किसी भी पार्टी का झंडा नहीं लगेगा. अपने साथ किसी भी तरह का हथियार ना रखें, लाठी या जेली भी ना रखें. किसी भी भड़काऊ या नेगेटिव नारे वाले बैनर ना लगाएं. परेड में शामिल होने की सूचना देने के लिए आप 8448385556 पर एक मिस्ड कॉल दें.

परेड के दौरान किन बातों का रखें ध्यान
1. परेड की शुरुआत किसान नेताओं की गाड़ी से होगी. उनसे पहले कोई ट्रैक्टर या गाड़ी रवाना नहीं होगी. हरे रंग की जैकेट पहने ट्रैफिक वॉलिंटियर की हर हिदायत को मानें.
2. परेड का रूट तय हो चुका है. उसके निशान लगे होंगे. पुलिस और ट्रैफिक वॉलिंटियर गाइड करेंगे. जो गाड़ी रूट से बाहर जाने की कोशिश करेगी, उसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी.
3. संयुक्त किसान मोर्चा का फैसला है कि अगर कोई गाड़ी सड़क पर बिना कारण रुकने या रास्ते में डेरा जमाने कि कोशिश करती है, तो वॉलंटियर उन्हें हटाएंगे. सब गाड़ियां परेड पूरी करके वहीं वापस पहुंचेंगी, जहां से शुरू हुई थी.
4. एक ट्रैक्टर पर ज्यादा से ज्यादा ड्राइवर समेत पांच लोग सवार होंगे. बोनट, बंपर या छत पर कोई नहीं बैठेगा.
5. सब ट्रैक्टर अपनी लाइन में चलेंगे कोई रेस नहीं लगाएगा. परेड में किसान नेताओं की गाड़ियों से आगे या उनके साथ अपनी गाड़ी लगाने की कोशिश नहीं करेगा.
6. ट्रैक्टर में अपना ऑडियो डेक नहीं बजाएं. इससे बाकी लोगों को मोर्चा की ऑडियो से हिदायतें सुनने में दिक्कत होगी.
7. परेड में किसी भी किस्म के नशे की मनाही रहेगी. अगर कोई भी नशा करके ड्राइव करते हुए दिखाई दे तो उसकी सूचना नजदीक के ट्रैफिक वॉलिंटियर को दें.
8. किसान संगठनों का दावा है कि उन्हें गणतंत्र दिवस की शोभा बढ़ानी है, पब्लिक का दिल जीतना है. इस बात का खास ख्याल रखें कि औरतों से पूरी इज्जत से पेश आएं. पुलिस का सिपाही भी यूनिफॉर्म पहने हुए किसान है, उससे कोई झगड़ा नहीं करना. मीडिया वाले चाहे जिस भी चैनल से हों, उनके साथ किसी तरह की बदतमीजी ना हो.
9. कचरा सड़क पर ना फेंके. अपने साथ कचरे के लिए एक बैग अलग से रखें.

इमरजेंसी की स्थिति में क्या करें?
संयुक्त किसान मोर्चा ने हर किस्म की इमरजेंसी का इंतजाम किया है, इसलिए कोई दिक्कत होने पर घबराएं नहीं, इन हिदायतों का पालन करें.

1. किसी भी अफवाह पर ध्यान ना दें. अगर कोई बात चेक करनी हो तो संयुक्त किसान मोर्चा की फेसबुक पर जाकर सच्चाई की जांच कर लें.
2. परेड में बीच-बीच में एंबुलेंस रहेंगी, अस्पतालों के साथ इंतजाम किया गया है. कोई मेडिकल इमरजेंसी हो तो हेल्पलाइन नंबर पर फोन करें या नजदीकी वालंटियर को बताएं.
3. ट्रैक्टर या गाड़ी खराब होने की स्थिति में उसे बिल्कुल साइड में लगा दें और वॉलंटियर से संपर्क करें या हेल्पलाइन पर कॉल करें.
4. संयुक्त किसान मोर्चा का हेल्पलाइन नंबर परेड के लिए 24 घंटे खुला रहेगा, कुछ भी पूछना हो या बताना हो तो तुरंत फोन करें.

5. अगर कोई वारदात हो तो उसकी खबर पुलिस कंट्रोल रूम को 112 नंबर पर दे सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज