अपना शहर चुनें

States

'भारत बंद' पर किसानों ने मांगा सबका साथ, राजनीतिक दलों से आगे आने को कहा

नए कृषि कानूनों के विरोध में हजारों किसान पिछले ग्यारह दिन से दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं (फोटो साभार- AP)
नए कृषि कानूनों के विरोध में हजारों किसान पिछले ग्यारह दिन से दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं (फोटो साभार- AP)

Farmers Protest: भारत बंद (Bharat Band) के दौरान दोपहर के 3 बजे तक चक्का जाम रहेगा. किसानों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन की बात कही है. इमरजेंसी और शादी के कार्यक्रमों के लिए इजाजत रहेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 7, 2020, 12:34 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र के नये कृषि कानूनों का विरोध करते हुए सिंघू बार्डर पर डेरा डाले हुए किसानों ने आठ दिसंबर को बुलाये गये भारत बंद में सभी वर्गों से अधिकतम भागीदारी का रविवार को आह्वान करते हुए कहा कि गुजरात से 250 से अधिक किसान इस आंदोलन से जुड़ने के लिए पहुंचेंगे. सीमा पर किसान नेताओं ने कई राजनीतिक दलों द्वारा व्यक्त किये गये समर्थन का स्वागत किया और अन्य सभी से आगे आने एवं मंगलवार के ‘भारत बंद’ का समर्थन करने का आह्वान किया.

हम किसी को भी हिंसक होने की इजाजत नहीं देंगे: बलदेव सिंह यादव
किसान नेता बलदेव सिंह यादव ने कहा, 'यह आंदोलन केवल पंजाब के किसानों का नहीं बल्कि पूरे देश का है. हम अपने आंदोलन को मजबूत बनाने जा रहे हैं और यह पहले ही पूरे देश में फैल चुका है. चूंकि, सरकार हमसे उपयुक्त ढंग से निपटने में समर्थ नहीं रही है, इसलिए हमने भारत बंद का आह्वान किया. कल की बैठक के दौरान मंत्री ‘भारत बंद’ के हमारे आह्वान से परेशान थे.' उन्होंने कहा, 'हमने आठ दिसंबर को भारत बंद का आह्वान किया है, जो सुबह आठ बजे से लेकर शाम तक चलेगा. इस दौरान दुकानें एवं कारोबार बंद रहेंगे. एंबुलेंस एवं आपात कार्य को बंद से छूट दी गयी है. गुजरात से करीब 250 किसान प्रदर्शन से जुड़ने के लिए दिल्ली आयेंगे.' यादव ने सभी से यह सुनिश्चित करने की अपील भी की कि भारत बंद शांतिपूर्ण रहे.

उन्होंने कहा, 'हम किसी को भी हिंसक होने की इजाजत नहीं देंगे और ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे. हम सभी से बंद का हिस्सा बनने का आह्वान करते हैं.' केंद्र के नये कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हजारों किसान हरियाणा और उत्तर प्रदेश से लगती दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं. उन्होंने चेतावनी दी कि यदि सरकार उनकी मांगें नहीं मानती है तो वे आंदोलन तेज करेंगे और दिल्ली पहुंचने वाली और सड़कें बंद कर देंगे.
पढ़ेंः भारत बंद' के समर्थन में 15 से ज्‍यादा विपक्षी दल, कांग्रेस ने कहा- प्रदर्शन भी करेंगे



स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा, ‘‘हम अपने रुख पर सदैव अडिग हैं. हमने हमेशा मांग की है कि सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस ले. हमने अपना रुख नहीं बदला है. हम उस पर दृढ़ हैं.’’

पढ़ेंः 'भारत बंद' को RLP का समर्थन, बेनीवाल बोले- NDA में रहने पर 8 दिसंबर के बाद फैसला

उन्होंने कहा, ‘‘महाराष्ट्र एवं अन्य राज्यों के कई संगठन भी भारत बंद का समर्थन कर रहे हैं. हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में सभी मंडियां बंद रहेंगी लेकिन शादियों को बंद से छूट दी गयी है. कई राजनीतिक दलों ने हमारा समर्थन किया है और हम सभी से बंद में हिस्सा लेने की अपील करते हैं.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज