नवजोत सिंह सिद्धू ने शायरी से साधा केंद्र पर निशाना, 'सरकारें तमाम उम्र यही भूल करती रहीं...'

किसानों से जुड़े तीन विधेयकों को लेकर नवजोत सिंह सिद्धू ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है.
किसानों से जुड़े तीन विधेयकों को लेकर नवजोत सिंह सिद्धू ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है.

Farm Sector Bills: पंजाब सरकार के पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने केंद्र सरकार (Central Government) पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया, 'खेती पंजाब की आत्मा है. शरीर पर घाव ठीक हो सकते हैं, लेकिन आत्‍मा के घाव बर्दाश्‍त नहीं किए जाएंगे. माफ नहीं किया जाएगा. युद्ध का बिगुल बोलता है. इंक़लाब ज़िन्दाबाद...'

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 10:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. किसानों से जुड़े तीन विधेयकों (New Agriculture Bills) के लोकसभा (Loksabha) में पारित होने के बाद पंजाब और हरियाणा में केंद्र सरकार का विरोध बढ़ता ही जा रहा है. इस बीच पंजाब सरकार के पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कृषि विधेयकों को लेकर सरकार पर जमकर निधाना साधा है. सिद्धू ने पंजाबी भाषा में ट्वीट किया, 'खेती पंजाब की आत्मा है. शरीर पर घाव ठीक हो सकते हैं, लेकिन आत्‍मा के घाव बर्दाश्‍त नहीं किए जाएंगे. माफ नहीं किया जाएगा. युद्ध का बिगुल बोलता है. इंक़लाब ज़िन्दाबाद...' एक अन्‍य ट्वीट में सिद्धू ने कहा, 'सरकारें तमाम उम्र यही भूल करती रहीं, धूल उनके चेहरे पर थी, आईना साफ करती रहीं.'

कृषि विधेयक पारित होने के विरोध में कांग्रेस के विधायक ने दिया इस्‍तीफा
पंजाब के फतेहगढ़ साहिब से कांग्रेस के विधायक कुलजीत सिंह नागरा ने कहा कि उन्होंने लोकसभा में कृषि विधेयक पारित होने के विरोध में विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने ट्वीट किया, 'भाजपा-अकाली सरकार द्वारा कृषि विधेयक पारित किए जाने से अत्यंत दुखी हूं, इसलिए मैं फतेहगढ़ साहिब से विधायक के रूप में अपना इस्तीफा देता हूं.' संपर्क किए जाने पर विधायक ने कहा कि उन्होंने लोकसभा में तीन विधेयक पारित होने के विरोध में इस्तीफा दिया है. उन्होंने कहा, 'आज का दिन पंजाब के इतिहास में काला दिन है.'

कृषि विधेयक किसानों के रक्षा कवच, विरोध करने वाले दे रहे बिचौलियों का साथ: मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को देश के किसानों को आश्वस्त किया कि लोकसभा से पारित कृषि सुधार संबंधी विधेयक उनके लिए रक्षा कवच का काम करेंगे और नए प्रावधान लागू होने के कारण वे अपनी फसल को देश के किसी भी बाजार में अपनी मनचाही कीमत पर बेच सकेंगे. प्रधानमंत्री ने विपक्षी पार्टियों, खासकर कांग्रेस पर, आरोप लगाया कि वह इन विधेयकों का विरोध कर किसानों को भ्रमित करने का प्रयास कर रही हैं और बिचौलियों के साथ किसानों की कमाई को बीच में लूटने वालों का साथ दे रही हैं. उन्होंने किसानों से आग्रह किया कि वे इस भ्रम में न पड़ें और सतर्क रहें.





पीएम मोदी ने कहा, 'कल विश्वकर्मा जयंती के दिन लोकसभा में ऐतिहासिक कृषि सुधार विधेयक पारित किए गए हैं. किसान और ग्राहक के बीच जो बिचौलिए होते हैं, जो किसानों की कमाई का बड़ा हिस्सा खुद ले लेते हैं, उनसे बचाने के लिए ये विधेयक लाए जाने बहुत आवश्यक थे. ये विधेयक किसानों के लिए रक्षा कवच बनकर आए हैं.' उन्होंने कहा कि जो लोग दशकों तक सत्ता में रहे हैं और देश पर राज किया है, वे लोग किसानों को इस विषय पर भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं ओर उनसे झूठ बोल रहे हैं.

ये भी पढ़ें:-
कृषि बिल को लेकर सहयोगियों ने बढ़ाई BJP की मुश्किलें, जानें 8 बड़े अपडेट्स
कृषि बिल पर विरोध के बीच प्रधानमंत्री बोले- बिचौलियों का साथ दे रहे हैं कुछ लोग, किसान इनसे रहे सतर्क

उन्होंने कहा, 'जिस एपीएमसी एक्ट को लेकर अब ये लोग राजनीति कर रहे हैं, एग्रीकल्चर मार्केट के प्रावधानों में बदलाव का विरोध कर रहे हैं, उसी बदलाव की बात इन लोगों ने अपने घोषणापत्र में भी लिखी थी. लेकिन अब जब एनडीए सरकार ने ये बदलाव कर दिया है, तो ये लोग इसका विरोध करने पर उतर आए हैं. दुष्प्रचार किया जा रहा है कि सरकार के द्वारा किसानों को एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) का लाभ नहीं दिया जाएगा. ये भी मनगढ़ंत बातें कही जा रही हैं कि किसानों से धान-गेहूं इत्यादि की खरीद सरकार द्वारा नहीं की जाएगी. ये सरासर झूठ है, गलत है, किसानों को धोखा है.'

प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र की सरकार किसानों को एमएसपी के माध्यम से उचित मूल्य दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा कि सरकारी खरीद भी पहले की तरह जारी रहेगी, कोई भी व्यक्ति अपना उत्पाद दुनिया में कहीं भी बेच सकता है. जहां चाहे वहां बेच सकता है. मोदी ने कहा कि किसानों के लिए जितना राजग शासन में पिछले छह वर्षों में किया गया है, उतना पहले कभी नहीं किया गया. उन्होंने कहा, 'मैं आज देश के किसानों को बड़ी नम्रता पूर्वक अपनी बात बताना चाहता हूं. संदेश देना चाहता हूं. आप किसी भी तरह के भ्रम में मत पड़िए. इन लोगों से देश के किसानों को सतर्क रहना बहुत जरूरी है ऐसे लोगों से सावधान रहें, जिन्होंने दशकों तक देश पर राज किया और जो आज किसानों से झूठ बोल रहे हैं. वे लोग आज किसानों की रक्षा का ढिंढोरा पीट रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज