अपना शहर चुनें

States

कृषि कानूनः शांतिपूर्ण तरीके से खत्म हुआ किसानों का चक्का जाम, कई राज्यों में रहा असर

किसानों की ओर से बुलाए गए राष्ट्रव्यापी चक्का जाम में छिटपुट घटनाओं के सिवा आम तौर पर शांति देखने को मिली. ANI
किसानों की ओर से बुलाए गए राष्ट्रव्यापी चक्का जाम में छिटपुट घटनाओं के सिवा आम तौर पर शांति देखने को मिली. ANI

Farmers Chakka Jam: 'चक्का जाम' के आह्वान के समर्थन में कथित रूप से प्रदर्शन करने के लिए शनिवार को मध्य दिल्ली के शहीदी पार्क के पास 50 व्यक्तियों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 6, 2021, 5:14 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का चक्का जाम शांतिपूर्ण तरीके से खत्म हो गया है. किसान दिल्ली की सीमा पर ही रहे और छिटपुट घटनाओं के अलावा जाम शांतिपूर्ण ही रहा. जम्मू से लेकर कर्नाटक तक चक्का जाम के समर्थन में किसान शनिवार को सड़कों पर उतरे. जम्मू-पठानकोट हाइवे पर चक्का जाम देखने को मिला. ANI से प्रदर्शन में शामिल एक व्यक्ति ने कहा, "हम इन कानूनों की वापसी चाहते हैं, दिल्ली सीमा पर प्रदर्शन कर रहे किसानों का हम समर्थन करते हैं." दिल्ली में सरकार ने सिंघु, गाजीपुर और टिकरी बॉर्डर पर इंटरनेट सेवाओं को रात 12 बजे तक बंद कर दिया है. ताकि जनहित में किसी भी अनहोनी से निपटा जा सके. मध्य प्रदेश में चक्का जाम के समर्थन में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने प्रदर्शन कर रहे लोगों से 12 से 3 बजे के बीच सड़कों पर प्रदर्शन करने का आह्वान किया.

पंजाब में चक्का जाम के समर्थन में लुधियाना-फिरोजपुर हाइवे पर बड़ी संख्या में लोग पहुंचे और किसानों ने उन्हें सड़क पर लंगर कराया. लुधियाना के साथ अमृतसर, मोहाली जैसे पंजाब के अन्य शहरों सहित देशभर में शनिवार की दोपहर चक्का जाम देखने को मिला है. राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों पर किसानों के समर्थन में चक्का जाम रहा. कर्नाटक के बेंगलुरु पुलिस ने येलाहंका पुलिस स्टेशन के बाहर किसानों के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे लोगों को गिफ्तार किया और चक्का जाम को खोलने की कोशिश की.

चक्का जाम को देखते हुए दिल्ली मेट्रो ने मंडी हाउस, आईटीओ, दिल्ली गेट, लाल किला, जामा मस्जिद, जनपथ, केंद्रीय सचिवालय, खान मार्केट और नेहरू मेट्रो स्टेशन से आवाजाही बंद रखी. किसान संगठनों द्वारा देशभर में चक्का जाम के आह्वान को देखते हुए शाहजहांपुर बॉर्डर (दिल्ली-राजस्थान बॉर्डर) पर बड़ी संख्या में सुरक्षाबल तैनात रहे. दिल्ली पुलिस के पीआरओ चिन्मय बिस्वाल ने कहा कि राजधानी दिल्ली में कोई घटना नहीं हुई है. ट्रैफिक मूवमेंट सामान्य रहा है और आम जीवन सामान्य रूप से गतिमान है.



किसान संगठनों ने अपने आंदोलन स्थलों के पास के क्षेत्रों में इंटरनेट पर रोक लगाये जाने, अधिकारियों द्वारा कथित रूप से उन्हें प्रताड़ित किये जाने और अन्य मुद्दों को लेकर छह फरवरी को देशव्यापी 'चक्का जाम' की घोषणा की थी, इस दौरान दोपहर 12 बजे से अपराह्न तीन बजे के बीच राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों पर चक्का जाम देखने को मिला. उधर, 'चक्का जाम' के आह्वान के समर्थन में कथित रूप से प्रदर्शन करने के लिए शनिवार को मध्य दिल्ली के शहीदी पार्क के पास 50 व्यक्तियों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया.
तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान संगठनों के समूह संयुक्त किसान मोर्चा ने शुक्रवार को कहा कि 'चक्का जाम' के दौरान प्रदर्शनकारी दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में सड़कों को अवरुद्ध नहीं करेंगे. मोर्चा ने साथ ही यह भी कहा था कि प्रदर्शनकारी देश में दोपहर 12 बजे से अपराह्न तीन बजे के बीच तीन घंटे के लिए राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों को अवरुद्ध करेंगे लेकिन शांतिपूर्ण तरीके से.

दिल्ली पुलिस ने दिल्ली के सभी सीमा बिंदुओं पर सुरक्षा बढ़ा दी. अर्धसैनिक बलों सहित हजारों कर्मियों को 'चक्का जाम' से उत्पन्न होने वाली किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैनात किया गया है. गणतंत्र दिवस पर हिंसा के बाद, दिल्ली पुलिस ने अतिरिक्त उपाय किये हैं, जिसमें सुरक्षा कड़ी निगरानी शामिल है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज