अपना शहर चुनें

States

कृषि कानून पर FICCI के AGM में बोले पीएम मोदी- बाधाएं हटा रहे हैं, छोटे किसानों को मिलेगा फायदा

कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ जारी किसानों के आंदोलन (Farmers Protest) के बीच पीएम मोदी ने एक बार फिर कहा कि इन सुधारों के बाद किसानों को नए बाजार मिलेंगे, नए विकल्प मिलेंगे, टेक्नोलॉजी का लाभ मिलेगा, देश का कोल्ड स्टोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर आधुनिक होगा. इन सबका सबसे ज्यादा फायदा मेरे देश के किसान को होने वाला है.
कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ जारी किसानों के आंदोलन (Farmers Protest) के बीच पीएम मोदी ने एक बार फिर कहा कि इन सुधारों के बाद किसानों को नए बाजार मिलेंगे, नए विकल्प मिलेंगे, टेक्नोलॉजी का लाभ मिलेगा, देश का कोल्ड स्टोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर आधुनिक होगा. इन सबका सबसे ज्यादा फायदा मेरे देश के किसान को होने वाला है.

कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ जारी किसानों के आंदोलन (Farmers Protest) के बीच पीएम मोदी ने एक बार फिर कहा कि इन सुधारों के बाद किसानों को नए बाजार मिलेंगे, नए विकल्प मिलेंगे, टेक्नोलॉजी का लाभ मिलेगा, देश का कोल्ड स्टोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर आधुनिक होगा. इन सबका सबसे ज्यादा फायदा मेरे देश के किसान को होने वाला है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 12, 2020, 12:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने शनिवार को को भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (FICCI) की 93वीं वार्षिक आम बैठक (एजीएम) और वार्षिक सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को डिजिटल माध्यम से संबोधित किया. इस दौरान पीएम मोदी ने एक बार फिर दोहराया कि नए कानून कृषि (Farm Laws) क्षेत्र में बड़े सुधार करने वाले हैं और इससे किसानों, खासकर छोटे किसानों को लाभ मिलेगा.

नए कृषि काननों के खिलाफ जारी किसानों आंदोलन (Farmers Protest) के बीच पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा, 'कृषि क्षेत्र और उससे जुड़े अन्य सेक्टर जैसे कृषि इंफ्रास्ट्रक्चर, फूड प्रोसेसिंग, कोल्ड स्टोरेज हो, इनके बीच हमने दीवारें देखी हैं. अब सभी दीवारें हटाई जा रही हैं, सभी अड़चनें हटाई जा रही हैं. इन सुधारों के बाद किसानों को नए बाजार मिलेंगे, नए विकल्प मिलेंगे, टेक्नोलॉजी का लाभ मिलेगा, देश का कोल्ड स्टोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर आधुनिक होगा. इन सबका सबसे ज्यादा फायदा मेरे देश के किसान को होने वाला है.'


पीएम मोदी ने इससे पहले अपने संबोधन में कहा कि इकॉनमिक इंडीकेटर्स आज आशाएं बढ़ा रहे हैं. कठिन समय के दौरान देश ने बहुत कुछ सीखा है और इसने हमारी आकांक्षाओं को और भी मजबूती प्रदान की है.इसका बहुत बड़ा श्रेय हमारे उद्यमियों, हमारे युवाओं, हमारे किसानों और सभी भारतीयों को जाता है.



जान बचाने को प्राथमिकता दी और दुनिया परिणाम देख रही- मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि इतने उत्तर चढ़ाव से देश और दुनिया गुजरी है कि कुछ वर्षों बाद जब हम कोरोना काल को याद करेंगे तो शायद यकीन ही नहीं आएगा. लेकिन अच्छी बात ये रही कि जितनी तेजी से हालात बिगड़े, उतनी ही तेजी के साथ सुधर भी रहे हैं. हम लोगों ने 20-20 के मैच में तेजी के साथ बहुत कुछ बदलते देखा है. लेकिन 2020 के इस वर्ष ने सभी को मात दे दी है.

मोदी ने कहा कि वैश्विक महामारी के दौरान अपने अधिकांश नागरिकों को बचाने वाला देश अन्य सभी क्षेत्रों में वापसी करने में सक्षम है. भारत ने जान बचाने को प्राथमिकता दी और दुनिया परिणाम देख रही है. पूरे देश ने महामारी से लड़ने में कई महत्वपूर्ण कदम उठाए. पीएम ने दावा किया कि विदेशी निवेशकों ने COVID अवधि के दौरान भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश और एफपीआई में रिकॉर्ड निवेश किया है.

पीएम ने कहा कि भारत ने जिस तरह बीते कुछ महीनों में एकजुट होकर काम किया, नीतियां बनाई, निर्णय लिए हैं, स्थितियों को संभाला है . उसने पूरी दुनिया को चकित करके रख दिया है.

भारत का कॉर्पोरेट कर दुनिया में सबसे अधिक प्रतिस्पर्धी- PM
एक निर्णायक सरकार सारी शक्ति को अपने पास नहीं रखना चाहती है.  इस दृष्टिकोण ने बहुत ही खराब स्थिति पैदा कर दी थी. इसके बजाय, सही सरकार चाहती है कि सभी हितधारक अपने सभी प्रतिभाओं का उपयोग करें और योगदान दें, भारत ने यह पिछले छह वर्षों में देखा है.

उन्होंने दावा किया कि पिछले 6 वर्षों में भारत ने भी ऐसी ही सरकार देखी है, जो सिर्फ और सिर्फ 130 करोड़ देशवासियों के सपनों को समर्पित है. जो हर स्तर पर देशवासियों को आगे ले जाने के लिए काम कर रही है. प्रधानमंत्री ने दावा किया कि भारत का कॉर्पोरेट कर दुनिया में सबसे अधिक प्रतिस्पर्धी है. हम उन कुछ देशों में से एक हैं जिनके पास फेसलेस मूल्यांकन और फेसलेस अपील की सुविधा है. हमने इंस्पेक्टर राज और कर आतंकवाद के युग को पीछे छोड़ दिया है.

किसान आंदोलन के बीच पीएम ने कहा कि एग्रीकल्चर सेक्टर और उससे जुड़े अन्य सेक्टर जैसे एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर हो, फ़ूड प्रोसेसिंग हो, स्टोरेज हो, कोल्ड चैन हो इनके बीच हमने दीवारें देखी हैं. अब है सभी दीवारें हटाई जा रही हैं, सभी अड़चनें हटाई जा रही हैं. उन्होंने दावा किया कि इन रिफॉर्म्स के बाद किसानों को नए बाजार मिलेंगे,नए विकल्प मिलेंगे, टेक्नोलॉजी का लाभ मिलेगा, देश का कोल्ड स्टोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर आधुनिक होगा. इन सबसे कृषि क्षेत्र में ज्यादा निवेश होगा. इन सबका सबसे ज्यादा फायदा मेरे देश के किसान को होने वाला है.

प्रधानमंत्री ने दावा किया आज, भारत के किसान अपनी उपज को मंडियों और साथ ही बाहर भी बेच सकते हैं. किसान अपनी उपज को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर भी बेच सकते हैं. हम किसानों की आय बढ़ाने और उन्हें और अधिक समृद्ध बनाने के लिए ये सभी पहल कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि देश में इथनोल को प्राथमिकता देकर बहार भेजे जाते थे लेकिन हमने स्थिति को बदला इथनोल को देश में बढ़ाया. पीएम ने कहा कि सोचिये इससे कितना बड़ा बदलाव आएगा. जितना हमारे देश में कृषि चैत्र में प्राइवेट सेक्टर द्वारा जितना निवेश किया जाना चाहिए था उतना नहीं हुआ. कोल्ड स्टोरेज नहीं थे न जाने कितने ऐसी चीज़े जो है नहीं थे लेकिन इसमें आप लोगो के इंटेरसेस्ट और इन्वेस्टमेंट की ज़रूरत है. पीएम ने कहा कि  फसल उगाने वाले किसान फल सब्ज़ी उगाने वाले किसान तौर तरीके को आपका सपोर्ट मिलेगा उतना ही हमारे देश के किसानो के फसल का नुक्सान काम होगा और आय बढ़ेगी और देश निति और नियत से किसानो के साथ है. MSME को सरकार ने ताकत दी है आपलोग अप्लाई कर सकते है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज