अपना शहर चुनें

States

सरकार और किसान संगठनों के बीच आज होने वाली बैठक टली, अब कल होगी 10वें दौर की बातचीत

किसान कानून वापस लिए जाने की मांग पर अड़े हुए हैं. (फोटो: AP)
किसान कानून वापस लिए जाने की मांग पर अड़े हुए हैं. (फोटो: AP)

Kisan Andolan: केंद्रीय कृषि सचिव संजय अग्रवाल (Sanjay Agrawal) ने पत्र में लिखा, 'आंदोलनकर्ता किसान संगठनों के साथ केंद्र सरकार की मंत्रिस्तरीय समिति की बैठक दिनांक 19 जनवरी 2020 को तय की गई थी. इस तिथि को यह बैठक अपरिहार्य कारणों से स्थगित करना आवश्यक हो गया है

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2021, 7:15 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नये कृषि कानूनों (New Farm Laws) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों और सरकार के बीच दसवें दौर की वार्ता अब 20 जनवरी को होगी. केंद्र ने कहा है कि दोनों पक्ष जल्द से जल्द गतिरोध सुलझाना चाहते हैं लेकिन अलग विचारधारा के लोगों की संलिप्तता की वजह से इसमें देरी हो रही है. सरकार ने यह दावा किया कि नये कृषि कानून किसानों के हित में हैं और कहा कि जब भी कोई अच्छा कदम उठाया जाता है तो इसमें अड़चनें आती हैं. सरकार ने कहा कि मामले को सुलझाने में देरी इसलिए हो रही है क्योंकि किसान नेता अपने हिसाब से समाधान चाहते हैं.

कृषि मंत्रालय के एक बयान में सोमवार को कहा गया, 'विज्ञान भवन में किसान संगठनों के साथ सरकार के मंत्रियों की वार्ता 19 जनवरी के बजाए 20 जनवरी को दोपहर दो बजे होगी.' उच्चतम न्यायालय द्वारा इस मामले को सुलझाने के मकसद से गठित समिति भी मंगलवार को अपनी पहली बैठक करेगी. कृषि सचिव संजय अग्रवाल ने 40 किसान संगठनों को एक पत्र में कहा, 'प्रदर्शनकारी किसान संगठनों के साथ सरकार के मंत्रियों की वार्ता 19 जनवरी को होने वाली थी. अपरिहार्य कारणों से बैठक को टालना आवश्यक हो गया.' उन्होंने कहा, 'अब बैठक विज्ञान भवन में 20 जनवरी को दोपहर दो बजे से होगी. आपसे बैठक में भागीदारी करने का आग्रह किया जाता है.'

बेनतीजा रही 9वें दौर की बैठक
सरकार और किसान संगठनों के बीच पिछली बैठक बेनतीजा रही थी. केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री पुरषोत्तम रूपाला ने पीटीआई-भाषा से कहा, 'जब किसान हमसे सीधी बात करते हैं तो अलग बात होती है लेकिन जब इसमें नेता शामिल हो जाते हैं, अड़चनें सामने आती हैं. अगर किसानों से सीधी वार्ता होती तो जल्दी समाधान हो सकता था.' उन्होंने कहा कि चूंकि विभिन्न विचारधारा के लोग इस आंदोलन में प्रवेश कर गए हैं, इसलिए वे अपने तरीके से समाधान चाहते हैं. उन्होंने कहा, 'दोनों पक्ष समाधान चाहते हैं लेकिन दोनों के अलग-अलग विचार हैं. इसलिए विलंब हो रहा है. कोई न कोई समाधान जरूर निकलेगा.'




पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों के किसान दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर पिछले कई हफ्ते से तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने इस बीच डिजिटल माध्यम से एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए दोहराया कि तीनों कृषि कानून किसानों के लिए लाभकारी होंगे.

ये भी पढ़ें: उम्मीद नहीं कि कल बातचीत से कोई हल निकलेगा, 26 को ट्रैक्टर मार्च परेड वाली जगह पर नहीं जाएगा: टिकैत

ये भी पढ़ें: ट्रैक्टर रैली निकालना किसानों का संवैधानिक अधिकार है: किसान संगठन

उन्होंने कहा, 'पिछली सरकारें भी ये कानून लागू करना चाहती थीं लेकिन दबाव के कारण वे ऐसा नहीं कर सकीं. मोदी सरकार ने कड़े निर्णय लिए और ये कानून लेकर आई. जब भी कोई अच्छी चीज होती है तो अड़चने भी आती हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज