Assembly Banner 2021

बंगाल चुनाव: ममता बनर्जी के लिए काम करने पर देंगे 50 लाख... फारूक अब्दुल्ला को आया फेक कॉल

नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला (फ़ाइल फोटो)

नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला (फ़ाइल फोटो)

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) का कहना है कि कुछ दिन पहले उनके पास फर्जी कॉल आया. कॉल करने वाले ने खुद को झारखंड का मुख्यमंत्री बताया और उन्हें ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के लिए काम करने पर 50 लाख का ऑफर दिया. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) ने एक बड़ा खुलासा किया है. अब्दुल्ला ने आरोप लगाया है कि उन्हें फेक कॉल (Fake Call) के जरिए फंसाने की कोशिश की जा रही है. अब्दुल्ला ने कहा कि उन्हें एक कॉल आया जिसके जरिए उन्हें कहा गया कि अगर वो पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) के पक्ष में प्रचार करेंगे, तो उन्हें 50 लाख रुपये मिलेंगे. अब्दुल्ला ने ये बात रविवार को जम्मू के उधमपुर में अपने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कही.

फारूक अब्दुल्ला ने कहा, 'इसी महीने मुझे झारखंड से एक फोन आया था, जिसमें मुझे कहा गया कि झारखंड के CM साहब मुझसे बात करेंगे जब कि वे उस समय पर दूसरे कॉल पर बिजी थे. लगभग आधे घंटे बाद मुझे दोबोरा कॉल आया. जिसमें मुझे कहा गया कि झारखंड के CM ने कहा है कि वे ममता बनर्जी के समर्थन के लिए पश्चिम बंगाल जा रहे हैं. अगर आप भी ममता बनर्जी का समर्थन करने के लिए पश्चिम बंगाल चलेंगे तो 50 लाख रुपये मिलेंगे.'

देवगौड़ा को भी फंसाने की कोशिश!
फारूक अब्दुल्ला के मुताबिक बाद में उन्होंने खुद झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की पार्टी के एक सांसद से बात की. उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं है. इतना ही नहीं उस सांसद ने ये भी बताया कि ऐसा ही एक कॉल पूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा को भी आया था. फारूक के मुताबिक ये विपक्षी दलों की उन्हें फंसाने की चाल है.
ये भी पढ़ें:- गुजरात के मंत्री का दावा- बंगाल में BJP जीती तो यहां पहले होंगे विधानसभा चुनाव



उधमपुर में पार्टी कार्यकर्ताओं से बातचीत करते हुए फारूक अब्दुल्ला ने ये बी कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोग प्रार्थना कर रहे हैं कि संघर्ष विराम पर भारत और पाकिस्तान के बीच हाल ही में बनी सहमति कायम रहेगी क्योंकि इससे उन्हें कुछ राहत मिलेगी. उन्होंने कहा, 'सीमा पर तनाव से स्थानीय लोगों के जीवन में बस दुख और पीड़ा आती है, कृषि वआर्थिक गतिविधियां थम जाती है और समाज के हर क्षेत्र में जीवन के तौर तरीकों पर असर पड़ता है.’

बंगाल में किस चरण में कितनी सीटों पर चुनाव?
पहले चरण में पश्चिम बंगाल की 294 में से 30 सीटों पर 27 मार्च को वोट डाले जाएंगे. वहीं, दूसरे चरण में 30 सीटों पर एक अप्रैल को, तीसरे चरण में 31 सीटों पर 6 अप्रैल को, चौथे चरण में 44 सीटों पर 10 अप्रैल को, पांचवे चरण में 45 सीटों पर 17 अप्रैल को, छठे चरण में 43 सीटों पर 22 अप्रैल को, सातवें चरण में 36 सीटों पर 26 अप्रैल को और आठवें चरण में 35 सीटों पर 29 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे. नतीजों की घोषणा दो मई को होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज