जम्मू-कश्मीर: मसूद अजहर का रिश्तेदार, जैश का IED एक्सपर्ट 'फौजी भाई' एनकाउंटर में ढेर, पुलवामा हमले में था बड़ा हाथ

जम्मू-कश्मीर: मसूद अजहर का रिश्तेदार, जैश का IED एक्सपर्ट 'फौजी भाई' एनकाउंटर में ढेर, पुलवामा हमले में था बड़ा हाथ
साल 2019 में हुए पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे.

पुलवामा (Pulwama) में एक बार फिर धमाके की प्लानिंग करने वाले आतंकी फौजी भाई इलियास अब्दुल रहमान (Fauji Bhai Alias Abdul Rehman) को कई नामों से जाना जाता था. उसकी हाइट करीब साढ़े छह फीट बताई जा रही है, इसीलिए उसे लंबू भी कहते थे.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में आतंकियों के खिलाफ सुरक्षाबलों (Security Forces) का ऑपरेशन खत्म हो गया है. बुधवार को पुलवामा (Pulwama) में सुरक्षाबलों ने एनकाउंटर के दौरान तीन आतंकियों को ढेर कर दिया. जैश-ए-मोहम्मद का बम एक्सपर्ट फौजी भाई इलियास अब्दुल रहमान (Fauji Bhai Alias Abdul Rehman) भी एनकाउंटर में मारा गया है. अब्दुल रहमान उर्फ फौजी भाई जैश सरगना मसूद अजहर का भी रिश्तेदार था. वह 2017 से ही दक्षिण कश्मीर में सक्रिय था. एनकाउंटर के बाद एहतियातन पुलवामा में इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है.

जम्मू-कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने बताया कि कंगन गांव में छिपे होने की सूचना के बाद यह एनकाउंटर शुरू किया गया था. जवानों ने आतंकियों से हथियार डालने की बात कही थी, लेकिन आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी. जिसके बाद सुरक्षाबलों ने भी हमले का वाजिब जवाब दिया. मुठभेड़ में मारे गए 2 आतंकवादियों की पहचान अभी की जा रही है.

fauji bhai alias abdul rehman
आतंकी फौजी भाई पाकिस्तान के मुल्तान का रहने वाला था. (फोटो-PTI)




पुलवामा (Pulwama) में एक बार फिर धमाके की प्लानिंग करने वाले आतंकी फौजी भाई इलियास अब्दुल रहमान को कई नामों से जाना जाता था. उसकी हाइट करीब साढ़े छह फीट बताई जा रही है, इसीलिए उसे लंबू भी कहते थे. वह मोहम्मद इस्माइल अल्वी (Mohammad Ismail Alvi) के नाम से भी जाना जाता था. अदनान और जब्बार भी उसके नाम थे.



कश्मीर घाटी में बना है जैश का कमांडर
कहा जा रहा है कि आतंकी अल्वी को कश्मीर घाटी में जैश का कमांडर बनाया गया था. करी मुफ्ती यासिर के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद अल्वी ने जनवरी में घाटी में जैश कमांडर का जिम्मा संभाला था.

पुलवामा के राजपोरा इलाके में 27 मई को कार में 45 किलो इंप्रोवाइस्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED) प्लांट करने के मामले में फौजी भाई का हाथ था. सुरक्षाबलों ने इस आंतकी साजिश को समय रहते नाकाम कर दिया था.

सुरक्षाबलों से मिले इनपुट के आधार पर रिपोर्ट में कहा गया है कि पुलवामा में फौजी भाई ने आईईडी से दो और धमाके की साजिश रची थी. टॉप काउंटर टेरर ऑफिशियल के मुताबिक, 'हमें जानकारी मिली थी फौजी भाई (जो इस्माइली नाम से भी जाना जाता था) ने तीन कारों में आईईडी प्लांट किया था. फौजी मूल रूप से पाकिस्तान के मुल्तान का रहने वाला था. इनमें से हमने एक कार को 27 मई को ही ट्रेस कर लिया था, लेकिन दो कार का पता नहीं चल पाया था. संभव: ये बडगाम और कुलगाम में प्लांट किए गए थे.'

Border-Security-Force-BSF-soldiers-patrol-1
कंगन गांव में छिपे होने की सूचना के बाद यह एनकाउंटर शुरू किया गया था. (PTI)


अधिकारियों के मुताबिक, फौजी भाई पिछले साल हुए पुलवामा अटैक को लेकर फेडरल एजेंसी की वॉन्टेड लिस्ट में है. बता दें कि बीते साल 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आईईडी ब्लास्ट हुआ था. इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे.

कब मिला था आईईडी?
सुरक्षाबलों को पहले ही पुलवामा में होने वाले ब्लास्ट को लेकर इनपुट मिल चुके थे, जिसके बाद बीते गुरुवार सुबह सुरक्षाबलों ने इस कार को बरामद कर बड़ी कामयाबी हासिल की. इस कार की डिक्की में 45 किलो आईईडी लदा हुआ था. इसके बाद जम्मू-कश्मीर के आईजी ने कहा था, 'यह ह्यूमन इंटेलीजेंस का एक शानदार ऑपरेशन था. जो पुलिस को मिला, जिसके बाद समय रहते पुलिस ने सेना और सीआरपीएफ के साथ मिलकर इस कार्रवाई को अंजाम दिया. पुलवामा पुलिस इस मामले की जांच कर रही है और हम सही दिशा में जा रहे हैं.'

ये भी पढ़ें:- 

कार में 45 Kg IED और आतंकी ड्राइवर, कैसे सुरक्षाबलों ने पुलवामा जैसे एक और हमले को किया नाकाम

पुलवामा हमले की साजिश में अहम कामयाबी, कार मालिक की हुई पहचान, हिज्बुल का है आतंकी

 
First published: June 3, 2020, 2:51 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading