केरल में भारी बारिश की आशंका, रेड एवं ऑरेंज अलर्ट जारी

मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की चेतावनी दी गयी है क्योंकि 40 से 45 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से हवा चलने की संभावना ह
मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की चेतावनी दी गयी है क्योंकि 40 से 45 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से हवा चलने की संभावना ह

मौसम विभाग (weather department) की आज सुबह की रिपोर्ट के अनुसार कोझीकोड जिले (Kozhikode district) के वडाकरा में 10 सेमी बारिश हुयी है जबकि कसारगोड जिले के होसदुर्ग में नौ सेमी, कन्नूर के तालिपराम्बु एवं कसारगोड (Kasaragod) के कुडुलू में सात-सात सेमी बारिश दर्ज की गयी है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 19, 2020, 9:42 PM IST
  • Share this:
तिरूवनंतपुरम. मौसम विभाग (weather department) ने केरल (Kerala) के इडुक्की, कन्नूर एवं कसारगोड जिलों में शनिवार एवं रविवार को भारी बारिश (heavy rain) का अनुमान व्यक्त किया है. इसके बाद विभाग ने 'रेड अलर्ट' (red alert) जारी किया है और अब अधिकारी एहतियातन लोगों को सुरक्षित इलाके में भेजने की तैयारी कर रहे हैं. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (Indian Meteorological Department) के अनुसार 20 सितंबर को उत्तर पूर्व बंगाल की खाड़ी तथा पास के इलाके में कम दबाव (Low pressure) का क्षेत्र बनने की संभावना है और इसके प्रभाव में केरल में 19-21 सितंबर के बीच बारिश एवं कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है.

प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से कई स्थानों पर भारी बारिश (heavy rain) हो रही है. मौसम विभाग (weather department) की आज सुबह की रिपोर्ट के अनुसार कोझीकोड जिले (Kozhikode district) के वडाकरा में 10 सेमी बारिश हुयी है जबकि कसारगोड जिले के होसदुर्ग में नौ सेमी, कन्नूर के तालिपराम्बु एवं कसारगोड (Kasaragod) के कुडुलू में सात-सात सेमी बारिश दर्ज की गयी है.

नौसेना, वायुसेना के हेलीकॉप्टरों, पुलिस को आपात स्थिति के लिये तैयार रहने को कहा गया
प्रदेश के आठ जिलों में शनिवार को और छह जिलों में रविवार को ऑरेंज अलर्ट (भारी से बाहुत भारी बारिश की चेतावनी) जारी किया गया है. सूत्रों ने बताया कि अलर्ट को देखते हुये, नौसेना, भारतीय वायुसेना के हेलीकॉप्टरों, पुलिस, दमकल बलों को किसी भी आपात स्थिति के मद्देनजर तैयार रहने के लिये कहा गया है.
उन्होंने बताया कि जिन जिलों में रेड एवं आरेंज अलर्ट जारी किये गये हैं, वहां आपदा के लिहाज से संवेदनशील इलाकों में रहने वाले लोगों को एहतियात के तौर पर शिविरों में भेजा जाएगा.



पहाड़ी क्षेत्रों में शाम सात बजे से सुबह सात बजे तक रात के दौरान आवागमन प्रतिबंधित
रात के दौरान बारिश के तेज होने की संभावना है और इसके मद्देनजर भूस्खलन और मिट्टी धंसने वाले क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को एहतियात के तौर पर दिन के समय ही सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जायेगा. केरल राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने कहा है कि पहाड़ी क्षेत्रों में शाम सात बजे से सुबह सात बजे तक रात के दौरान आवागमन को प्रतिबंधित कर दिया गया है.

यह भी पढ़ें: कर्नाटक के नेताओं पर कोविड-19 का कहर जारी, अब उपमुख्यमंत्री को हुआ संक्रमण

मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की चेतावनी दी गयी है क्योंकि 40 से 45 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से हवा चलने की संभावना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज