'महागठबंधन' पर बोले अरुण जेटली- भारत में जांचा, परखा और विफल विचार है

केंद्रीय मंत्री ने 2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा की जीत को लेकर विश्वास जताते हुए कहा कि यह भारत में अराजक गठबंधन को परखने का समय नहीं है वो भी ऐसे समय में जब वह वृद्धि के पथ पर है.

भाषा
Updated: October 6, 2018, 6:18 PM IST
'महागठबंधन' पर बोले अरुण जेटली- भारत में जांचा, परखा और विफल विचार है
वित्त मंत्री अरुण जेटली (File photo)
भाषा
Updated: October 6, 2018, 6:18 PM IST
केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को कहा कि भारत में 'महागठबंधन' जांचा, परखा और विफल विचार है. उन्होंने कहा कि यदि ऐसा कोई गठबंधन फिर बनता है तो 2019 का चुनाव एक मजबूत नेता के नेतृत्व वाली स्थिर सरकार और एक ‘अराजक गठबंधन’ के बीच मुकाबला होगा.

केंद्रीय मंत्री ने 2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा की जीत को लेकर विश्वास जताते हुए कहा कि यह भारत में अराजक गठबंधन को परखने का समय नहीं है वो भी ऐसे समय में जब वह वृद्धि के पथ पर है.

भारत में महागठबंधन के इतिहास का जिक्र करते हुए जेटली ने कहा, ‘आपने इसे चंद्रशेखर के तहत देखा, वीपी सिंह के समय भी आंशिक रूप से इसे परखा गया, चौधरी चरण सिंह, आई के गुजराल और देवगौड़ा के समय भी इसे देखा गया. यह एक ऐसा प्रयोग है जहां नीतियों की हत्या हो जाती है और सरकार की उम्र महज कुछ महीनों की होती है.’

वित्त मंत्री ने एक अंग्रेजी अखबार के कार्यक्रम में कहा, ‘इसलिए, यह (महागठबंधन) जांचा, परखा और विफल विचार हैं जो सुनने में बेहद अच्छे लगते हैं. एक बड़े गठबंधन के लिए आपका केंद्र बड़ा होना चाहिए और आपके साथ छोटे समूह खड़े होने चाहिए. आपका केंद्र महज कुछ लोगों का नहीं होना चाहिए और आपका गठबंधन उन राजनीतिक दलों का नहीं हो सकता जिनके हित क्षेत्रीय होते हैं.’

आने वाले दिनों में होने वाले कुछ राज्यों के विधानसभा चुनाव और आगामी लोक सभा चुनावों के मद्देनजर जेटली की यह टिप्पणी अहमियत रखती है.

अगले लोकसभा चुनावों में भाजपा को हराने के लिए विपक्ष की तरफ से महागठबंधन की बातचीत को लेकर उन्होंने आगे कहा, ‘आप उन दलों के साथ गठबंधन नहीं कर सकते जिनके नेता स्वतंत्र राय रखने वाले हैं या वे इसलिये गठबंधन में रहना चाहते हैं जिससे आपराधिक मामले बंद हो जाएं. अगर आप इस तरह की भीड़ लेकर साथ चलते हैं तब 2019 में आपके पास मजबून नेता वाली स्थिर सरकार और अराजग गठबंधन के बीच चुनाव क विकल्प होगा.’

वित्त मंत्री ने कहा, 'इतिहास ने भारत को महान अवसर उपलब्ध कराया है. भारत वैश्विक मंदी और दूसरे कारकों के बावजूद लगातार तेजी से वृद्धि कर रहा है. इसलिये, अभी हमें समन्वय, शासन और नीति की जरूरत है. यह समय नहीं है जब आप किसी अराजक गठबंधन को देखें. मेरा मानना है कि महत्वाकांक्षी समाज कभी खुदकुशी नहीं करता. इसलिए, मुझे यह बहुत स्पष्ट है कि 2019 में क्या होगा.’
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...