CBI मामले में जेटली की सफाई, कहा- CVC की सिफारिश के बाद छुट्टी पर भेजे गए थे वर्मा

आज सुप्रीम कोर्ट ने CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा को बड़ी राहत देते हुए कहा है कि उन्हें पद से नहीं हटाया जाना चाहिए था

News18Hindi
Updated: January 8, 2019, 1:23 PM IST
CBI मामले में जेटली की सफाई, कहा- CVC की सिफारिश के बाद छुट्टी पर भेजे गए थे वर्मा
वित्त मंत्री अरुण जेटली (फ़ाइल)
News18Hindi
Updated: January 8, 2019, 1:23 PM IST
आलोक वर्मा के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर सरकार की तरफ से वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सफाई दी है. जेटली ने कहा है कि सरकार ने सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजने का फैसला CVC की सिफारिशों के बाद लिया था. आज सुप्रीम कोर्ट ने CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा को बड़ी राहत देते हुए कहा है कि उन्हें पद से नहीं हटाया जाना चाहिए था.

जेटली ने कहा, ''सीबीआई का कानून है कि भ्रष्टाचार के मामले में अधिकार सीवीसी का है और हटाने का अधिकार एक समिति का है. सरकार की मंशा साफ सुथरी जांच की थी. ये क़ानूनी मामला है. सरकार ने सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजने का फैसला CVC की सिफारिशों के बाद लिया था.''

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि कोई ऐसा कानून नहीं है कि सरकार बिना सेलेक्ट कमेटी के परमिशन के किसी सीबीआई डायरेक्टर को पद से हटाए. कोर्ट ने कहा कि नियुक्ति, पद से हटाने और ट्रांसफर को लेकर साफ नियम हैं. ऐसे में कार्यकाल खत्म होने से पहले आलोक वर्मा को पद से नहीं हटाना चाहिए था. यानी अब आलोक वर्मा अपने तय कार्यकाल यानी 31 जनवरी तक सीबीआई निदेशक के पद पर बने रहेंगे.

जांच ब्यूरो के निदेशक आलोक कुमार वर्मा और ब्यूरो के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच छिड़ी जंग सार्वजनिक होने के बाद सरकार ने पिछले साल 23 अक्टूबर को दोनों अधिकारियों को उनके अधिकारों से वंचित कर अवकाश पर भेजने का निर्णय किया था. दोनों अधिकारियों ने एक दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाये थे.

ये भी पढ़ें:

गरीब सवर्णों को आरक्षण: मोदी सरकार की राह में क्या हैं मुश्किलें?

गरीब सवर्णों को आरक्षण: मोदी सरकार की राह में क्या हैं मुश्किलें?
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...