EFD में शामिल हुईं सीतारमण ने आर्थिक और कोरोना मुद्दों पर की बात, वीडियो कॉन्फ्रेंस में किए जॉइंट स्टेटमेंट पर साइन

सीतारमण ने कहा कि वे अगले साल शुरू होने वाले इंडिया-यूके फाइनेंशियल मार्केट वार्ता का इंतजार कर रही हैं. (फोटो: ANI/Twitter)
सीतारमण ने कहा कि वे अगले साल शुरू होने वाले इंडिया-यूके फाइनेंशियल मार्केट वार्ता का इंतजार कर रही हैं. (फोटो: ANI/Twitter)

फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए 10वें इंडियन-यूके इकोनॉमिक एंड फाइनेंशियल डायलॉग (10th India-UK Economic & Financial Dialogue) में कोरोना और आर्थिक मुद्दों पर चर्चा की। इस दौरान उन्होंने ब्रिटेन और भारत के आर्थिक संबंधों को जरूरी बताया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 28, 2020, 6:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) बुधवार को कोरोना वायरस पर वैश्विक प्रतिक्रिया को लेकर हुए पहले सेशन में शामिल हुईं. 10वें भारत-यूके आर्थिक और वित्तीय वार्ता (EFD) में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शिरकत की. इसके साथ ही उन्होंने वार्ता के बाद वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर ही जॉइंट स्टेटमेंट पर भी साइन किए.

जरूरी है भारत और ब्रिटेन के बीच आर्थिक संबंध
इसके बाद हुए दूसरे सेशन में सीतारमण ने भारत और ब्रिटेन के बीच आर्थिक सेवाओं में सहयोग को लेकर चर्चा की. जबकि, कार्यक्रम के तीसरे सेशन में इंफ्रास्ट्रक्चर और फाइनेंस पर बात हुई. इंडिया-यूके फाइनेंशियल पार्टनरशिप (India-UK Financial Partnership (IUKFP)) के बिजनेस एंगेजमेंट सेशन के दौरान भारत की तरफ से उदय कोटक और ब्रिटेन की तरफ से डेविड क्रेग ने बात की.

पहले सेशन में वित्त मंत्री ने कहा कि भारत-यूके के आर्थिक संबंध जरूरी है. दोनों देश दुनिया की शीर्ष 7 इकोनॉमीज में शामिल हैं. मिलाकर देखे तों दोनों देशों की जीडीपी 5 ट्रिलियन डॉलर से ज्यादा है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस पर प्रतिक्रियाओं को लेकर अनुभव साझा करना दोनों देशों की पॉलिसीज को बेहतर बनाने में मदद करेगा. सीतारमण ने कहा कि वे अगले साल से शुरू होने वाले वार्षिक इंडिया-यूके फाइनेंशियल मार्केट वार्ता का इंतजार कर रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज