कर्नाटक: पहली बार किसी मुस्लिम शख्स को बनाया जाएगा लिंगायत मठ का मुख्य पुजारी

कर्नाटक: पहली बार किसी मुस्लिम शख्स को बनाया जाएगा लिंगायत मठ का मुख्य पुजारी
लिंगायत मठ

33 साल के दीवान शरीफ रहमानसाब मुल्ला पहले मुस्लिम होंगे जो लिंगायत मठ के पुजारी का पद ग्रहण करेंगे. यह लिंगायत मठ गडग जिले के आसुती गांव में है

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 20, 2020, 2:55 PM IST
  • Share this:
हुबली. उत्तर कर्नाटक के गडग जिले में स्थित एक लिंगायत मठ ने एक मुस्लिम शख्स को मुख्य पुजारी बनाने का फैसला किया है. 33 साल के दीवान शरीफ रहमानसाब मुल्ला को यह जिम्मेदारी सौंपी जाएगी. वो 26 फरवरी को पद ग्रहण करेंगे. 10 नवंबर, 2019 को शरीफ ने 'लिंग दीक्षा' ली थी. शरीफ ने बताया कि वह बचपन से ही 12वीं सदी के सुधारक बासवन्ना की शिक्षाओं से प्रभावित थे और वह सामाजिक न्याय तथा सद्भाव के उनके आदर्शों पर काम करेंगे. यह लिंगायत मठ गडग जिले के आसुती गांव में है. इसका नाम मुरुगराजेंद्र कोरानेश्वरा शांतिधाम मठ है.

शरीफ के पिता ने दान दी थी जमीन
इस मठ के लिए सालों पहले शरीफ के पिता स्वर्गीय रहिमनसब मुल्ला ने गांव में एक मठ स्थापित करने के लिए दो एकड़ जमीन दान की थी. वो आसुती में शिवयोगी के प्रवचनों से काफी प्रभावित थे. शिवयोगी ने कहा 'शरीफ बसव के दर्शन के प्रति समर्पित हैं. उनके पिता ने भी हमसे 'लिंग दीक्षा' ली थी. पिछले 3 सालों से शरीफ को लिंगायत धर्म और बासवन्ना की शिक्षाओं के विभिन्न पहलुओं को लेकर प्रशिक्षित किया गया है.

पुजारी ने कहा, सभी धर्म समान



खजूरी मठ के पुजारी मुरुगराजेंद्र कोरानेश्वर शिवयोगी ने कहा, बसव का दर्शन सार्वभौमिक है और हम अनुयायियों को जाति और धर्म की विभिन्नता से नहीं आंकते. हर धर्म और जाति के लोगों को गले लगाया जाता है. उन्होंने 12वीं शताब्दी में सामाजिक न्याय और सद्भाव का सपना देखा था और उनकी शिक्षाओं का पालन करते हुए, मठ ने सभी के लिए अपने दरवाजे खोले हुए हैं.



ऐसे गुजरा शरीफ का बचपन
शरीफ ने बताया कि मैं पास के मेनासगी गांव में रहता था और आटा चक्की चलाता था. बचपन से ही बासवन्ना और 12वीं शताब्दी के अन्य साधुओं द्वारा लिखे गए प्रवचन सुना करता था. लिंगायत मठों में परिवार वाले व्यक्ति की पुजारी के तौर पर नियुक्ति भी थोड़ी असामान्य है लेकिन मुरुगराजेंद्र स्वामीजी ने मेरी इस छोटी सेवा को पहचान लिया और मुझे अपने साथ ले लिया. शरीफ के चार बच्चे हैं तीन बेटी और एक बेटा.

ये भी पढ़ें: 14 करोड़ की सरकारी मदद से पैदा हुए सिर्फ 233 बच्चे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading