पहली बार चुन कर आए सांसदों को मिल रहा सवाल पूछने का मौका, स्पीकर बोले- मंत्री इसके लिए आगे से रहें तैयार

गौरतलब है कि स्पीकर ओम बिरला अक्सर मंत्रियों और चुन कर आए नए सांसदों को सलाह देते रहे हैं.

News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 1:20 AM IST
पहली बार चुन कर आए सांसदों को मिल रहा सवाल पूछने का मौका, स्पीकर बोले- मंत्री इसके लिए आगे से रहें तैयार
लोकसभा स्पीकर ओम बिरला की फाइल फोटो PTI Photo/Shahbaz Khan)
News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 1:20 AM IST
17वीं लोकसभा में पहली बार चुन कर आए सांसदों को सवाल पूछने का मौका मिल रहा है. गुरुवार को लोकसभा की कार्यवाही के दौरान 4 घंटे 48 मिनट के दौरान 162 सदस्यों को सवाल पूछने का मौका मिला. गुरुवार सुबह लोकसभा के प्रश्नकाल के दौरान आखिरी सवाल लिया गया है.

प्रायः प्रश्नकाल में आखिरी सवाल तक चर्चा नहीं हो पाती थी. संसद के पटल पर सूचीबद्ध 20 सवालों के बाद भी मंत्री ने एक और सवाल का जवाब दिया. इस दौरान आखिरी सवाल लेते हुए स्पीकर ओम बिरला ने कहा कि मंत्री आगे से इसेक लिए तैयार रहें.

गौरतलब है कि स्पीकर ओम बिरला अक्सर मंत्रियों और चुन कर आए नए सांसदों को सलाह देते रहे हैं. बीते दिनों  स्पीकर ने केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को नसीहत देते हुए उन्हें अपने अधिकार से परिचय कराया था.इतना ही नहीं स्पीकर पोखरियाल पर थोड़ा नाराज भी दिखे और उन्हें आसन के अधिकार भी याद दिलाए.

इसे भी पढ़ें :- शुद्ध हिंदी के लिए फेमस हो चुके हैं नए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला

सदन में केंद्रीय शैक्षणिक संस्था (शिक्षकों के काडर में आरक्षण) विधेयक 2019 पर चर्चा हो रही थी और इस बिल को लोकसभा में पारित कर दिया गया. बताया गया कि जब मंत्री रमेश पोखरियाल चर्चा का जवाब दे रहे थे तभी एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने बिल से जुड़े किसी बिंदु को सदन में उठाने की इच्छा जाहिर की.

सुप्रिया सुले ने इसके लिए सदन में हाथ उठाया और अपनी आपत्ति दर्ज कराई. इस पर मंत्री रमेश पोखरियाल ने अपना भाषण वहीं रोक दिया और उन्हें बोलने की इजाजत देते हुए कहा कि आप कुछ कह रही थीं. सदन में मंत्री के इस व्यवहार पर स्पीकर ने नाराजगी जताते हुए मंत्री को सदन के नियमों से की जानकारी दी.

इसे भी पढ़ें :- स्पीकर ओम बिरला ने मंत्री को दी नसीहत, सदन में आप बोलने की आज्ञा न दें- ये काम मेरा
Loading...

सुप्रिया ने मंत्री के इस तरह भाषण रोकने पर अपनी बात पूरी की, इसके बाद जैसे ही  पोखरियाल ने फिर से बोलना शुरू किया तो स्पीकर ओम बिरला ने उन्हें रोकते हुए कहा कि मंत्री जी आप आज्ञा न दिया दें कि आप बोलें. सदन में आज्ञा देने का काम केवल मेरा है. स्पीकर के इतना कहते ही सदन में जोर से ठहाके लगने लगे. इसके बाद केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने बिल पर चर्चा को आगे बढ़ाया.
स्पीकर बिरला सदन में हंगामा करने वाले सांसदों को फटकार लगाने से नहीं चूकते हैं. बीते दिनों उन्होंने एक सांसद को सदन में बोलने के लिए फटकार लगा दी. बिरला ने सांसद से कहा कि आप यहां बैठकर ज्ञान नहीं दें, सदन नियमों से चलेगा.


First published: July 19, 2019, 1:20 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...