भारी बारिश और बाढ़ से मध्य भारत में तबाही, कम से कम 24 की मौत, हज़ारों लोग निकाले गए

भारी बारिश और बाढ़ से मध्य भारत में तबाही, कम से कम 24 की मौत, हज़ारों लोग निकाले गए
ओडिशा में हर तरफ तबाही का मंजर (फोटो- ANI)

Heavy Rain and Flood: इस साल अगस्त के महीने में देश में रिकॉर्ड बारिश हुई है. मौसम विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, इस साल अगस्त के महीने में बारिश ने पिछले 44 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया. इससे पहले अगस्त के महीने में इतनी ज्यादा बारिश साल 1976 में हुई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2020, 8:37 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के कई हिस्सों में पिछले दो दिन से लगातार हो रही भारी बारिश (Heavy Rain) से तबाही का मंजर है. अब तब बारिश और बाढ़ के चलते कम से कम 24 लोगों की मौत हो गई, जबकि 11 हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. नर्मदा नदी में पानी ज्यादा होने से मध्य प्रदेश और गुजरात के कई इलाकों में पानी भर गया है, जबकि हीराकुंड डैम (Hirakud Dam) से पानी बहने के चलते ओडिशा के कई इलाकों में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं.

केंद्र से मांगी मदद
मध्य प्रदेश के बाढ़ प्रभावित 12 जिलों के 454 गांवों से लगभग 11,000 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है. हालांकि कई इलाकों में भारी बारिश कुछ थम गई है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बाढ़ से मची तबाही को लेकर चर्चा की है. इसके अलावा उन्होंने ये भी कहा कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से भी बात कर मदद मांगी गई है. पिछले दो दिनों से जारी बारिश के चलते बाढ़ की स्थिति पैदा होने के बाद महाराष्ट्र में विदर्भ क्षेत्र के कुछ जिलों और नागपुर के कई स्थानों से 18,000 से अधिक लोगों को निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.





ओडिशा में तबाही
उधर तटीय ओडिशा में कई गांव रविवार को महानदी के बाढ़ के पानी से घिर गए. कटक के पास मुंदाली बैराज से 10 लाख क्यूसेक पानी छोड़ने से ऐसे हालात पैदा हुए. 10 लाख क्यूसेक का मतलब हुआ प्रति सेकंड 28,300,000 लीटर पानी का प्रवाह. हीराकुंड बांध के 64 फाटक में से 43 को अधिकारियों ने खोल दिये हैं. अब हिराकुंड बांध से 7.65 लाख क्यूसेक से ज्यादा (प्रति सेकंड 21,662,505 लीटर) पानी छोड़ा जा रहा है. इस बीच मौसम विज्ञान केंद्र ने अगले तीन दिनों के दौरान क्योंझर, मयूरभंज, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, रायगढ़ा, गजपति, मल्कानगिरि और जाजपुर जिलों सहित राज्य के अलग-अलग हिस्सों में बारिश की चेतावनी दी है.

ये भी पढ़ें- कल से बदल जाएंगी आपके रोजमर्रा की ये चीजें, फौरन दें ध्यान नहीं तो होगा नुकसान

अगस्त में टूटा बारिश का 44 साल का रिकॉर्ड 
बता दें कि इस साल अगस्त के महीने में देश में रिकॉर्ड तोड़ बारिश हुई है. मौसम विभाग के आंकड़ों के मुताबिक इस साल अगस्त के महीने में बारिश ने पिछले 44 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया. इससे पहले अगस्त के महीने में इतनी ज्यादा बारिश साल 1976 में हुई थी. अगस्त के महीने में इस साल 25 फीसदी ज्यादा बारिश हुई. 44 साल पहले देश भर में 28.4% ज्यादा बारिश हुई थी. भारत से दक्षिणी और मध्य हिस्से में इस साल ज़ोरदार बारिश हुई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज