Home /News /nation /

food conserve produce more carbon know that

कौन सा आहार हमारे ग्रह को बचाने में मदद करेगा, जानें किस तरह के भोजन का करें सेवन

मांस और डेयरी विशेष रूप से वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का लगभग 14.5 प्रतिशत हिस्सा है. Image/Canva

मांस और डेयरी विशेष रूप से वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का लगभग 14.5 प्रतिशत हिस्सा है. Image/Canva

मांस और डेयरी विशेष रूप से वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का लगभग 14.5 प्रतिशत हिस्सा है. इसलिए हम जो खाते हैं उसे बदलने से कार्बन उत्सर्जन कम करने और सतत खेती को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है.

लंदन. हम जो भोजन करते हैं, उसका हमारे ग्रह पर व्यापक प्रभाव पड़ता है. पृथ्वी पर रहने योग्य भूमि का लगभग आधा हिस्सा कृषि से संबंधित है और दुनिया में ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का एक चौथाई उत्सर्जन होता है. मांस और डेयरी विशेष रूप से वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का लगभग 14.5 प्रतिशत हिस्सा है. इसलिए हम जो खाते हैं उसे बदलने से कार्बन उत्सर्जन कम करने और सतत खेती को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है. लेकिन ‘‘जलवायु के अनुकूल’’ कई आहार हैं. पूरी तरह से पौधे आधारित शाकाहारी आहार ज्यादा प्रचलित हैं, और अंडे तथा डेयरी आहार को भी इसमें शामिल माना जाता है. ‘‘फ्लेक्सिटेरियन’’ आहार भी हैं, जहां तीन चौथाई मांस और डेयरी आहार को पौधे-आधारित भोजन से बदल दिया जाता है.

‘‘फ्लेक्सिटेरियन’’ आहार भोजन का एक रूप है जिसमें ज्यादातर पौधे आधारित खाद्य पदार्थ पसंद किए जाते हैं, जबकि मांस और अन्य पशु उत्पादों को अनुमति दी जाती है. इसे एक अर्ध-शाकाहारी आहार माना जा सकता है. जलवायु संबंधी (क्लाइमेटेरियन) आहार. एक ऐसा स्वरूप जो गैर-लाभकारी संगठन ‘क्लाइमेट नेटवर्क’ द्वारा बनाया गया था और इसे स्वस्थ, जलवायु अनुकूल और प्रकृति के अनुकूल माना जाता है. आहार अभी भी आपको मांस और अन्य उच्च उत्सर्जन वाले खाद्य पदार्थ जैसे सूअर का मांस, मुर्गी पालन, मछली, डेयरी उत्पाद और अंडे खाने की अनुमति देता है. तो यह ‘‘जलवायु संबंधी मांसाहारी आहार’’ का एक नया स्वरूप है. हालांकि, भोजन की बर्बादी से बचने और मौसमी, स्थानीय खाद्य पदार्थों का चयन करते हुए, आहार आपको समग्र रूप से मांसाहारी भोजन में कमी करने के लिए प्रोत्साहित करता है.

जल और भूमि उपयोग:
अपने ग्रह को बचाने के लिए हमें जल और भूमि दोनों के उपयोग पर भी विचार करना चाहिए. उदाहरण के लिए, बीफ को प्रति किलो लगभग 15,000 लीटर पानी की आवश्यकता होती है. कुछ शाकाहारी खाद्य पदार्थ जैसे एवोकाडो और बादाम में भी पानी की मात्रा बहुत अधिक होती है, लेकिन कुल मिलाकर एक पौधे-आधारित आहार की तुलना में एक मानक मांस-आधारित आहार की पानी की खपत लगभग आधी होती है. कृषि भूमि की कम आवश्यकता वनों की कटाई को रोकने और जैव विविधता की रक्षा करने में मदद करेगी. भूमि का उपयोग बड़े क्षेत्रों को फिर से जंगल और पुनर्जीवित करने के लिए भी किया जा सकता है जो कार्बन डाइऑक्साइड का प्राकृतिक भंडार बन जाएगा.

एक पौधे आधारित आहार भी आमतौर पर स्वस्थ होता है. मांस, विशेष रूप से अत्यधिक प्रसंस्कृत मांस, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग और कैंसर सहित प्रमुख स्वास्थ्य मुद्दों से जुड़ा हुआ है. हालांकि, मांस, डेयरी और मछली कुछ आवश्यक विटामिन और खनिजों जैसे कैल्शियम, जस्ता, आयोडीन और विटामिन बी12 के मुख्य स्रोत हैं. ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने, आवास को नष्ट होने से बचाने और आपको लंबे समय तक जीने में मदद करने के लिए आदर्श वैश्विक आहार क्या है? वैसे मैं एक ‘‘अल्ट्रा-फ्लेक्सिटेरियन’’ होने का सुझाव देता हूं – ज्यादातर पौधों पर आधारित खाद्य पदार्थों का आहार, लेकिन एक ऐसा जो मांस और डेयरी उत्पादों को अत्यधिक मात्रा में अनुमति देता है, लेकिन लाल और प्रसंस्कृत मांस पूरी तरह से प्रतिबंधित है. (मार्क मास्लिन, यूसीएल द्वारा)

Tags: Food, Health

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर