जम्मू-कश्मीर में कभी पत्थर फेंकने के लिए हुई थीं बदनाम, आज बन गई फुटबॉलर

जम्मू-कश्मीर में कभी पत्थर फेंकने के लिए हुई थीं बदनाम, आज बन गई फुटबॉलर
साल 2017 के दिसंबर में अफशाना की ये फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी

साल 2017 के दिसंबर में अफशाना की एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी. इस फोटो में अफशाना के चहरे कपड़े से ढके थे और वो पुलिस पर पत्थर फेंक रही थी.

  • Share this:
अंग्रेजी में एक कहावत है 'फर्स्ट इंप्रेशन इज द लास्ट इंप्रेशन' यानी हमेशा आपकी पहली छवि ही लोगों के दिमाग में रहती है. जम्मू-कश्मीर की फुटबॉल खिलाड़ी अफशाना आशिक़ की कहानी कुछ ऐसी ही है. अपनी खराब इमेज को बदलना अफशाना के लिए मुश्किल चुनौती साबित हो रही है.

साल 2017 के दिसंबर में अफशाना की एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी. इस फोटो में अफशाना के चहरे कपड़े से ढके थे और वो पुलिस पर पत्थर फेंक रही थी. इस तस्वीर से वो बदनाम हो गई. लोग उन्हें पत्थरबाज़ कहने लगे.

न्यूज़ 18 से बात करते हुए उन्होंने कहा, ''मुझे लोग पत्थरबाज़ी करने वाली फुटबॉलर कहने लगे. लेकिन आपको बता दूं कि मैंने सिर्फ एक दिन पत्थर फेंका था. वैसे मैं फुटबॉलर हूं.''



अफशाना ने बताया कि साल 2017 में उन्होंने आर्मी पर पत्थर नहीं फेंके थे, बल्कि स्थानी पुलिस के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था. लेकिन मीडिया ने उनकी इमेज एक पत्थरबाज़ की बना दी. अफशाना को ये लगा कि उनके चेहरे ढके थे. ऐसे में लोग उन्हें पहचान नहीं पाएंगे. लेकिन ऐसा हुआ नहीं.
उन्होंने बताया, ''मैं ट्रेनिंग के लिए गई थी. मुझे लगा कि लोग पहचान नहीं पाएंगे. इस बीच हमारे स्पोर्ट्स के सेक्रेटरी आ गए. उन्होंने मुझसे कहा आप तो सोशल मीडिया पर काफी फेमस हैं. मैंने उन्हें कहा क्या किया है मैंने. सेक्रेटरी ने कहा बस पांच मिनट मुझे दो फिर मैं आपको बताता हूं.'' उन्होंने अफशाना को उसकी वो फोटो दिखा दी जो सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी.

अफशाना अपनी टीम में गोलकीपर हैं


हालांकि, बाद में स्पोर्ट्स सेक्रेटरी ने उनकी मदद की. लेकिन अफशाना को अगले दो महीने के लिए घर से निकलने नहीं दिया गया. बाद में उनके पापा मान गए और फिर वो प्रैक्टिस के लिए घर से बाहर जा सकी.
अफशाना इन दिनों मुंबई में इंडियन विमेंस लीग फुटबॉल में हिस्सा ले रही हैं. वो कोल्हापुर के लिए खेलती हैं. इंजरी के चलते वो इन दिनों टीम से बाहर हैं. इसके अलावा 24 साल की अफशाना जम्मू में लड़कियों के लिए फुटबॉल क्लब भी चलाती हैं.

ये भी पढ़ें:

अलवर गैंगरेप केस- पीड़िता बनेगी पुलिस कांस्टेबल

नॉर्थ कोरिया में ऐसे करते हैं एप डाउनलोड

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज