लाइव टीवी

विदेशी मीडिया भी इसरो का मुरीद, भारत को बताया बड़ा खिलाड़ी


Updated: February 15, 2017, 7:35 PM IST
विदेशी मीडिया भी इसरो का मुरीद, भारत को बताया बड़ा खिलाड़ी
Photo - AP

जहां इसरो के रिकॉर्ड लॉन्च की तारीफें देशभर में हैं, वहीं विदेशी मीडिया ने भी इस उपलब्धि की सराहना की है.

  • Last Updated: February 15, 2017, 7:35 PM IST
  • Share this:
श्रीहरिकोटा का सतीश धवन केंद्र बुधवार को विज्ञान की दुनिया में भारत के बनाए गए कीर्तिमान का गवाह बना. एक साथ सौ से ज्यादा देशी-विदेशी सेटेलाइट्स को अंतरिक्ष में स्थापित कर भारत विश्व के सामने एक नई वैज्ञानिक शक्ति के रूप में उभरा है. जहां इसरो के इस रिकॉर्ड की तारीफें देशभर में हैं, वहीं विदेशी मीडिया ने भी इस उपलब्धि की सराहना की है.

(इसे भी पढ़ें - अंतरिक्ष में भारत का दबदबा, 104 सेटेलाइट एक साथ लांच कर इसरो ने रचा इतिहास)

भारतीय अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के इस बड़े कदम पर पहले से ही दुनियाभर की निगाहें थीं. अमेरिका के प्रमुख अखबार वॉशिंगटन पोस्ट ने लिखा है कि इसरो का ये लॉन्च उसके किफायती कीमतों में बन रहे अंतरिक्ष यान और सेटेलाइट का एक और शानदार नमूना है. 2014 में भी 74 मिलियन डॉलर की कम कीमत में बने मंगल यान को इसरो ने सफलता पूर्वक लॉन्च किया था.

विज्ञान से जुड़े भारत के एक थिंक टैंक 'ऑजर्वर रिसर्च फाउंडेशन' के वैज्ञानिक राजेश्वरी पिल्ले ने वॉशिंगटन पोस्ट के हवाले से इस सॉन्च की तारीफ की. उन्होंने कहा कि इस नए कारनामे ने चलते इसरो विश्व के अंतरिक्ष बाजार में एक बड़े प्रतिद्वंद्वी की तरह दाखिल हो गया है. साथ ही उन्होंने कहा कि कम कीमतों में उपकरण हासिल करने और पुराने उपकरणों को नए में तबदील करने के चलते इसरो लगातार सफलता हासिल कर रहा है.

(इसे भी पढ़ें - इसरो की इन सात सफलताओं की पूरी दुनिया में है चर्चा)

इस साल के बजट में स्पेस प्रोग्राम के लिए भारत सरकार द्वारा की गई 20 प्रतिशत की बढ़ोतरी की भी विदेशी मिडिया में सराहना हो रही है. साथ ही भारत के दूसरे 'मार्स मिशन' के लिए की गई घोषणा को भी इस दिशा में अहम कदम बताया गया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 15, 2017, 7:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर