Home /News /nation /

भारत की स्वदेशी कोरोना वैक्सीन 'कोवैक्सीन' को WHO से कब मिलेगी मंजूरी? सरकार ने बताया सब कुछ

भारत की स्वदेशी कोरोना वैक्सीन 'कोवैक्सीन' को WHO से कब मिलेगी मंजूरी? सरकार ने बताया सब कुछ

ब्ल्यूएचओ के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा था कि किसी टीके के इस्तेमाल की अनुमति देने के फैसले के लिए टीके का पूरी तरह से मूल्यांकन करने और इसकी सिफारिश करने की प्रक्रिया में कभी-कभी अधिक समय लगता है (File pic)

ब्ल्यूएचओ के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा था कि किसी टीके के इस्तेमाल की अनुमति देने के फैसले के लिए टीके का पूरी तरह से मूल्यांकन करने और इसकी सिफारिश करने की प्रक्रिया में कभी-कभी अधिक समय लगता है (File pic)

Bharat Biotech Covaxin: कोवैक्सीन को हैदराबाद की कंपनी भारत बायोटेक ने भारतीय मेडिकल एसोसिएशन के सहयोग से विकसित किया है. इस साल 19 अप्रैल को भारत बायोटेक ने टीके को आपातकालीन उपयोग सूची (ईयूएल) में शामिल करने के लिए डब्ल्यूएचओ को ईओआई (रुचि अभिव्यक्ति) प्रस्तुत की थी. इसके बाद डब्ल्यूएचओ ने भारत बायोटेक से कई अन्य जानकारियां मांगी. बीते मंगलवार को डब्ल्यूएचओ के तकनीकी सलाहकार समूह ने कोवैक्सीन के आंकड़ों की समीक्षा करने के लिए बैठक की. इसके बाद डब्ल्यूएचओ ने कहा कि टीके के वैश्विक उपयोग के मद्देनजर अंतिम लाभ-जोखिम मूल्यांकन के वास्ते निर्माता से अतिरिक्त स्पष्टीकरण मांगे जाने की जरूरत है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को कब मंजूरी मिलेगी इस पर भारत सरकार ने बड़ी जानकारी दी है. शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान विदेश सचिव एचवी श्रृंगला ने कहा, ‘हमें जानकारी मिली है कि भारत बायोटेक से डब्ल्यूएचओ ने कुछ सवाल पूछे थे, जैसे ही कंपनी द्वारा उन सवालों को जवाब दे दिए जाएंगे कोवैक्सीन को मंजूरी मिल जाएगी.’ उन्होंने कहा कि कोवैक्सीन से संबंधित सवालों के जवाब देने की प्रक्रिया का हम सावधानीपूर्वक पालन कर रहे हैं और जल्द ही वैक्सीन के अप्रूवल की उम्मीद कर रहे हैं. दरअसल, डब्ल्यूएचओ ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को डब्लूएचओ की इमरजेंसी लिस्ट में शामिल करने के लिए अब तक कई बार अलग-अलग डेटा और डॉक्यूमेंट मांगे थे जो कंपनी ने डब्ल्यूएचओ के पास दे दिया है. अब तक वैक्सीन के एफिकेसी, सेफ्टी और इममुनोजेन्सिटी का डेटा दे दिया है. माना जा रहा है कि इस सप्ताह के आखिर या नवंबर महीने की शुरुआत में कोवैक्सीन को डब्ल्यूएचओ द्वारा मंजूरी दी जा सकती है.

    इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के अप्रूवल पर कहा था कि डब्लूएचओ की अपनी एक प्रक्रिया है. पहले इसे टेक्निकल कमेटी देखती है उसके बाद दूसरी कमेटी देखती है. टेक्निकल कमेटी ने पॉजिटिव साइन दिया है. दूसरी सब कमेटी बैठक कर रही है. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा था कि फिलहाल प्रक्रिया पूरी कर ली गई है और उम्मीद है कि जल्द भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को डब्लूएचओ की मंजूरी मिल जाएगी. आपको बता दें कि भारत में इस वैक्सीन को इसी साल 3 जनवरी को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है और भारत के कोरोना टीकाकरण में ये शामिल है.

    ‘कोवैक्सीन’ पर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कही ये बात
    इससे पहले 27 अक्टूबर को डब्ल्यूएचओ ने कहा था कि भारत के स्वदेश निर्मित कोविड रोधी टीके ‘कोवैक्सीन’ को आपातकालीन उपयोग की सूची में शामिल करने के लिए अंतिम ‘लाभ-जोखिम मूल्यांकन’ करने के वास्ते भारत बायोटेक से मांगा गया ‘अतिरिक्त स्पष्टीकरण’ इस सप्ताह के अंत तक प्राप्त होने की उम्मीद है.

    ये भी पढ़ेंः- अब घर-घर जाकर वैक्सीन लगाएगी सरकार, देशभर में जल्द ‘हर घर दस्तक’ महाअभियान की शुरुआत

    डब्ल्यूएचओ ने कहा कि स्पष्टीकरण प्राप्त होने के बाद अंतिम मूल्यांकन के लिए तीन नवंबर को बैठक की जाएगी. डब्ल्यूएचओ ने ट्वीट किया, आपातकालीन उपयोग सूची (ईयूएल) में शामिल करने के बारे में संगठन का तकनीकी सलाहकार समूह, एक स्वतंत्र सलाहकार समूह है जोकि डब्ल्यूएचओ को इसकी सिफारिश करता है कि किसी कोविड-19 रोधी टीके को ईयूएल प्रक्रिया के तहत आपातकालीन इस्तेमाल के लिए सूचीबद्ध किया जा सकता है या नहीं.

    Tags: Bharat Biotech, Bharat Biotech vaccines, Corona vaccine, Corona vaccine news, Corona Vaccine Update, WHO

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर