Assembly Banner 2021

कर्नाटक: निगेटिव कोरोना टेस्‍ट रिपोर्ट को भूल जाओ, गोवा है न!

महाराष्‍ट्र या केरल से कर्नाटक आने वाले यात्रियों को अनिवार्य रूप से अपनी निगेटिव कोरोना जांच रिपोर्ट साथ रखनी होगी. प्रतीकात्‍मक चित्र

महाराष्‍ट्र या केरल से कर्नाटक आने वाले यात्रियों को अनिवार्य रूप से अपनी निगेटिव कोरोना जांच रिपोर्ट साथ रखनी होगी. प्रतीकात्‍मक चित्र

महाराष्‍ट्र (Maharashtra) या केरल (Kerala) से कर्नाटक (Karnataka) आने वाले यात्रियों को अनिवार्य रूप से अपनी निगेटिव कोरोना जांच रिपोर्ट साथ रखनी होगी. इससे बचने के लिए यात्री अब महाराष्‍ट्र या केरल से सीधे कर्नाटक न आते हुए, पहले वे गोवा जा रहे हैं और फिर कर्नाटक आते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 27, 2021, 10:36 PM IST
  • Share this:
बेंगलुरू.  कर्नाटक (Karnataka) आने वाले कुछ यात्रियों ने अपना रास्‍ता बदल लिया है. राज्‍य में आने से पहले वे गोवा (Goa) पहुंचते हैं और फिर वहां से कर्नाटक राज्‍य की सीमा में दाखिल होते हैं. ऐसा इ‍सलिए कि कर्नाटक राज्‍य में प्रवेश के लिए कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट (Corona Negative Report) साथ रखना अनिवार्य है, लेकिन यदि आप गोवा से आ रहे हैं तो रिपोर्ट दिखाने की जरूरत नहीं है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, गोवा से कर्नाटक में प्रवेश करने वाले लोग, जो दक्षिणी राज्य के साथ अपनी सीमा साझा करते हैं, प्रतिबंधों से बाध्य नहीं हैं. निगेटिव कोविड-19 प्रमाणपत्र को अनिवार्य बनाने के बाद, कर्नाटक सरकार ने महाराष्ट्र और केरल के साथ सीमाओं के पास चौकियों पर सतर्कता बरतना शुरू कर दिया है. हालांकि ऐसी शर्त गोवा से आने वाले लोगों पर नहीं है, इसलिए कुछ यात्रियों ने अपने रास्‍ते बदल लिए हैं. वे कोविड परीक्षण सहित अन्‍य संबंधित प्रोटोकॉल को दरकिनार करने के लिए इसका उपयोग कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें  उत्तर प्रदेश में कोरोना के दक्षिण अफ्रीकी स्ट्रेन के तीन मरीजों की पुष्टि, मचा हड़कंप



कैब ड्राइवर सलीम ने बताया कि इन दिनों गोवा से कर्नाटक आने वालों की संख्‍या तेजी से बढ़ गई है. उसने बताया‍ कि महाराष्ट्र और केरल से लोग गोवा के लिए उड़ान भर रहे हैं और वहां से टैक्सी लेकर कर्नाटक में प्रवेश कर रहे हैं. हालांकि इस ट्रेंड के पता चलते ही सरकार जाग गई है. स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण विभाग के आयुक्‍त डॉ केवी त्रिलोक चंद्र ने कहा कि वे गोवा सीमा पर चौकियों की स्‍थापना के लिए जिला अधिकारियों से बात कर रहे हैं. उन्‍होंने कहा कि जो लोग कोरोना जांच से बच रहे हैं, उन सबकी जांच के लिए व्‍यवस्‍था बनाई जा रही है.
ये भी पढ़ें  Explained: इंटरनेट की वो अंधेरी दुनिया, जहां बिकने लगे वैक्सिनेशन के फर्जी सर्टिफिकेट

वहीं राज्‍य के स्वास्थ्य मंत्री के सुधाकर ने शुक्रवार को कहा कि यात्रियों के शहर में आने के एक हफ्ते बाद परीक्षण किया जाएगा और यह केवल उन लोगों के लिए अनिवार्य होगा जो एक सप्ताह से अधिक यहां रहते हैं, न कि छोटी यात्राओं के लिए.

राज्‍य में कोरोनावायरस के लिए 9.75 लाख से अधिक लोगों की जांच रिपोर्ट पॉजीटिव आ चुकी है. वहीं कोरोना संक्रमण के कारण 12,461 लोगों की मौत हो चुकी है. आंकड़ों की मानें तो 17 मार्च से एक सप्ताह में 12,341 से अधिक लोगों की जांच रिपोर्ट में कोरोना संक्रमण फिर पॉजिटिव आया है. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग के अनुसार, इनमें से 7851 मामले अकेले बेंगलुरु शहरी क्षेत्र से रिपोर्ट किए गए थे. इस बीच, 54 और लोगों की मौत कोरोना संक्रमण से हो गई, जिनमें से 33 अकेले राजधानी से थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज