Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    खेल जगत को बड़ा झटका, दिल का दौरा पड़ने से दिग्‍गज भारतीय खिलाड़ी का निधन

    सत्यजीत घोष 62 साल के थे (फोटो क्रेडिट :ATK Mohun Bagan FC)
    सत्यजीत घोष 62 साल के थे (फोटो क्रेडिट :ATK Mohun Bagan FC)

    पूर्व भारतीय डिफेंडर सत्यजीत घोष (satyajeet ghosh) को घर में दिल का दौरा पड़ा और अस्तपाल जाते हुए उन्होंने रास्ते में दम तोड़ दिया.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 9, 2020, 8:50 PM IST
    • Share this:
    कोलकाता. भारत और मोहन बागान (mohun bagan) के पूर्व डिफेंडर सत्यजीत घोष (satyajeet ghosh)  ने सोमवार को दुनिया को अलविदा कह दिया. सोमवार को उनका बंदेल के उनके निवास पर दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. वह 62 बरस के थे. घोष के पारिवारिक सूत्रों ने इसकी जानकारी दी. उनके परिवार में पत्नी और एक बेटी है.

    पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि घोष को बंदेल के देवनंदपुर में अपने घर में दिल का दौरा पड़ा और चिन्सुराह अस्तपाल जाते हुए उन्होंने रास्ते में दम तोड़ दिया. घोष ने 1985 में नेहरू कप में भारत का प्रतिनिधित्व किया था.





    घोष ने 1980 में अपने करियर की शुरुआत रेलवे एफसी के साथ ही और अगले सत्र में मोहन बागान से जुड़ गए. उन्होंने भारत के स्टार डिफेंडर सुब्रत भट्टाचार्य के साथ मजबूत जोड़ी बनाई थी. उन्‍होंने 1982 से 1986 तक और 1988 में मोहन बागान का प्रतिनिधित्‍व किया.


    चोटों से प्रभावित रहा सत्‍यजीत का करियर
    भावुक भट्टाचार्य ने कहा कि मैं अपने करियर के दौरान कई डिफेंडर के साथ खेला, लेकिन सत्यजीत सर्वश्रेष्ठ में से एक थे. उन्‍हें शानदार टैकलिंग और टाइमिंग के लिए जाना जाता था.

    यह भी पढ़ें: 

    मुश्ताक अहमद की जगह ज्ञानेंद्रो निंगोंबम बने हॉकी इंडिया के नए अध्यक्ष

    पठान का बड़ा बयान, कहा- ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ रोहित शर्मा करें टीम की कप्‍तानी

    चोटों के कारण हालांकि 1986 में मोहन बागान के साथ घोष का करियर खत्म हो गया और वह इसके बाद मोहम्मडन स्पोर्टिंग से जुड़े. घोष 1989 में दोबारा बागान से जुड़े और 1993 में संन्यास लेने तक टीम के साथ रहे.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज