जम्मू-कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती की बेटी पासपोर्ट में बदलवाना चाहती हैं मां का नाम

जम्मू-कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती की बेटी पासपोर्ट में बदलवाना चाहती हैं मां का नाम
महबूबा मुफ्ती

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) की मुख्यमंत्री रह चुकीं पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) और उनके पति साथ नहीं रहते हैं. शादी के तीन साल बाद ही ये दोनों अलग हो गए थे. इनकी दो बेटियां हैं - इल्तिजा और इरतिक़ा...

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2020, 1:28 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ( Mehbooba Mufti) की छोटी बेटी पासपोर्ट (Passport) में अपनी मां का नाम बदलवाना चाहती हैं. बेटी इरतिक़ा (Irtiqa Javed) ने इसको लेकर अखबार में एक नोटिस छपवाया है. वो चाहती हैं कि पासपोर्ट में उनकी मां का नाम महबूबा मुफ्ती से बदलकर महबूबा सैयद कर दिया जाए. बता दें कि 61 साल की महबूबा मुफ्ती की दो बेटियां हैं, इरतिक़ा और इल्तिजा.

क्या लिखा है नोटिस में
श्रीनगर के स्थानीय अखबारों में छपाए गए नोटिस में लिखा गया है, ' मैं इरतिक़ा जावेद, जावेद इकबाल शाह की बेटी अपने पासपोर्ट में अपनी मां महबूबा मुफ्ती का नाम बदलकर महबूबा सैयद करना चाहती हूं. मैं, श्रीनगर, कश्मीर 190001, फेयरव्यू हाउस गुप्कर रोड के निवासी हूं. अगर किसी को इससे संबंधित कोई आपत्ति है तो कृपया सात दिनों के अंदर संबंधित अधिकारियों से संपर्क कर सकते हैं, उसके बाद कोई आपत्ति दर्ज नहीं की जाएगी.'

पति से अलग रहती हैं महबूबा
बता दें कि महबूबा मुफ्ती और उनके पति साथ नहीं रहते हैं. शादी के तीन साल बाद ही ये दोनों अलग हो गए थे. इनकी दो बेटियां हैं - इल्तिजा और इरतिका. बड़ी बेटी अपनी मां के नक्शेकदम पर चलते हुए मुफ्ती सरनेम लिया है, जबकि छोटी बेटी अपने पिता के करीब है. महबूबा मुफ्ती की शादी साल 1984 में हुई थी. महबूबा 4 अप्रैल 2016 से लेकर 2018 तक जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री रही हैं. महबूबा के पिता मुफ्ती मोहम्मद सईद भी दो बार जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री रहे हैं.



ये भी पढ़ें:-सोना बेचते समय आपको कितना देना होगा इनकम टैक्स? यहां जानें सबकुछ

महबूबा मुफ्ती फिलहाल नजरबंद
बता दें कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही महबूबा मुफ्ती नजरबंद हैं. पिछले महीने उनकी नजरबंदी को सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम (पीएसए) के तहत तीन महीने के लिए बढ़ा दिया गया. अब वे 5 नवंबर तक हिरासत में रहेंगी. पिछले साल 5 अगस्त को सरकार ने तमाम नेताओं को हिरासत में लिया था. इस दौरान पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती, डॉ. फारूख अब्दुल्ला समेत कई अन्य नेता भी हिरासत में लिए गए थे. उमर, फारूक समेत कई नेताओं को रिहा कर दिया गया था, लेकिन महबूबा और शाह फैसल अब भी हिरासत में ही हैं. (पीटीआई इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज