महबूबा मुफ्ती बोलीं- हम अमरनाथ यात्रा के समर्थक, लेकिन कश्‍मीरियों को होती है दिक्‍कत

इस दौरान मुफ्ती ने हुर्रियत नेताओं से बातचीत का भी समर्थन किया. उन्‍होंने कहा, 'हुर्रियत का उदारवादी गुट बातचीत के लिए तैयार है.'

News18Hindi
Updated: July 8, 2019, 8:25 AM IST
News18Hindi
Updated: July 8, 2019, 8:25 AM IST
जम्‍मू-कश्‍मीर की पूर्व मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने अमरनाथ यात्रा को लेकर बड़ा बयान दिया है. मुफ्ती ने कहा, 'हम अमरनाथ यात्रा का समर्थन करते हैं, लेकिन सुरक्षा के नाम पर कश्‍मीरियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है.'

इस दौरान मुफ्ती ने हुर्रियत नेताओं से बातचीत का भी समर्थन किया. उन्‍होंने कहा, 'हुर्रियत का उदारवादी गुट बातचीत के लिए तैयार है. अगर हुर्रियत के नेता बातचीत के लिए तैयार हैं तो केंद्र सरकार को इस अवसर का इस्‍तेमाल करना चाहिए. सरकार को हुर्रियत नेताओं के साथ बातचीत शुरू करनी चाहिए.'

पहले 5 दिन में 67,000 से अधिक श्रद्धालुओं ने की अमरनाथ यात्रा

बाबा अमरनाथ यात्रा के पांचवें दिन 16,745 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में शिवलिंग के दर्शन किए. इसके साथ ही इन पहले पांच दिनों के दौरान 67,000 से अधिक तीर्थयात्रियों ने अमरनाथ यात्रा की है. अब शनिवार को 5,124 यात्रियों का एक और जत्था जम्मू से पवित्र गुफा के लिए रवाना हुआ है.

यात्री शनिवार को भगवती नगर यात्री निवास दो सुरक्षा काफिले में कश्मीर घाटी के लिए रवाना हुए हैं. अमरनाथ यात्रा 1 जुलाई से शुरू हुई थी. एक पुलिस अधिकारी ने कहा, 'इनमें से बालटाल आधार शिविर के लिए 1,994 यात्री पहले सुरक्षा काफिले में तड़के तीन बजे रवाना हुए, जबकि 3,130 यात्री दूसरे सुरक्षा काफिले में पहलगाम आधार शिविर के लिए तड़के 3.20 बजे रवाना हुए.'

तीर्थयात्रा 15 अगस्त को होगी संपन्न

क्षेत्रीय मौसम कार्यालय ने अपने पूर्वानुमान में शनिवार को पवित्र गुफा के दोनों मार्गो पर आमतौर पर आसमान में बादल छाए रहने की बात कही है. समुद्र तल से 3,888 मीटर ऊपर स्थित अमरनाथ गुफा तीर्थस्थल पर इस साल की 45 दिवसीय वार्षिक हिंदू तीर्थयात्रा 15 अगस्त को श्रावण पूर्णिमा के साथ संपन्न होगी.
Loading...

तीर्थयात्रियों के लिए हेलीकॉप्टर सुविधा

श्रद्धालु पवित्र गुफा के लिए पारंपरिक पहलगाम मार्ग से या बालटाल मार्ग से पहुंचते हैं. दोनों आधार शिविरों में तीर्थयात्रियों के लिए हेलीकॉप्टर सेवाएं उपलब्ध हैं. स्थानीय मुसलमानों ने हमेशा यह सुनिश्चित करने में मदद की है कि उनके हिंदू भाई आसानी और सुविधा के साथ यात्रा कर सकें.

ये भी पढ़ें: बुरहान की बरसी पर पुलवामा जैसा हमला करने के फिराक में आतंकी

ये भी पढ़ें: अमरनाथ यात्रियों के लिए ढाल बने ITBP के जवान, VIDEO वायरल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 8, 2019, 8:08 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...