गिरीश चंद्र मुर्मू बने देश के नए CAG, राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने दिलाई शपथ

गिरीश चंद्र मुर्मू बने देश के नए CAG, राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने दिलाई शपथ
गिरीश चंद्र मुर्मू

गुजरात कैडर के 1985 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी (सेवानिवृत) गिरीश चंद्र मुर्मू (Girish Chandra Murmu) का कैग के तौर पर कार्यकाल 20 नवंबर 2024 तक होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 8, 2020, 1:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जम्मू कश्मीर के पूर्व उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू (Girish Chandra Murmu) ने शनिवार को भारत के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (CAG) के पद की शपथ ली. राष्ट्रपति भवन ने ये जानकारी दी.राष्ट्रपति भवन की जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि मुर्मू ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविद के समक्ष पद की शपथ ली. राष्ट्रपति भवन के अशोक हॉल में आयोजित समारोह में मुर्मू ने कैग के रूप में शपथ ली.

कार्यकाल 20 नवंबर 2024 तक
विज्ञप्ति के अनुसार गुजरात कैडर के 1985 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी (सेवानिवृत) मुर्मू का कैग के तौर पर कार्यकाल 20 नवंबर 2024 तक होगा. कैग एक संवैधानिक पद है जिसपर केन्द्र सरकार और राज्य सरकारों के खातों की लेखापरीक्षा करने की प्राथमिक जिम्मेदारी है. कैग की लेखापरीक्षा रिपोर्टों को संसद और राज्य विधानसभाओं में पेश किया जाता है.





मुर्मू का लंबा अनुभव
मुर्मू ने अपनी पढ़ाई उत्कल यूनिवर्सिटी से की है. उन्होंने राजनीति शास्त्र में बीए और फिर एमए किया. राजनीति शास्त्र का ये औपचारिक ज्ञान मुर्मू के काम पिछले साल भी आया, जब वे आर्टिकल 370 की समाप्ति के बाद पूर्ण राज्य से केंद्र शासित प्रदेश बने जम्मू-कश्मीर के पहले लेफ्टिनेंट गवर्नर के तौर पर नियुक्त हुए. मुर्मू ने ब्रिटेन की बर्मिंघम यूनिवर्सिटी से एक साल का एमबीए कोर्स खत्म कर 2004 के सितंबर में गुजरात लौटे. उसके बाद उन्होंने लंबे वक्त तक गुजरात सरकार के साथ काम किया. अक्टूबर 2019 में जम्मू-कश्मीर का लेफ्टिनेंट गवर्नर नियुक्त किए जाने से पहले करीब साढ़े चार साल तक मुर्मू वित्त मंत्रालय के अंदर ही अलग-अलग भूमिका निभाते रहे. (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज