लाइव टीवी

पूर्व पीडीपी नेता का दावा-Article 370 हटने के बाद J&K में नहीं हुई कोई मौत, केंद्र को दी बधाई

News18Hindi
Updated: January 18, 2020, 11:20 PM IST
पूर्व पीडीपी नेता का दावा-Article 370 हटने के बाद J&K में नहीं हुई कोई मौत, केंद्र को दी बधाई
सैयद अल्ताफ बुखारी को करीब एक साल पहले PDP से निकाल दिया गया था (फाइल फोटो)

पूर्व पीडीपी नेता (Former PDP leader) सैयद अल्ताफ बुखारी (Syed Altaf Bukhari) ठीक एक साल पहले पार्टी विरोधी गतिविधियों (Anti party Activities) के चलते पार्टी से बर्खास्त कर दिए गए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2020, 11:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर के पूर्व वित्त मंत्री और पीडीपी नेता (Former J&K Finance Minister and PDP leader) सैयद अल्ताफ बुखारी (Syed Altaf Bukhari), ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 (Article 370) के हटाए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में किसी की भी मौत नहीं हुई है. इसके लिए सरकार को और उसके साथ ही जम्मू-कश्मीर की जनता को भी श्रेय जाता है. मैं दोनों को ही बधाई देना चाहता हूं.

पूर्व पीडीपी नेता (Former PDP leader) ठीक एक साल पहले पार्टी विरोधी गतिविधियों (Anti party Activities) के चलते पार्टी से बर्खास्त कर दिए गए थे.

PDP-BJP गठबंधन टूटने के बात मुख्यमंत्री बनने के करीब थे अल्ताफ बुखारी
PDP-BJP गठबंधन टूटने के बाद कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस (National Conference) और पीडीपी ने मिलकर सरकार बनाने की कोशिश की थी. इस बात पर अल्ताफ ने भी मुहर लगाई थी. इस संभावित गठबंधन की तुलना 2002 में हुए पीडीपी-कांग्रेस गठबंधन से की गई थी, जिसे नेशनल कॉन्फ्रेंस ने बाहर से समर्थन दिया था और वह सरकार पूरे पांच साल चली थी.

अल्ताफ बुखारी के साथ चार अन्य नेताओं को PDP से निकाला गया था
पीडीपी ने उन्हें पार्टी से बर्खास्त करने के लिए कारण बताया था, "पार्टी काफी समय से अपने नेता सैयद अल्ताफ बुखारी की गतिविधियों पर नजर रख रही है. हमारे संस्थापक मुफ्ती मोहम्मद सईद (Mufti Mohammad Sayeed) के गुजरने के बाद से ही वे अपनी निजी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं को पार्टी और राज्य के हितों की कीमत पर आगे बढ़ा रहे थे. बुखारी ने पार्टी के असंतुष्टों को बढ़ावा दिया, जिसके परिणामस्वरूप हमारी गठबंधन सरकार में गठबंधन के एजेंडे को लागू करने में दिक्कतें आईं"

पार्टी ने अपने बयान में कहा था कि गठबंधन टूटने के बाद भी बुखारी पार्टी हितों को आगे बढ़ाने के बजाए पार्टी को तोड़ने की गतिविधियों में लिप्त रहे. बता दें कि अल्ताफ बुखारी के साथ चार अन्य वरिष्ठ नेताओं और पूर्व कैबिनेट मंत्रियों को भी पार्टी से निकाल दिया गया था. (भाषा के इनपुट सहित)यह भी पढ़ें: 'परमात्मा को यही मंजूर था, मोदी जैसे किसी महापुरुष के हाथों हटे अनुच्छेद 370'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 18, 2020, 10:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर