पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की सेहत में हुआ थोड़ा सुधार, अब भी वेंटिलेटर पर

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की सेहत में हुआ थोड़ा सुधार, अब भी वेंटिलेटर पर
प्रणब मुखर्जी के गुर्दे संबंधी मानकों में सुधार (फाइल फोटो)

अस्पताल ने एक बयान में कहा, ‘पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Former President Pranab Mukherjee) के फेफड़ो के संक्रमण का इलाज चल रहा . उनके गुर्दों संबंधी मानकों में सुधार आया है. वह अब भी गहरे कौमा में हैं और जीवनरक्षक प्रणाली पर ही हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Former President Pranab Mukherjee) अब भी गहरे कौमा में हैं और वेंटिलेटर पर हैं, लेकिन उनके गुर्दे (Kidney) संबंधी मानकों में सुधार हुआ है. अस्पताल ने शनिवार को यह जानकारी दी. प्रणब मुखर्जी का उपचार कर रहे डॉक्टरों ने कहा कि उनकी रक्त आपूर्ति संबंधी क्रियाएं स्थिर (हिमोडायनेमिकली स्टेबल) हैं और उनके फेफड़ों के संक्रमण का उपचार चल रहा है.

डॉक्टरों का कहना है कि किसी व्यक्ति को ‘हिमोडायनेमिकली स्टेबल’ तक कहा जाता है जब उसकी रक्त आपूर्ति मानक-रक्तचाप, हृदय और नब्ज की रफ्तार स्थिर और सामान्य हो. पूर्व राष्ट्रपति को 10 अगस्त को यहां सेना के रिसर्च एंड रेफरेल अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उनकी मस्तिष्क की सर्जरी की गई थी. उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि भी हुई थी. बाद में उनके फेफड़ों में भी संक्रमण हो गया.

अभी भी वेंटिलेटर पर हैं पूर्व राष्ट्रपति



अस्पताल ने एक बयान में कहा, ‘प्रणब मुखर्जी के फेफड़ो के संक्रमण का इलाज चल रहा . उनके गुर्दों संबंधी मानकों में सुधार आया है. वह अब भी गहरे कौमा में हैं और जीवनरक्षक प्रणाली पर ही हैं. वह ‘हिमोडायनामिकली’ स्थिर हैं.’ प्रणब मुखर्जी भारत के 13वें राष्ट्रपति थे और 2012 से 2017 तक राष्ट्रपति पद पर रहे.
बता दें कि पिछले हफ्ते प्रणब मुखर्जी के फेफड़ों में संक्रमण की शिकायत मिली थी, जिसके बाद उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई. स्पेशलिस्ट डॉक्टरों की एक टीम लगातार उनकी निगरानी कर रही है. बता दें कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को 10 अगस्त की दोपहर एक सर्जरी कराने के लिए अस्पताल में भर्ती हुए थे. जांच के दौरान वह कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, उसके बाद से ही उनकी सेहत में कोई सुधार होता नहीं दिखाई दे रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज