अपना शहर चुनें

States

मनी लॉन्ड्रिंग केस में तृणमूल के पूर्व सांसद केडी सिंह गिरफ्तार, ED की हिरासत में भेजे गए

टीएमसी के पूर्व सांसद को 16 जनवरी तक ईडी की हिरासत में भेजा गया है (सांकेतिक तस्वीर)
टीएमसी के पूर्व सांसद को 16 जनवरी तक ईडी की हिरासत में भेजा गया है (सांकेतिक तस्वीर)

Ponji Scheme Scam: ईडी उनके खिलाफ दो मामलों की जांच कर रही है. पहला मामला कोलकाता पुलिस की ओर से दर्ज की गई प्राथमिकी के आधार पर और दूसरा मामला बाजार नियामक सेबी की ओर से दाखिल आरोप पत्र के आधार पर दायर किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 13, 2021, 9:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने 1900 करोड़ रुपये के कथित पोंजी स्कीम घोटाले (Ponji Scheme Scam) से संबंधित धन शोधन मामले (Money Laundering Case) में तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) के पूर्व सांसद एवं कारोबारी कंवर दीप सिंह (TMC MP Kanvar Deep Singh) को गिरफ्तार किया है. आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. एजेंसी ने ‘एलकेमिस्ट लिमिटेड’ के 59 वर्षीय संस्थापक पर जांच में सहयोग नहीं करने का आरोप लगाया और धनशोधन निषेध अधिनियम की धाराओं के तहत उन्हें मंगलवार रात को गिरफ्तार किया.

सूत्रों ने बताया कि सिंह को बुधवार को यहां की एक अदालत के समक्ष पेश किया गया जहां से उन्हें 16 जनवरी तक ईडी (ED) की हिरासत में भेजा गया. केन्द्रीय जांच एजेंसी ने धन शोधन के दो मामलों में सिंह और उनसे जुड़े लोगों के परिसरों पर सितंबर 2019 में दिल्ली एवं चंडीगढ़ में छापेमारी की थी. सिंह दवा कंपनी ‘एलकेमिस्ट लिमिटेड’ के अध्यक्ष थे और उन्होंने 2012 में पद से इस्तीफा दे दिया था. कहा जाता है कि वह वर्तमान में कारोबारी समूह के ‘‘एमरिटस चेयरमैन’’ और संस्थापक हैं.

ये भी पढ़ें- देश के 10 राज्यों में बर्ड फ्लू की पुष्टि, केंद्र का निर्देश- अफवाहों से बचने के लिए एडवायजरी जारी करें राज्य




ईडी दो मामलों में उनके खिलाफ जांच कर रही है.

हजारों उपभोक्ताओं से धोखाधड़ी करने का है आरोप
पहला मामला कोलकाता पुलिस की ओर से दर्ज की गई प्राथमिकी के आधार पर और दूसरा मामला बाजार नियामक सेबी की ओर से दाखिल आरोप पत्र के आधार पर दायर किया गया है.

वर्ष 2108 में कोलकाता पुलिस ने सिंह, उनके बेटे करनदीप सिंह, एलकेमिस्ट टाउनशिप इंडिया लिमिटेट, एलकेमिस्ट होल्डिंग्स लिमिटेड तथा अन्य कंपननियों तथा निदेशकों के खिलाफ हजारों उपभोक्ताओं से धोखाधड़ी करने के आरोप में मामला दर्ज किया था.

ये भी पढ़ें- 17 माह में तीसरी बार येडियुरप्पा सरकार का कैबिनेट विस्तार, फिर भी असंतोष कायम

वहीं सिंह और उनकी कंपनी ‘एलकेमिस्ट इंफ्रा रेड रिएलिटी लिमिटेड’ के खिलाफ एक अन्य मामला 2016 में दर्ज किया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज