लाइव टीवी

नंदनकानन चिड़ियाघर में वायरस से चार हाथियों की मौत

भाषा
Updated: September 22, 2019, 2:53 PM IST
नंदनकानन चिड़ियाघर में वायरस से चार हाथियों की मौत
आठ हाथियों में से चार की मौत इस वायरस की वजह से हुई है.

वहीं नंदनकानन चिड़ियाघर (Zoo) के उप निदेशक जयंत दास ने कहा कि चिड़ियाघर में हाथियों (Elephants) की जान बचाने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं.

  • भाषा
  • Last Updated: September 22, 2019, 2:53 PM IST
  • Share this:
भुवनेश्वर: ओडिशा के नंदनकानन चिड़ियाघर (Zoo) में एक वायरस की वजह से चार हाथियों की मौत हो गई. ओडिशा सरकार ने इस वायरस से निपटने के लिए असम और केरल के विशेषज्ञों से सहायता मांगी है. इन हाथियों के बच्चों की मौत एंडोथेलियोट्रोफिक हर्प्स वायरस (EEHV) की वजह से एक महीने के भीतर हुई है. ईईएचवी वायरस ज्यादातर हाथियों के 15 साल तक के बच्चों को प्रभावित करता है.

ओडिशा के वन और पर्यावरण मंत्री बी कारूखा ने शनिवार को बताया, "राज्य सरकार ने असम और केरल के विशेषज्ञों से संपर्क किया है. वहां भी इसी तरह के वायरस ने हाथियों की जान ली थी." इस तरह के वायरस को फैलने को रोकने के लिए कोई टीका उपलब्ध नहीं है, इसलिए राज्य सरकार ने विशेषज्ञों से सहायता मांगी है. मंत्री ने बताया कि जेल के आठ हाथियों में से चार की मौत इस वायरस की वजह से हुई है. हाथियों को बचाने की कोशिश जा रही है. हालिया मौत शनिवार रात में हुई.

उप निदेशक जयंत दास ने कहा कि हाथियों की जान बचाने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं



एक मादा हाथी 'गौरी' की मौत हुई. बचे हुए चार हाथियों में से तीन व्यस्क हैं. मंत्री ने कहा कि ज्यादातर हाथी राज्य के अलग-अलग जंगल क्षेत्र से लाए गए हैं. उनके रक्त के नमूने लिए जाएंगे ताकि इस वायरस को जंगल में फैलने से रोका जा सके. नंदनकानन चिड़ियाघर के उप निदेशक जयंत दास ने कहा कि चिड़ियाघर में हाथियों की जान बचाने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. उन्होंने बताया कि इसकी कोई जानकारी नहीं है कि वायरस से बाकी बचे हाथी प्रभावित हैं या नहीं.
First published: September 22, 2019, 2:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading