हाथरस केस: पुलिस का दावा पीड़िता को इंसाफ दिलाने की आड़ में यूपी में दंगे कराने की थी साजिश

हाथरस की आड़ में यूपी में दंगा कराने की चल रही थी साजिश.
हाथरस की आड़ में यूपी में दंगा कराने की चल रही थी साजिश.

यूपी पुलिस (UP Police) ने इन सबके बीच दावा किया है कि हाथरस (Hathras) में दलित लड़की को इंसाफ दिलाने की आड़ में यूपी (Uttar Pradesh) में दंगा (Riot) भड़काने की कोशिश की जा रही थी और इसके लिए विदेशों से पैसे भेजे जा रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 9, 2020, 1:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras Case) में दलित लड़की की कथित गैंगरेप (Gangrape) के बाद हत्या के मामले की जांच रही एजेंसियों को इस पूरी घटना में एक बड़ी साजिश की आहट मिली है. जैसे-जैसे इस मामले की जांच आगे बढ़ रही है वैसे-वैसे इस मामले में कई चेहरे सामने आने लगे हैं. जांच एजेंसियों को इस पूरी घटनाक्रम में भीम आर्मी से लेकर पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (Popular Front of India) और विदेशी फंडिंग (Foreign Funding) से लेकर खनन माफिया तक से कनेक्शन जुड़ने के संकेत मिल रहे हैं. यूपी पुलिस ने इन सबके बीच दावा किया है कि दलित लड़की को इंसाफ दिलाने की आड़ में यूपी में दंगा भड़काने की कोशिश की जा रही थी और इसके लिए विदेशों से पैसे भेजे जा रहे थे.

यूपी पुलिस ने दावा किया है कि हाथरस के बहाने उत्तर प्रदेश में बड़ी साजिश को अंजाम देने की ​तैयारी थी. मामले की जांच में कई अहम जानकारियां मिलने के बाद पुलिस अब एक्शन में आ गई है और इस षड्यंत्र को अंजाम देने वालों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया गया है. यूपी में शांति भंग करने करने के आरोप में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के मुखपत्र के संपादक को भी गिरफ्तार कर लिया गया है.

इसे भी पढ़ें :- Hathras Case: जांच में कब होगी सीबीआई की एंट्री? विपक्षी दल उठाने लगे सवाल



बता दें कि गिरफ्तार संपादक शाहीन बाग के पीएफआई दफ्तर का सचिव भी है. पुलिस उसे रिमांड पर लेना चाहती है, जिससे इस पूरे मामले की सही जानकारी का पर्दाफाश किया जा सके. जांच के बीच हाथरस में हिंसा फैलाने की इस साजिश में भीम आर्मी का नाम भी सामने आया है. जांच एजेंसियों को ऐसे सबूत हाथ लगे हैं जो इस ओर इशारा कर रहे हैं कि हाथरस की आड़ में पीएफआई और भीम आर्मी मिलकर दंगा भड़काने की कोशिश कर रहे थे.

इसे भी पढ़ें :- Hathras Case: परिजनों का चौंकाने वाला दावा- जिसको जलाया वह हमारी बेटी नहीं थी, DM-SP का हो नार्को टेस्ट

इस मामले में विदेशी फंडिंग की बात सामने आने के बाद पुलिस ने इस मामले से जुड़े सभी संदिग्ध लोगों के बैंक ट्रांजेक्शन की जांच शुरू कर दी है. जांच में इस बात के भी संकेत मिले हैं कि पीएफआई ने अपने इस षड्यंत्र में भीम आर्मी को शामिल किया और यूपी में दंगा फैलाने के लिए फंडिंग की. शुरुआती जांच में एक संदिग्ध के अकाउंट में भारी ट्रांजेक्शन हुआ है. अब इस मामले से जुड़े अन्य लोगों के अकाउंट की जांच की जा रही है. इसके साथ ही यूपी पुलिस को पश्चिमी यूपी के एक खनन माफिया के भी इस मामले में फंडिंग के सुराग हाथ लगे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज