लाइव टीवी

इस वकील ने 49 हस्तियों पर कराया राजद्रोह का केस, अमिताभ और धूम 2 को भी नहीं छोड़ा था

News18.com
Updated: October 5, 2019, 11:15 PM IST
इस वकील ने 49 हस्तियों पर कराया राजद्रोह का केस, अमिताभ और धूम 2 को भी नहीं छोड़ा था
वकील सुधीर कुमार ओझा अभी तक 49 सिलेब्रिटीज पर केस कर चुके हैं (फोटो क्रेडिट- फेसबुक)

देश में मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) की घटनाओं पर चिंता जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को पत्र लिखने वाली 49 हस्तियों के खिलाफ गुरुवार को FIR दर्ज कराई गई. यह एफआईआर मुजफ्फरपुर के रहने वाले वकील सुधीर कुमार ओझा ने दर्ज कराई है.

  • News18.com
  • Last Updated: October 5, 2019, 11:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) की घटनाओं पर चिंता जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को पत्र लिखने वाली 49 हस्तियों के खिलाफ गुरुवार को FIR दर्ज कराई गई. जिनके खिलाफ मामला दर्ज हुआ उनमें इतिहासकार रामचंद्र गुहा (Ramchandra Guha), फिल्‍ममेकर मणिरत्‍नम (Mani Ratnam), श्‍याम बेनेगल (Shyam Benegal) और अपर्णा सेन जैसी हस्तियों के नाम हैं. एफआईआर मुजफ्फरपुर के रहने वाले वकील सुधीर कुमार ओझा ने दर्ज कराई है.

सुधीर का दावा है कि 1996 में वकालत शुरू करने के बाद से अब तक तकरीबन 745 जनहित याचिकाएं दाखिल कर चुके हैं. उन्‍होंने बताया, 'सिविल ज्‍यूडिशियल मजिस्‍ट्रेट ने 20 अगस्‍त को मेरी याचिका मंजूर करते हुए आदेश जारी किया इसके बाद सदर पुलिस स्‍टेशन में एफआईआर दर्ज कराई गई.'

धूम 2 के किसिंग सीन के खिलाफ डाली थी जनहित याचिका
55 साल के ओझा कई हस्तियों पर विज्ञापनों में गुमराह करने के आरोप और फिल्‍मों में किस के सीन पर केस कर चुके हैं. 2007 में उन्‍होंने धूम 2 (Dhoom 2) फिल्‍म के एक किस सीन के खिलाफ जनहित याचिका दाखिल की थी. वहीं 2013 में उन्‍होंने मैगी का विज्ञापन करने पर अमिताभ बच्‍चन के खिलाफ जनहित याचिका डाली थी. ओझा का कहना था कि मैगी से सेहत को नुकसान होता है.

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh), राष्‍ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव, महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे भी उन हस्तियों में से एक हैं जिन पर ओझा ने केस किया था. उनका कहना है कि मशहूर लोगों के प्रधानमंत्री को खत लिखने से उन्‍हें कोई ऐतराज नहीं. उन्‍होंने न्‍यूज वेबसाइट द प्रिंट से कहा, 'लेकिन इसे मीडिया में छपवाकर उन्‍होंने प्रधानमंत्री और देश की छवि को जानबूझकर खराब करने की कोशिश की.'

पत्र में लिखा, फिल्मी हस्तियों ने की पीएम के काम की अनदेखी
उन्‍होंने पत्र लिखने वाली हस्तियों पर प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) के शानदार काम की अनदेखी करने और अलगाववादी ताकतों का समर्थन करने का आरोप भी लगाया. पुलिस का कहना है कि एफआईआर भारतीय दंड संहिता की राजद्रोह, सार्वजनिक रूप से उत्‍पात करने, धार्मिक भावनाओं को आहत करने और किसी विशेष उद्देश्‍य से शांति में बाधा डालने के आरोपों में दर्ज की गई है.
Loading...

इस साल जुलाई में फिल्‍ममेकर अनुराग कश्यप (Anurag Kashyap), श्‍याम बेनेगल, मणि रत्‍नम, एक्‍टर कोंकणा सेन मित्रा सहित 49 अलग-अलग क्षेत्रों के जानेमाने लोगों ने पीएम मोदी को मॉब लिंचिंग के बारे में लिखा था. पत्र में कहा गया था कि मुसलमानों (Muslims), दलितों और अल्‍पसंख्‍यकों की पीट-पीटकर हत्‍या (Mob Lynching) रोकी जानी चाहिए. साथ ही कहा था कि असहमति के बिना कोई लोकतंत्र (Democracy) नहीं होता. पत्र में यह भी कहा गया था कि जय श्री राम को देश में युद्धघोष बना दिया गया है.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान का वो मंदिर जहां मुसलमान भी करते हैं नवरात्रि की पूजा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 5, 2019, 8:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...