कास्ट नहीं क्लास पर BJP का ध्यान, पीएम मोदी के काशी दौरे के पीछे है ये बड़ा प्लान!

बीजेपी के इस रुख में बदलाव लोकसभा चुनाव के बाद आया है. चुनावी नतीजों के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जातिगत समीकरणों से ऊपर उठकर बात करने की पहल की थी.

News18Hindi
Updated: July 6, 2019, 1:16 PM IST
कास्ट नहीं क्लास पर BJP का ध्यान, पीएम मोदी के काशी दौरे के पीछे है ये बड़ा प्लान!
पीएम मोदी
News18Hindi
Updated: July 6, 2019, 1:16 PM IST
(प्रांशु मिश्रा)
भारतीय जनता पार्टी ने शनिवार से देश भर में अपना सदस्यता अभियान शुरू किया. करीब एक महीने के इस अभियान में बीजेपी 'कास्ट नहीं बल्कि क्लास' पर पर ध्यान दे रही है, यानी जातिगत आधार पर सदस्यता नहीं दी जाएगी बल्कि हर वर्ग को इसमें समेटने की कोशिश होगी.

बीजेपी के इस रुख में बदलाव लोकसभा चुनाव के बाद आया है. चुनावी नतीजों के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जातिगत समीकरणों से ऊपर उठ कर बात करने की पहल की थी. उन्होंने कहा था, ''जनता ने इन चुनाव में एक नई तस्वीर सामने रखी है. अब इस देश में दो जातियां बची हैं और वही रहने वाली हैं. देश इन दो जातियों पर ही केंद्रित होने वाला है. ये जाति के नाम पर खेल खेलने वालों पर बहुत बड़ा प्रहार हुआ है. हमें 21वीं सदी में इन दोनों को सशक्त करना है. ये दो शक्तियां देश से गरीबी का कलंक मिटा सकती हैं. इस सपने को लेकर हमें चलना है.'

बीजेपी इसी आधार पर देश भर में सदस्यता अभियान चलाने जा रही है. पार्टी का दावा है कि इस वक्त देश भर में उनके सदस्यों की कुल संख्या 10 करोड़ है. इसमें से 1.34 करोड़ सदस्य उत्तर प्रदेश से ही है. पार्टी उत्तर प्रदेश में 40 लाख नए सदस्य जोड़ना चाहती है. यहां बीजेपी का फोकस समाज के निचले तबके पर रहेगा. वो मिडिल क्लास और अपर क्लास से बाहर निकल कर गरीबों तक पहंचना चाहते हैं.



बीजेपी की नई रणनीति पर बात करते हुए पार्टी के एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, ''2019 चुनाव के नतीजों ने हमें ये यकीन दिलाया है कि जातिगत सीमाओं को हम पार कर चुके हैं. समाज के हर वर्ग ने हमें वोट दिया. इस बदलाव के पीछे की वजह है हमारी गरीबों के हक में शुरू की गई पॉलिसी. जिस किसी को भी इन सरकारी स्कीम का फायदा हुआ उन्होंने जाति को भूला कर बीजेपी को वोट दिया.''

उत्तर प्रदेश में बीजेपी के प्रवक्ता दिलीप श्रीवास्तव ने कहा, ''सत्ताधारी पार्टी के नाते हमने राज्य और केंद्र में नागरिकों से जाति के आधार पर कभी भी भेद-भाव नहीं किया. हमारी हर स्कीम जैसे कि आयुष्मन भारत, उज्वला या फिर हर किसी के लिए घर में इसकी छाप दिखती है.''
Loading...

सूत्रों के मुताबिक़ बनारस में समाज के छोटे तबके जैसे कि मोची, रिक्शा चालक और ठेला लगाने वाले लोगों को सबसे पहले सदस्यता दी जाएगी. देश के बाक़ी हिस्सों में भी यहीं पैटर्न फॉलो किया जाएगा.

ज्यादा से ज्यादा लोगों को पार्टी से जोड़ने के लिए राज्य में बूथों को 8-8 समूहों में बांटा गया है. हर बूथ में करीब 1800 वोटर हैं. लोकसभा चुनाव में बीजेपी को इस बार एसपी और बीएसपी के खिलाफ धमाकेदार जीत मिली थी. ऐसे में पार्टी अब सदस्यता अभियान के तहत उन इलाकों में ध्यान लगा रही है जहां एसपी और बीएसपी की परंपरागत मजबूत गढ़ रहे हैं.

सदस्यता अभियान के तहत बीजेपी की नज़र पिछड़े और दलित वर्गों पर टिकी हैं. खास कर यादव और जाटव, जोकि बीजेपी के साथ लगातार बनी रही. बीजेपी के नेता ये दावा करते है कि उन्हें 18 फीसदी वोट जाटव यादव के मिले. जबकि आमतौर पर बीएसपी को वोट देने वाले 16 फीसदी वोटर ने बीजेपी को वोट दिए.

हालांकि की लेप्ट के नेता इसे एक जुमला कहते हैं. CPI(M)के स्टेट कमेटी मेंमबर प्रोफेसर प्रदीप शर्मा ने कहा, ''बीजेपी को हिन्दुत्व और राष्ट्रवाद के नाम पर जीत मिली है न कि जाति के आधार पर.''

ये भी पढ़ें: जेपी नड्डा का दौरा क्या यूपी BJP में बड़े बदलाव का संकेत!

पांच दिन में 67,000 से अधिक श्रद्धालुओं ने की अमरनाथ यात्रा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 6, 2019, 12:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...