सरकार को उम्मीद-जून में घट जाएंगे मौत के आंकड़े, वैक्सीनेशन को भी मिलेगी रफ्तार

बीते 24 घंटों में भी मौत का आंकड़ा रिकॉर्ड 4,529 पर रहा. (प्रतीकात्मक तस्वीर: PTI)

बीते 24 घंटों में भी मौत का आंकड़ा रिकॉर्ड 4,529 पर रहा. (प्रतीकात्मक तस्वीर: PTI)

Covid-19 in India: 18-44 आयुवर्ग में उठी वैक्सीन की डिमांड ने उम्मीदें भी बढ़ाई हैं. कहा जा रहा है कि जून से टीकाकरण (Vaccination) के आंकड़े बढ़ सकते हैं. देश में इस आयुवर्ग के 5 करोड़ से ज्यादा लोगों ने वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामलों में तो गिरावट हो रही है, लेकिन मौत के आंकड़ों में बढ़त जारी है. हालांकि, सरकार को उम्मीद है कि जून से मौतों की संख्या में भी कमी आएगी और वैक्सीन की सप्लाई (Vaccine Supply) बढ़ने से टीकाकरण कार्यक्रम में भी तेजी आएगी. साथ ही राज्यों की तरफ से लॉकडाउन (Lockdown) में बरती जा रही कड़ाई भी कारगर साबित होने का अनुमान है. बीते 24 घंटों में भी मौत का आंकड़ा रिकॉर्ड 4,529 पर रहा.

नए संक्रमितों के मामले में 7 मई को आंकड़ा रिकॉर्ड 4.14 लाख मामलों तक पहुंच गया था. जबकि, 18 मई को यह संख्या गिरकर 2.63 लाख पर आ गई. इसके चलते बीते 7 दिनों का ग्रोथ रेट -3.1 प्रतिशत पर बना हुआ है. हालांकि, मौत के मामलों में बीते सात दिनों में 1.6 फीसदी की ग्रोथ रेट दर्ज की गयी है.

न्यूज18 से बातचीत में एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया, '15-20 दिनों के अंतराल को देखते हुए ताजा संक्रमणों के और मौतों के चरण में मौत की संख्या ज्यादा है. आज जान गंवाने वाले मरीजों में ज्यादातर वे लोग हैं, जो दो हफ्ते पहले संक्रमित हुए थे, जब नए मामले चरम पर थे. हमें उम्मीद है कि रोज हो रही मौत के मामले जून के शुरुआत में हो जाएंगे, क्योंकि नए संक्रमितों की संख्या अब कम हो रही है.'

इसके अलावा सरकार को जून से टीकाकरण के आंकड़े सुधरने की भी उम्मीद है. अनुमान लगाया जा रहा है कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक की तरफ से सप्लाई बढ़ने के बाद रोज करीब 25 लाख से ज्यादा वैक्सिनेशन हो सकेगा. इसके अलावा कुछ राज्य जून से लॉकडाउन में भी ढील दे सकते हैं. पाबंदियों के चलते भी वैक्सीन प्रक्रिया प्रभावित हो रही है, क्योंकि लोग टीका लगवाने के लिए घर से निकलने में संकोच कर रहे हैं. गुजरात और महाराष्ट्र में टाउते तूफान के कारण भी टीकाकरण पर असर पड़ने की बात कही जा रही है.
यह भी पढ़ें: भारत में सुधर रहे कोरोना के हालात, कोविड हॉटस्‍पॉट में भी दिख रही रिकवरी

युवाओं ने बढ़ाई उम्मीदें

18-44 आयुवर्ग में उठी वैक्सीन की डिमांड ने उम्मीदें भी बढ़ाई हैं. कहा जा रहा है कि जून से टीकाकरण के आंकड़े बढ़ सकते हैं. देश में इस आयुवर्ग के 5 करोड़ से ज्यादा लोगों ने वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है. 18 मई को हुए 12.8 लाख टीकाकरण में से करीब 40 फीसदी टीके 18-44 आयु वालों को दिए गए थे. 15 मई को केंद्रीय मंत्री हर्ष वर्धन ने मंत्रियों से बातचीत में कहा था कि रोज हो रहे '20-25 लाख टीकाकरण काफी कम हैं' और इसे बढ़ाए जाने की जरूरत है.




18-44 आयुवर्ग में 10 लाख से ज्यादा टीकाकरण करने वाला सबसे पहला राज्य राजस्थान है. इसके बाद बिहार, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और हरियाणा का नंबर आता है. वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इन 5 राज्यों में तेज ऑर्डर जारी करने के कारण वैक्सीन उपलब्ध हो गई थी. वहीं, जून से कुछ अन्य राज्य भी निर्माताओं से जल्द वैक्सीन प्राप्त करेंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज