अपना शहर चुनें

States

गुजराती वोटर्स को लुभाने का शिवसेना का फॉर्मूला, 'जलेबी-फाफड़ा' के साथ होगी बैठक

महाराष्ट्र के सीएम और  शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray)
महाराष्ट्र के सीएम और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray)

Maharashtra Corporation Election: शिवसेना नेता हेमराज शाह ने कहा, 'मैं मुंबई के गुजराती भाई-बहनों को यह याद दिलाना चाहता हूं कि वे बालासाहब ठाकरे ही थे, जिन्होंने दंगों के दौरान गुजरातियों की जान बचाने में मदद की थी.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 6, 2021, 12:31 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र में निगम चुनाव (Maharashtra municipal corporation elections) का रण शुरू होने को है. इसी बीच राजनीतिक पार्टियां राज्य में वोटर्स को लुभाने में लग गई हैं. राज्य में शिवसेना (Shivsena) ने गुजराती मतदाताओं (Gujarati Voters) को अपने पाले में लाने के लिए जलेबी-फाफड़ा (Jalebi-Fafda) का सहारा लिया है. सेना इस तीखे-मीठे खाने के जोड़ के जरिए चुनावों में फायदा उठाने की तैयारी कर रही है. इसके अलावा शिवसेना लगातार राज्य में भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर निशाना भी साध रही है.

मंगलवार को शिवसेना नेता हेमराज शाह ने गुजरातियों को खास न्योता दिया है. उन्होंने मुंबई में सभी गुजरातियों को एक साथ विशेष कार्यक्रम आयोजित करने का ऐलान किया है. मुंबई म्युनिसिपल चुनावों को प्रतिष्ठित और जरूरी बताते हुए उन्होंने कहा है कि यह खास बैठक मुंबई में मौजूद गुजराती मतदाताओं के बीच जागरूकता फैलाने के लिए बुलाई जा रही है.

शाह कहते हैं, 'सभी मतदाताओं को एकजुट कर रहे हैं. ऐसा मुंबई में करने में क्या बुराई है?' इस दौरान शाह ने विवादित ढांचा विध्वंस के बाद हुए दंगों का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा, 'मैं मुंबई के गुजराती भाई-बहनों को यह याद दिलाना चाहता हूं कि वे बालासाहब ठाकरे ही थे, जिन्होंने दंगों के दौरान गुजरातियों की जान बचाने में मदद की थी.'



यह भी पढ़ें: कोविड-19: महाराष्ट्र सरकार ने जिलाधिकारी को दिया नाइट कर्फ्यू लगाने का अधिकार
शाह ने बीजेपी को भी जमकर घेरा है. उनके कार्यालय से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, 'बीजेपी में संकीर्ण मानसिकता और नेतृत्व में अंहकार के कारण वे मराठी नेतृत्व को मौका नहीं देना चाहते थे. इसलिए उद्धव ठाकरे को उनसे सत्ता छीननी पड़ी.' आगे कहा गया है कि बीजेपी लीडरशिप बैचेन है. खास बात है कि 10 म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन्स के चुनाव होने हैं. इनमें बीएमसी भी शामिल है.

विज्ञप्ति में राज्य में जारी कोरोना वायरस महामारी के लेकर भी बीजेपी पर सवाल उठाए गए हैं. आगे लिखा है, 'बीजेपी इस बात को पचा नहीं पा रही है कि सीएम ने मुंबई को कोविड-19 के प्रकोप से बाहर निकाला और बेहतर ढंग से राज्य को संभाल रहे हैं. सामान्य और जमीनी स्तर पर काम करने के तरीके के चलते उन्होंने यह सुनिश्चित किया है कि सभी को बराबर समझा जाए. बीजेपी को इस बात को मानने में मुश्किल हो रही है. अब वे दावा कर रहे हैं कि मुंबई म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन से भगवा झंडा हटा देंगे.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज